गुजरात: जन्म लेते ही 44 नवजात शिशु पाए गए कोरोना पॉजिटिव

भारत में महाराष्ट्र के बाद गुजरात कोरोना वायरस के संक्रमण से सबसे अधिक तबाह हो रहा है. इस कोरोना के संकटकाल में ऐसे ऐसे घटनाक्रम सुनने में आ रहे हैं जो लोगों को हतप्रभ कर रहे हैं.  

गुजरात: जन्म लेते ही 44 नवजात शिशु पाए गए कोरोना पॉजिटिव

गांधीनगर: देश में कोरोना वायरस की वजह से केंद्र सरकार और राज्य सरकारों की नींद उड़ी हुई है. सबका एक मात्र उद्देश्य है कि कुछ भी करके इस संकट को खत्म किया जाए.  लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों के मामले लोगों को डरा रहे हैं. भारत में सबसे अधिक प्रकोप महाराष्ट्र में है और उसके बाद गुजरात दूसरे नंबर पर है. गुजरात में कोरोना संक्रमित 172 महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया, जिनमें से 44 नवजात संक्रमित पाए गए. इससे डॉक्टरों के भी होश उड़ गए क्योंकि सामुदायिक संक्रमण की वजह से इन नवजातों की माताओं को कोरोना का संक्रमण हुआ.

गर्भवती मां के द्वारा बच्चे में फैला संक्रमण

विशेषज्ञों का कहना है कि ज्यादातर महिलाएं 20 से 30 साल के आयु वर्ग की हैं, जिनमें बीमारी नहीं पाई गई.  कुछ बच्चों को छोड़कर ज्यादातर बच्चे संक्रमण से बच गए. डॉक्टर मेहता ने कहा कि मां से बच्चे में वायरल संक्रमण की ट्रांसफर की पहचान वर्टिकल ट्रांसमिशन के तौर पर हुई, जिसके बारे में स्टडी की जरूरत है. बच्चे के मानक जैसे कि उसका पॉजिटिव या निगेटिव रहना, कब ऐंटीबॉडी डिवेलप हुआ, उसे क्या परेशानी हुई की स्टडी जरूरी है, जो कि सभी केस में नहीं हुआ.

ये भी पढ़ें- पहली जून से देश में खुलना शुरु हो जाएगा लॉकडाउन, 30 तारीख तक होगा खत्म

महिलाओं का कोरोना टेस्ट आया था पॉजिटिव

गुजरात में गर्भवती महिलाओं का कोरोना टेस्ट किया गया था. इसमें कई महिलाओं को वायरस से संक्रमित पाया गया जिससे डॉक्टरों और महिलाओं के परिजनों की चिंताएं बढ़ गयी. हैरत की बात ये है कि इनमें से अधिकतर में कोरोना का कोई लक्षण नहीं पाया गया लेकिन वे कंटेनमेंट जोन में रहीं और संभवत: कम्युनिटी ट्रांसफर से उनमें वायरल संक्रमण फैला. अहमदाबाद के सिविल हॉस्पिटल, एसवीपी, सोला सिविल, शारदाबेन और एलजी हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमित 172 महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया, जिनमें से 44 नवजात संक्रमित पाए गए.

ये भी पढ़ें- इस तरह खत्म होगा टिड्डियों का प्रकोप, फसलों को बचाने का नया तरीका

आपको बता दें कि सिविल हॉस्पिटल में डॉक्टर अजय देसाई ने बताया है कि हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमित 12 महिलाओं की डिलिवरी हुई, जिनमें से एक भी बच्चे में संक्रमण नहीं पाया गया. उन्होंने कहा कि कुछ केसों में प्रेग्नेंसी की वजह से कॉम्प्लेक्सिटी डिवेलप हो गई क्योंकि यह कंडीशन ही इम्युनो सप्रेसेंट है.

गुजरात में कोरोना संक्रमण की स्थिति

गुजरात में कोरोना से संक्रमण के अब तक 16 हजार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं. प्रदेश में कोरोना के कारण अब तक 980 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. देशभर में कोरोना के मरीजों की तादाद देश में 1 लाख 75 हजार से अधिक पहुंच गई है. अब तक करीब 5 हजार लोगों की जान जा चुकी है. गुजरात में अब तक कुल 8,609 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं.