जामिया करता रहा CAA का विरोध, उधर वेबसाइट हो गयी हैक

जामिया विश्वविद्यालय के छात्र इस समय दिल्ली में CAA का विरोध कर रहे हैं. इस बीच उनके विश्वविद्यालय की वेबसाइट हो गयी. हैकर ने लिखा कि मैं छात्रों का समर्थन करता हूं.

जामिया करता रहा CAA का विरोध, उधर वेबसाइट हो गयी हैक

दिल्ली: जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी की वेबसाइट को गुरुवार को हैक कर लिया गया और इस पर संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों की हिमायत में एक संदेश लगा दिया गया. संदेश में कहा गया कि वेबसाइट को ‘डार्क नाइट’ ने हैक किया है जो जामिया के छात्रों का समर्थन करता है.जय हिंद.

नागरिकता कानून का विरोध कर रहा है जामिया

आपको बता दें कि नागरिकता संशोधन बिल लोकसभा में 9 दिसंबर, 2019 को पास होने के बाद 11 दिसंबर, 2019 को राज्यसभा में गृह मंत्री अमित शाह  ने पेश किया जहां एक लंबी बहस के बाद यह बिल पास हो गया. इस बिल के पास होने और राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद यह नागरिकता संशोधन कानून बन गया. इस कानून के विरोध में असम, बंगाल समेत देश के कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन तेज हो गए. 15 दिसंबर को जामिया में इस कानून के विरोध में प्रदर्शन के दौरान हिंसा हुई. इस प्रदर्शन में कई छात्रों समेत पुलिस के कुछ जवान भी घायल हो गए.

रामचंद्र गुहा हिरासत में लिए गए 

गुरुवार को बेंगलुरु में हो रहे विरोध प्रदर्शनों के बीच मशहूर इतिहासकार रामचंद्र गुहा को पुलिस ने हिरासत में ले लिया गया था. उन्‍हें भी टाउन हॉल से हिरासत में लिया गया. खुद को हिरासत में लिए जाने पर गुहा ने कहा कि यह 'बिल्कुल अलोकतांत्रिक है' कि पुलिस शांतिपूर्ण तरीके से भी प्रदर्शन नहीं करने दे रही है.

UP के इन जिलों में बंद है इंटरनेट

योगी सरकार ने प्रदेश के आठ जिलों में इंटरनेट 24 घंटे के लिये बंद कर दिया है.  मेरठ, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, अलीगढ़, बरेली, प्रयागराज और संभल, पीलीभीत आदि में इंटरनेट बद कर दिया है. सोशल मीडिया साइट्स पर नागरिकता कानून को लेकर गलत-गलत अफवाहें फैलाई जा रही हैं, जिसकी जद में आकर लोग हिंसक प्रदर्शन पर उतर जा रहे हैं. सरकार ने इसीलिये ये फैसला किया है.

जामिया के छात्र कर रहे हैं नागरिकता कानून का विरोध

जामिया मिल्लिया इस्लामिया में पुलिस कार्रवाई और विवादास्पद नागरिकता (संशोधन) कानून के खिलाफ सोमवार को देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हुए. प्रदर्शन का समर्थन नेता और सामाजिक कार्यकर्ता भी करते नजर आए. कहीं-कहीं ये प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहे, तो कहीं इसने हिंसक रूप ले लिया. वहीं, जामिया हिंसा में दो छात्र घायल हो गए हैं, जिसे पुलिस बता रही है कि गोली लगने से ऐसा हुआ है.

ये भी पढ़ें- हैम रेडियो ने 57 साल पहले बिछड़े भाईयों को मिलाया