ZEE मीडिया EXCLUSIVE: राम मंदिर निर्माण को लेकर जल्द बड़ा ऐलान कर सकती है सरकार

राम मंदिर के निर्माण को लेकर सूत्रों के हवाले से ज़ी मीडिया को बड़ी जानकारी हासिल हुई है. खबर है कि केंद्र सरकार कुछ दिनों के भीतर ही राम मंदिर निर्माण के लिए बनने वाले ट्रस्ट का ऐलान कर सकती है.

ZEE मीडिया EXCLUSIVE: राम मंदिर निर्माण को लेकर जल्द बड़ा ऐलान कर सकती है सरकार

नई दिल्ली: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर एक एक्सक्लूसिव जानकारी ज़ी मीडिया को मिली है. केंद्र सरकार जल्द ही राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा ऐलान करने वाली है. अगले कुछ दिनों के अंदर राम मंदिर निर्माण के लिए बनने वाले ट्रस्ट का ऐलान केंद्र सरकार कर सकती है. साथ ही राम मंदिर निर्माण की रूप रेखा भी पेश हो सकती है.

राम मंदिर पर ज़ी मीडिया के पास EXCLUSIVE जानकारी

ज़ी मीडिया के पास एक्सक्लूसिव जानकारी है कि राम मंदिर ट्रस्ट में कौन शामिल हो सकता है.

  • राम मंदिर ट्रस्ट की घोषणा जल्द होने वाली है
  • विश्व हिंदू परिषद के मॉडल के आधार पर ही राम मंदिर बनेगा
  • वीएचपी द्वारा तराशे गए पत्थरों से ही राम मंदिर बनेगा
  • सूत्रों के मुताबिक राम मंदिर ट्रस्ट में 11 सदस्य होंगे
  • ट्रस्ट में गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव, अयोध्या के जिलाधिकारी होंगे
  • ट्रस्ट में राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास ही शामिल होंगे
  • ट्रस्ट में निर्मोही अखाड़ा का एक सदस्य भी शामिल होगा 
  • वीएचपी के चंपत राय को भी ट्रस्ट में जगह मिल सकती है
  • चैत्र नवरात्र के दौरान राम मंदिर का निर्माण शुरू हो सकता है

अप्रैल में शुरू हो सकता है मंदिर का निर्माण

जल्द ही राम मंदिर निर्माण पर ट्रस्ट की घोषणा हो जाएगी. सूत्रों का कहना है कि राम मंदिर के लिए ट्रस्ट में 11 सदस्य हो सकते हैं. इस ट्रस्ट में  गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव, अयोध्या के जिलाधिकारी, राम जन्मभूमिक न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास, निर्मोही अखाड़ा का एक सदस्य शामिल होगा. साथ ही ये भी जानकारी मिली है कि वीएचपी के चंपत राय को भी ट्रस्ट में जगह मिल सकती है. सूत्रों के अनुसार कोशिश है कि हिन्दू कैलेंडर के अनुसार वर्ष प्रतिपदा यानि चैत्र नवरात्र के दौरान राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाए. यानी 25 मार्च से 2 अप्रैल के बीच राम मंदिर निर्माण की शुरुआत हो सकती है.

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में कैसा होगा भव्य राम मंदिर?

सूत्रों के अनुसार राम मंदिर का निर्माण विहिप के पुराने नक्शे के अनुसार ही होगा. और उसमे विहिप द्वारा अभी तक तराशे गए पत्थरो का इस्तेमाल भी होगा. सूत्रों के अनुसार राम मंदिर के निर्माण के लिये सरकार से एक पैसा नहीं लिया जायेगा. बल्कि जनभागीदारी के तहत पूरी दुनिया में फैले हिन्दुओं और राम भक्तों से दान में मिले पैसे से किया जायेगा. इसके लिये लोगों से पैसा इकठ्ठा करने के लिये अलग बैंक अकाउंट खोला जाएगा, जिसमें online पैसा भी जमा किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का पूरा फैसला