कौन हैं ऑस्ट्रेलिया की जेल में बंद विशाल जूद? जिनकी रिहाई का मुद्दा सीएम खट्टर ने उठाया

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से बात कर ऑस्ट्रेलिया की एक जेल में बंद विशाल जूद की रिहाई के लिए उनसे हस्तक्षेप करने को कहा है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jun 23, 2021, 09:55 PM IST
  • सिडनी, ऑस्ट्रेलिया की जेल में बीते तीन महीनों से बंद हैं विशाल
  • भारत से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक हो रही है उनकी रिहाई की मांग

ट्रेंडिंग तस्वीरें

कौन हैं ऑस्ट्रेलिया की जेल में बंद विशाल जूद? जिनकी रिहाई का मुद्दा सीएम खट्टर ने उठाया

नई दिल्लीः ऑस्ट्रेलिया की एक जेल में बीते कुछ दिनों से एक भारतीय (हरियाणा निवासी) बंद है. दिलचस्प यह है कि इस भारतीय की रिहाई के समर्थन में ऑस्ट्रेलिया में प्रदर्शन और सड़कों पर जुलूस निकल रहे हैं.

विशाल जूद नाम के इस युवक को जल्द रिहा करने को लेकर लोग लगातार मांग कर रहे हैं, लेकिन अभी तक इस मामले में कोई हरकत न होते देख हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने भी इस मुद्दे को उठाया है. 

सीएम खट्टर ने की हस्तक्षेप की मांग

जानकारी के मुताबिक, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से बात कर ऑस्ट्रेलिया की एक जेल में बंद विशाल जूद की रिहाई के लिए उनसे हस्तक्षेप करने को कहा है.

बताया गया कि 24 वर्षीय विशाल जूद को इसी साल तब गिरफ्तार किया गया था जब सिडनी में खलिस्तानी समर्थक देश के विषय गलत बयानी कर रहे थे और उनके कार्य देशविरोधी थे. इस दौरान खलिस्तान समर्थक सिखों से हुई उनकी झड़प उनके गिरफ्तार होने और फिर जेल जाने की वजह बन गई. 

यह भी पढ़िएः साढ़े नौ साल की सजा काट कर रिहा होंगे ओपी चौटाला, दिल्ली सरकार के इस आदेश का मिला फायदा

रोर समुदाय से ताल्लुक रखते हैं विशाल

रोर समुदाय से ताल्लुक रखने वाले जूद की रिहाई के लिए करनाल और हरियाणा जिलों में प्रदर्शन हुए हैं. राज्य के सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग निदेशालय से एक ट्वीट में कहा गया, “हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से बात कर हरियाणवी युवक विशाल जूद की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए उनले हस्तेक्षप करने को कहा है जो फिलहाल ऑस्ट्रेलिया की जेल में बंद है.”

ऑस्ट्रेलिया में भी हो रही रिहाई की मांग

ट्वीट में यह भी कहा गया, “सिडनी में तिरंगे के मान के लिए, हरियाणा के युवक विशाल जूद ने राष्ट्र विरोधी ताकतों से दृढ़ता से लड़ाई की और तिरंगे का अपमान नहीं होने दिया. विशाल के समर्थन में ऑस्ट्रेलिया में कई सारे प्रदर्शन हो रहे हैं.

विशाल के समर्थकों का दावा है कि राष्ट्र विरोधी ताकतों ने उसे पीटा और बाद में एक झूठे मामले में उसे फंसाया जिसके बाद उसे जेल भेज दिया गया. विदेश मंत्री जयशंकर ने युवक की रिहाई के लिए कदम उठाने को लेकर सीएम खट्टर को आश्वासन दिया है. 

कौन हैं विशाल जूद, जानिए

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फरवरी में सिडनी के हैरिस पार्क में विशाल और उसके कुछ साथियों ने तिरंगा लहराकर दिल्ली में 26 जनवरी को हुई लाल किला हिंसा का विरोध किया था. उसका यह विरोध वहां मौजूद खलिस्तानी समर्थकों को पसंद नहीं आया और विशाल की उनसे झड़प हो गई.

24 साल का विशाल हरियाणा के कुरुक्षेत्र का है और वहां पढ़ाई करता है. विशाल की रिहाई के लिए हरियाणा के युवकों ने #JusticeForVishalJood ट्रेंड के साथ बड़ी संख्या में युवा विशाल की रिहाई की मांग कर रहे हैं. 

पुराने मराठे हैं रोर समुदाय के लोग

भारत के इतिहास में रोर समुदाय का बड़ा योगदान रहा है. यह समुदाय असल में मराठा लोग हैं और इनका युद्ध का इतिहास रहा है. 1761 में मराठा सेनापति सदाशिव राव भाऊ और विदेशी आक्रांता अहमदशाह अब्दाली के बीच हुई पानीपत की तीसरी लड़ाई के बाद युद्ध में आया बहुत बड़ा मराठा समुदाय इधर-उधर हो गया. इनमें से कई यहीं बस गए.

आज के दौर में सोनीपत, पानीपत, करनाल में ये सभी लोग हैं और इनके गांव-घर हैं. विशाल का उपनाम जूद भी युद्ध से मिलता-जुलता है. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़