• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 6,19,088 और अबतक कुल केस- 20,27,075: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 14,27,006 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 42,518 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.98% से बेहतर होकर 68.32% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 48,900 मरीज ठीक हुए
  • पीएम मोदी ने नई शिक्षा नीति को गेम चेंजर के रूप प्रशंसा की; इसे नए भारत की नींव बताया
  • चुनने, बदलाव और कौशल बढ़ाने का लचीली व्यवस्था देता है, संस्थानों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान अधिक स्वायत्तता प्रदान करता है
  • शिक्षण को खोज-आधारित और विश्लेषण-आधारित मोड में ले जाएगा
  • आत्मनिर्भर ऐप चैलेंज का ग्रैंड फिनाले आज आयोजित, इस दौरान फाइनलिस्ट ने देश में विकसित सर्वश्रेष्ठ भारतीय ऐप का प्रदर्शन किया
  • देश में जनवरी में 1 नैदानिक प्रयोगशाला थी जिसकी संख्या 1370 हो गई; जो पिछले 3 दिनों तक 6 लाख से अधिक जांच करने में सक्षम है
  • दिल्ली एयरपोर्ट ने एक पोर्टल का विकास किया जो देश भर में अंतर्राष्ट्रीय आगमन की प्रक्रिया को आसान और संपर्क-विहीन बनाएगा
  • जल जीवन मिशन के तहत अब 25% घरों में नल से पीने का पानी पहुंचता है, 2024 तक हर ग्रामीण तक पहुंचने का लक्ष्य है: जल शक्ति मंत्री

Yes BanK- पेंटिंग के लिए राणा कपूर को लिखा प्रियंका का खत भी सामने आया

प्रियंका वाड्रा की ओर से इस खत में लिखा गया है कि 'श्री एमएफ हुसैन का पेंट किया मेरे पिता श्री राजीव गांधी का पोट्रेट खरीदने के लिए आपका शुक्रिया. यह पोट्रेट 1985 में कांग्रेस के शताब्दी समारोह के दौरान उन्हें (राजीव गांधी) भेंट किया गया था. यह मेरे स्वामित्व में मेरे पास मौजूद था.

Yes BanK- पेंटिंग के लिए राणा कपूर को लिखा प्रियंका का खत भी सामने आया

नई दिल्लीः YES BANK क्राइसिस से अब सीधे गांधी परिवार का नाम भी जुड़ रहा है. दरअसल कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा की एक चिट्ठी सामने आई है. इस पत्र के जरिए उनके पिता व पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का एक पोट्रेट Yes Bank के फाउंडर राणा कपूर को 2 करोड़ रुपये में बेचे जाने की पुष्टि होती है.

यह पोट्रेट मशहूर पेंटर व चित्रकार एमएफ हुसैन ने बनाकर राजीव गांधी को 1985 में भेंट किया था.  कई मीडिया संस्थानों के हवाले से सामने आया है कि प्रियंका वाड्रा ने यह पत्र 4 जून 2010 को राणा कपूर को लिखा था. 

पढ़िए, यह लिखा है पत्र में
प्रियंका वाड्रा की ओर से इस खत में लिखा गया है कि 'श्री एमएफ हुसैन का पेंट किया मेरे पिता श्री राजीव गांधी का पोट्रेट खरीदने के लिए आपका शुक्रिया. यह पोट्रेट 1985 में कांग्रेस के शताब्दी समारोह के दौरान उन्हें (राजीव गांधी) भेंट किया गया था. यह मेरे स्वामित्व में मेरे पास मौजूद था.

'इसी खत में प्रियंका ने आगे लिखा, 'मैं 3 जून 2010 को लिखे आपके पत्र और HSBC बैंक के आपके खाते से 2 करोड़ रुपये के चेक (3 जून 2010) के मिलने की पुष्टि करती हूं जो कि पेंटिंग के फुल और फाइनल भुगतान से जुड़ा था.'

मिलिंद देवड़ा ने कराई थी डील
पत्र में प्रियंका ने राणा कपूर की तारीफ की हैं. दरअसल, मशहूर पेंटर एमएफ हुसैन ने 1985 में राजीव गांधी को पेंटिंग तोहफे में दी थी. इसी पेंटिंग को राणा कपूर ने दो करोड़ रुपये देकर खरीदी थी, जिसे लेकर प्रियंका ने पत्र लिखकर राणा कपूर को शुक्रिया कहा है. सामने आए इस पत्र में राणा की ओर से दिए गए चेक का नंबर भी दर्ज हैं.

इस पत्र से यह भी जाहिर होता है की पेंटिंग की यह डील तब कांग्रेस सांसद मिलिंद देवड़ा ने कराई थी. यह भी सामने आया है कि राणा कपूर ने जब राजीव गांधी की इस पेंटिंग को खरीदने की इच्छा जताई तो मिलिंद देवड़ा ने गांधी परिवार तक उनकी पहुंच बनवाई. 

पेंटिंग और भ्रष्टाचार का क्या कनेक्शन है, प्रियंका गांधी के पहले ममता पर भी लगे थे आरोप

पोट्रेट कांग्रेस की संपत्ति, प्रियंका की नहींः ED
प्रवर्तन निदेशालय (ED) का दावा है कि पेंटिंग प्रियंका गांधी की नहीं बल्कि कांग्रेस पार्टी की संपत्ति थी. ED का यह भी दावा है कि राणा कपूर ने जो भुगतान प्रियंका गांधी को किया वो पैसा अपराध की कमाई से जुटाया हुआ था. राणा कपूर ने यह पेंटिंग कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा की ओर से 1 मई 2010 को लिखे खत के बाद खरीदी थी.

इस खत में देवड़ा ने राणा कपूर को लिखा, 'श्री राजीव गांधी की पेंटिंग के संबंध में, जिसे आपने खरीदने की इच्छा जताई है, मैं सुझाव देना चाहूंगा कि आप श्रीमती प्रियंका गांधी को सीधे इस संदर्भ में अपनी दिलचस्पी को बताते हुए लिखें.'

बेंगलुरु में सिंधिया के विधायकः तो क्या MP का सियासी नाटक सिंधिया का ही लिखा हुआ है

पेंटिंग की असली कीमत कोई नहीं जानता
अधिकारियों के मुताबिक ED ने राणा कपूर की ओर से प्रियंका गांधी से पेंटिंग खरीदे जाने के संबंध में जांच शुरू की है. सूत्र के अनुसार 'कोई नहीं जानता कि पेंटिंग की असली कीमत क्या है फिर भी राणा कपूर ने इसे 2 करोड़ रुपये में खरीदा. राणा कपूर ने संपत्तियों में जिस भी पैसे का निवेश किया वो अपराध की कमाई से जुड़ा था.

यही बात 2 करोड़ रुपये के लिए भी लागू होती है जिससे यह पेंटिंग खरीदी गई.' दावा है कि राणा कपूर के पास 40 से ज्यादा शानदार पेंटिंग्स का कलेक्शन है. पोट्रेट खरीदते समय राणा कपूर के पास उसके वैल्युएशन को लेकर विशेषज्ञों के सर्टिफिकेट मौजूद हैं. लेकिन प्रियंका गांधी से जो पेंटिंग खरीदी गई उसके वैल्युएशन का सर्टिफिकेशन नहीं है.