close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

क्या राहुल गांधी को हार्दिक पटेल के भी पार्टी छोड़ने का डर सता रहा है?

राहुल गांधी ने गुजरात में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल से अनौपचारिक मुलाकात की. यह मीटिंग शहर के एक रेस्टोरेंट में तब हुई, जब राहुल गांदी अहमदाबाद की एक अदालत में पेश होने के लिए गए थे.   

क्या राहुल गांधी को हार्दिक पटेल के भी पार्टी छोड़ने का डर सता रहा है?
राहुल और हार्दिक की अचानक मुलाकात

अहमदाबाद: मानहानि का सामना कर रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी अहमदाबाद के रेस्टोरेंट में हार्दिक पटेल के साथ देखे गए हैं. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह अनर्गल आरोप लगाने के खिलाफ राहुल गांधी पर मानहानि का मुकदमा चल रहा है इसी सिलसिले में राहुल गांधी पेशी के लिए अहमदाबाद पहुंचे थे. 

क्या हार्दिक पटेल को साधने की कोशिश
गुजरात में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो चुके अल्पेश ठाकोर के बाद पार्टी की निगाहें हार्दिक पटेल पर हैं. राहुल गांधी नहीं चाहते कि हार्दिक पटेल किसी भी तरह भाजपा के लच में फंसें. इसलिए कांग्रेस नेता किसी भी कीमत पर हार्दिक पटेल को कमतर नहीं करना चाहती. कांग्रेस यह बात जानती है कि हार्दिक पटेल के कांग्रेस छोड़ने की स्थिति में राज्य में उसकी स्थिति बहुत ही नाजुक हो जाएगी और तीन युवा तिकड़ी ( हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी) होने के बावजूद वह भाजपा को सत्ता से बेदखल नहीं कर सकी थी. अब तो अल्पेश ठाकोर तो कांग्रेस छोड़ भी चुके हैं. जिग्नेश मेवाणी का झुकाव वामपंथ की तरफ है. 

गुजरात में भाजपा की जड़ें मजबूत
दरअसल कांग्रेस को डर है कि भाजपा हार्दिक पटेल को इमोशनल ब्लैकमेल कर सकती है. भाजपा हार्दिक पटेल से कह सकती है कि तीनों( हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी) के भारी विरोध और सत्ता विरोधी लहर के बावजूद भाजपा सत्ता में लौटने में कामयाब रही. कांग्रेस नेताओं द्वारा बार-बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर बेबुनियाद आरोप लगाने के बावजूद कांग्रेस गुजरात में कई दशकों से सत्ता से बाहर है. इसलिए हार्दिक जैसे नेता अपना रवैया छोड़कर भाजपा में आ जाएं. क्योंकि गुजरात में पीएम मोदी के कारण भाजपा की जड़ें बेहद मजबूत हैं, ऐसे में हार्दिक जैसे नेता उसे उखाड़ नहीं सकते. 

पार्टी में बंटवारा न कर दें
कांग्रेस को एक डर यह भी है कि हार्दिक पटेल अपने समर्थक पाटीदार विधायकों के साथ कांग्रेस में बंटवारा न करवा दें. इस स्थिति में पार्टी का वर्तमान स्थिति में लौटना मुश्किल हो जाएगा. शायद यही वजह है कि राहुल गांधी ने हार्दिक पटेल से रेस्टोरेन्ट में औपचारिक मुलाकात की.