• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,01,497 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,07615: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,00,303 जबकि अबतक 5,815 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने 4155 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 57+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुँचाया गया
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री ने #AatmaNirbharBharat के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए 3 योजनाओं की शुरुआत की
  • #AatmaNirbharBharat के लिए #MakeInIndia को प्रोत्साहित करने के लिए DPIIT ने पब्लिक प्रोक्योरमेंट ऑर्डर, 2017 में संशोधन किया
  • एंटी-कोविड ​​ड्रग मॉलेक्यूल के फास्ट-ट्रैक विकास के लिए SERDB-DST ने IIT (BHU) वाराणसी में अनुसंधान के लिए सहयोग को मंजूरी दी
  • ट्राइफेड कोविड ​​-19 के कारण संकट में पड़े आदिवासी कारीगरों को हरसंभव सहायता प्रदान करेगी
  • पीएसए और डीएसटी ने संयुक्त रूप से राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति 2020 के निर्माण की प्रक्रिया की शुरुआत की
  • कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने विभिन्न बागवानी फसलों के लिए 2019-20 का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी किए हैं
  • कोविड के लक्षण विकसित होने पर, घबराएं नहीं, तुरंत 1075 पर कॉल करें #IndiaFightsCorona #BreakTheStigma

सऊदी और फिलीपींस की तरह भारत में भी कठोर कानून की 'आवश्यकता'

फिलीपींस में लॉकडाउन तोड़ने पर सीधे गोली मारने का आदेश है, तो वहीं सऊदी में कोरोना फैलाने वालों के लिए मौत की सजा है. जमातियों की करतूत को देखते हुए भारत में भी ऐसे ही सख्त कानून की जरूरत महसूस होने लगी है.

सऊदी और फिलीपींस की तरह भारत में भी कठोर कानून की 'आवश्यकता'

नई दिल्ली: देश में कोरोना मरीजों की तादाद बढ़कर साढ़े तीन हजार से ऊपर हो गई है. हैरान करने वाली बात ये है कि इनमें तबलीगी जमात के 1095 मरीज़ हैं. जो 21 राज्यों में फैले हुए हैं. ऐसे में भारत में भी सख्त कानून की जरूरत है. जैसा सऊदी अरब और फिलीपींस में है.

सऊदी अरब में कोरोना फैलाया तो मौत की सज़ा?

सऊदी अरब में एक शख्स को गिरफ्तार किया गया. मॉल में शॉपिंग ट्रॉली पर थूकने का आरोप है. दोष साबित होने पर मौत की सज़ा मिल सकती है. आपको बता दें, सऊदी अरब में संक्रमण फैलाना जघन्य अपराध की श्रेणी में आता है. साथ ही वहां, कोरोना छिपाने, ट्रैवल हिस्ट्री छिपाने पर 1 करोड़ तक जुर्माना लग सकता है.

जब नियम कड़े और सख्त होते हैं तो लोगों की लापरवाही और मूर्खता का नजारा नहीं देखने को मिलता है. शायद यही वजह है कि सऊदी में इतने कठोर नियम अपनाए गए हैं. सऊदी अकेला देश नहीं है जहां, ऐसे कड़े कानून लागू हैं. फिलीपींस में तो लॉकडाउन तोड़ने पर सीधे गोली मारने की सजा है.

फिलीपींस में लॉकडाउन तोड़ने पर क्या सजा?

लॉकडाउन के उल्लंघन पर फिलीपींस सरकार भी बेहद सख्त है. लॉकडाउन नहीं मानने वालों को गोली मारने का आदेश है. बड़ी संख्या में लॉकडाउन तोड़ने के बाद ये आदेश जारी किया गया. स्वास्थ्यकर्मियों से दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें: अब मारेंगे गोली अगर तोड़ा लॉकडाउन !!

फिलीपींस में 3,246 से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित हैं. फिलीपींस में 152 लोगों की मौत हो चुकी है. निश्चित तौर पर अगर भारत में भी जानबूझ कर लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ ऐसा ही सख्त एक्शन लिया जाएगा तो जमाती जैसे नीच और जाहिल लोग नर्सों के साथ दुर्व्यहवार, अश्लीलता, डॉक्टरों पर थूकने का जुर्म और पुलिस को मारने की गुस्ताखी करने से पहले 1000 बार सोचेंगे. क्योंकि बार-बार जमातियों और उनके जैसे लोगों की करतूत के चलते कोरोना वॉरियर्स की जिंदगी खतरे में पड़ जाती है.

इसे भी पढ़ें: दुनिया के दुश्मन ने अबतक 65 हजार से ज्यादा लोगों को मार डाला! पढ़ें, वर्ल्ड रिपोर्ट

इसे भी पढ़ें: कोरोना से जंग खत्म नहीं हुई थी कि दुनिया के कई देशों के बीच शुरू हो गया 'युद्ध'