कांग्रेस की आपसी लड़ाई मेरे प्रदेश का बंटाधार करेगी: शिवराज

मध्यप्रदेश में कांग्रेसियों के आपसी सिर-फुटौव्वल वाले हालात पर शिवराज ने अनुरोध किया कि कृपा कर रहम कीजिये मेरे प्रदेश पर..नुकसान तो मेरे प्रदेश का ही होना है आपकी आपसी लड़ाई में..  

कांग्रेस की आपसी लड़ाई मेरे प्रदेश का बंटाधार करेगी: शिवराज

नई दिल्ली. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और लाडले कांग्रेसी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच चल रहा है टकराव और इस टकराव पर पूर्व सीएम और बीजेपी नेता शिवराज सिंह चौहान ने व्यंग्य किया है.  उन्होंने अनुरोध पूर्वक कहा है कि कांग्रेस के नेता अपनी लड़ाई कम करें और मध्य प्रदेश पर रहम करें.

 

कांग्रेसी आलाकमान को हो गई टेंशन 

मध्य प्रदेश कांग्रेस में चल रही मार-धाड़ से एक तरफ तो कांग्रेस आलाकमान को चिंता हो गई है दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के नेताओं को भी अवसर मिल गया है कि मौके को लपक लें. हुआ भी वही.  पूर्व मुख्यमंत्री और सीनियर बीजेपी नेता शिवराज सिंह चौहान ने ज्योतिरादित्य सिंधिया और मुख्यमंत्री कमलनाथ के पंगे पर व्यंग्य भी किया है और विनती भी. उन्होंने कहा कि आपसी लड़ाई में मेरे 'राज्य का बंटाधार तो न करो. 

''कांग्रेस की तो परंपरा ही है सिरफुटौव्वल''

जैसा कि सब जानते हैं कि दोनों बड़े कांग्रेसी नेताओं कमलनाथ और सिंधिया के बीच लंबे वक्त से खींचतान जारी है. इसका फायदा उठाते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'कांग्रेस की तो परंपरा ही है सिरफुटौव्वल. मुझे तो कांग्रेस का संस्कार और स्वभाव ही अजीब लगता है.'

 

''बेगानी शादी में अब्दुला दीवाना''

 दिल्ली चुनावों में हार कर भी बीजेपी के हारने पर कांग्रेस के खुश होने को लेकर शिवराज ने व्यंग्य किया. उन्होंने कहा कि एक बार एक व्यक्ति को वरदान मिला कि एक चीज मांगते तो उसके दुश्मन को दो मिलेंगी. तब उस व्यक्ति ने द्वेषवश अपनी एक आँख फूटने का वरदान मांगा ताकि उसके दुश्मन की  दोनों आंखें फूट जाएं!

ये भी पढ़ें. क्या मर्दों को खड़े हो कर मूत्र विसर्जन नहीं करना चाहिए?