• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,35,433 और अबतक कुल केस- 6,48,315: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 3,94,227 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 18,655 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 60.72% से बेहतर होकर 60.80% हुई; पिछले 24 घंटे में 14,335 मरीज ठीक हुए
  • विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया है, यह विकास का युग है- प्रधानमंत्री मोदी
  • नॉन-कंटेनमेंट जोन में एएसआई के सभी केंद्रीय संरक्षित स्मारक 6 जुलाई 2020 से आगंतुकों के लिए खुलेंगे
  • #ICMR सार्वजनिक उपयोग के लिए स्वदेशी #COVID19 वैक्सीन 15 अगस्त तक लॉन्च करेगी
  • 775 सरकारी प्रयोगशालाओं और 299 निजी प्रयोगशालाओं में कोविड-19 के कुल परीक्षणों की संख्या 90 लाख के पार
  • कोविड मरीजों की रिकवरी दर 60% के पार; स्वस्थ होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों से 1.5 लाख से भी अधिक
  • एमएचआरडी: माध्यमिक पाठ्यक्रमों के लिए एकलव्य पर ऑडियो एमओओसी उपलब्ध है। विजिट करें
  • PSB द्वारा ECLGS के तहत स्वीकृत ऋण की राशि बढ़ कर 63,234.94 करोड़ रुपये हुई , 01-07-2020 तक 33,349.13 करोड़ रुपये के ऋण वितरित

पूरे देश में लॉकडाउन हुआ तो क्या होगा? जानिए यहां

देश के 19 राज्यों में लॉकडाउन कर दिया गया है. महाराष्ट्र और पंजाब में कर्फ्यू तक लगा दिए गए हैं. लेकिन लॉकडाउन के बावजूद लोग घर से बाहर निकल रहे हैं. कई लोग ऐसे हैं जो लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. हम आपको इस खास रिपोर्ट के जरिए समझाते हैं कि अगर पूरे देश लॉकडाउन हो जाता है तो क्या होगा?

पूरे देश में लॉकडाउन हुआ तो क्या होगा? जानिए यहां

नई दिल्ली: आज कोरोना के खिलाफ पूरी दुनिया जंग लड़ रही है. हमारे देश में भी कोरोना मरीजों का ग्राफ हर रोज बढ़ता जा रहा है और मौत के मामले भी बढ़ रहे हैं. देश में कोरोना के खिलाफ लॉकडाउन वाली लड़ाई शुरु हो चुकी है. कोरोना के खात्मे को लेकर केन्द्र और राज्य सरकारों ने मोर्चा संभाल लिया है. यूपी समेत कई राज्यों में लॉकडाउन किया गया है. लेकिन देश में बड़ी आबादी अब भी कोरोना के खतरे को नहीं समझ पाई है और लॉकडाउन को तोड़ रही है.

लॉकडाउन को क्यों तोड़ रहे हैं लोग?

जिस 'संकल्प' और 'संयम' के हथियार से कोरोना को हराने के लिए 130 करोड़ हिंदुस्तानियों ने जनता कर्फ्यू को सफल बनाया. अब वही जनता कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कमजोर पड़ती जा रही है. जिस तरह लोग अपनी और दूसरों की जान आफत में डाल रहे हैं क्या इसे देशद्रोह समझा जाए या फिर कोरोना को सीधे दावत देना.

जी का जंजाल बन चुका कोरोना वायरस तेजी से देश में पैर पसार रहा है. कोरोना के बढ़ते मरीजों के चलते देश के 75 जिलों और दस से अधिक राज्यों में सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान किया है. लेकिन लोग लॉकडाउन को सीरियस नहीं ले रहे हैं, लोग लगातार घरों से बाहर निकल कर रहे हैं. आलम ये है कि सड़कों पर गाड़ियों की लंबी-लंबी कतारें लगी दिखाई दे रही हैं.

लॉकडाउन का पालन नहीं, तो होगा एक्शन

लॉकडाउन का पालन नहीं करने वालों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सख्ती जताई है. पीएम के ट्वीट के बाद केंद्र सरकार की तरफ से अब एक निर्देश जारी किया गया है, जिसके तहत अगर कोई लॉकडाउन का पालन नहीं करता है तो उसपर कानूनी एक्शन लिया जा सकता है. 

आपको बता दें कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान समेत देश के 10 से अधिक राज्यों में लॉकडाउन की स्थिति है. लेकिन कई जगहों पर लोग सड़कों पर दिखे, दिल्ली-नोएडा एक्सप्रेस-वे पर तो सोमवार सुबह ही जाम लग गया था. प्रशासन भी लोगों से अपील कर रहा है कि वो घर में ही सुरक्षित रहें और बेवजह बाहर ना निकलें.

कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते कहर की वजह से अब पूरा भारत बंदी बन चुका है. कई लोग ऐसे हैं जो अब तक ये नहीं समझ पाए हैं कि आखिर लॉकडाउन होता क्या है. 

लॉकडाउन आपका 'सुरक्षा कवच' है

सबसे पहले ये समझ लीजिए कि लॉकडाउन से डरने की जरूरत तो बिल्कुल नहीं है. आसान शब्दों में समझा जाए तो लॉकडाउन का मतलब यही है कि आप जहां पर हैं, वहीं रहें. इसमें आपको किसी बिल्डिंग, इलाके, या राज्य, देश तक सीमित किया जा सकता है. 

पूरे देश में लॉकडाउन हुआ तो क्या होगा?

लॉकडाउन के दौरान सामान्य तौर पर जरूरी चीजों की सप्लाइ नहीं रोकी जाती. जैसे किराना स्टोर, मेडिकल से जुड़ी चीजें, बैंक चलते रहते हैं. यातायात के सार्वजनिक साधनों को इसमें बंद किया जाता है. लॉकडाउन के दौरान लोग अपने घरों से तभी निकलें, जब बहुत जरूरी हो. भारत में प्राइवेट कंपनियों को सख्त ऑर्डर है कि वे कर्मचारियों से घर से काम करवाएं. 

दिहाड़ी मजदूरों को केंद्र और राज्य सरकार ने अपनी तरफ से आर्थिक सहायता देने की बात कही है. यह भी आदेश है कि कंपनियां इस दौरान सैलरी नहीं काट सकतीं.

इसे भी पढ़ें: कोरोना के इलाज में कितनी कारगर होगी मलेरिया की दवा?

मतलब ये कि लॉकडाउन वो सुरक्षा कवच है जो आपको कोरोना वायरस की चपेट में आने से बचाएगा. इसलिए ज़ी मीडिया की अपील है कि बेवजह घरों से बाहर ना निकलें और अपनी और अपने परिवार की सेहत का ख्याल रखें.

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में भी लॉकडाउन के बाद लगा कर्फ्यू, नियम पालन नहीं करने पर होगी सख्ती

इसे भी पढ़ें: कोरोना पर कन्फ्यूजन दूर करने वाली रिपोर्ट, जानिए 8 बड़ी सच्चाई