close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

खतरे में है कृष्ण जन्मभूमि! आगरा के ताज महल पर भी मंडरा रहा खतरा

उत्तर प्रदेश के कई शहरों पर बड़ा खतरा मंडरा रहा है और यही विदेशी खतरा देश के कई शहरों पर भी मंडरा रहा है. क्योंकि ये विदेशी खतरा दिल्ली में भी मौजूद है और दिल्ली के आसपास बसे हर शहर में मौजूद है. हर छोटे शहर में ये विदेशी खतरा अपने पैर पसार चुका है. हम यहां घुसपैठिये का जिक्र कर रहे हैं.

खतरे में है कृष्ण जन्मभूमि! आगरा के ताज महल पर भी मंडरा रहा खतरा
काल्पनिक फोटो

नई दिल्ली: एक खतरा जिसका नाम घुसपैठिया है. जो दिन पर दिन अपना पांव तेजी से पसारता जा रहा है. ये खतरा पाकिस्तान से नहीं आया है, न ही ये खतरा चीन से आया है. ये खतरा उस देश से आया है, जिससे भारत के संबंध दोस्ताना हैं. दरअसल हम यहां बांग्लादेश से आए खतरे की बात कर रहे हैं. क्योंकि हजारों की तादात में बांग्लादेशी दिल्ली के इर्द गिर्द और दिल्ली में ही रह रहे हैं.

दिल्ली से महज 200 किलोमीटर दूर ये खतरा खड़ा हुआ है. बीते डेढ़ साल में पवित्र नगरी मथुरा से डेढ़ सौ बांग्लादेशी नागरिक पकड़े जा चुके हैं. जो अवैध तरीके से पहले बांग्लादेश से भारत में घुसे और फिर मथुरा में आकर बस गए. यहां तक कि इन बांग्लादेशी नागरिकों ने भारत की नागरिकता के दस्तावेज भी तैयार करा लिए हैं. इन्होंने अपने आधार कार्ड भी बनवा लिए हैं.

इन्हें पहचानना है बेहद मुश्किल

ये बांग्लादेशी नागरिक आपके आस पास ही घूम रहे होते हैं. इन्हें पहचाना नहीं जा सकता, ये कहीं भी हो सकते हैं और किसी भी पेशे में हो सकते हैं. ये अवैध घुसपैठिये भारत से पैसे कमाकर अपने देश में भी भेजते हैं. मथुरा से पकड़े गए बांग्लादेशी बैंक में खाते भी खुलवा चुके हैं. त्यौहारों से पहले नागरिकों के सत्यापन के लिए जब मथुरा की पुलिस निकली तो फिर से कुछ अवैध नागरिक पुलिस के हत्थे चढ़ गए.

मथुरा के एसएसपी शलभ माथुर ने बताया कि, ''लगभग डेढ़ सौ लोगों की गिरफ्तारी, 2018 से यहां अभियान चल रहा है उसके अंदर हुई है. और सभी को फॉरनर्स एक्ट के अंदर कार्रवाई की गई है. कुछ लोगों ने जो अपना फर्जी आधार कार्ड इत्यादि बनवाया था वो भी जानकारी प्रकाश में आई है. आधार बनवाने वालों को भी जेल भेजा है और इसके अंदर सुसंगत धाराओं में जेल भेजा गया है और कुछ लोगों को सजा भी हुई है.''

वाकई में ये किसी बड़े खतरे से कम नहीं है, हालांकि कार्रवाई अब भी जारी है. लेकिन सिर्फ मथुरा ही नहीं आपके आस पास भी ऐसे नागरिक हो सकते हैं. वो खतरा हो सकते हैं. कोई भी संदिग्ध दिखे तो चौकन्ने हो जाएं, संभल जाएं, पुलिस से सम्पर्क करें.