ऑफिस में अगर बोलते हैं भैया तो हो जाए सावधान!

दफ्तरों में प्रोफेशनल माहौल बनाए रखने के लिए भारत के राज्य ओडिशा में कुछ गाइडलाइन तय की है. एक बार सुनकर यह थोड़ा अलग लग सकता है लेकिन पूरी खबर पढ़ कर आप हंसे बिना नहीं रह सकेंगे. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 20, 2019, 04:05 PM IST
    • कार्रवाई के रूप में कर्मचारियों के प्रमोशन और इंक्रीमेंट पर असर
    • एनिमल हसबैंड्री व वेटिनरी डिपार्टमेंट के ऑफिस में भाई या भैया बोलने पर रोक

ट्रेंडिंग तस्वीरें

ऑफिस में अगर बोलते हैं भैया तो हो जाए सावधान!

भुवनेश्वर: ओडिशा के एनिमल हसबैंड्री व वेटिनरी डिपार्टमेंट ने ऑफिस के माहौल को पूर्ण रूप से अनुशासित करने के लिए कुछ नए नियम बनाए हैं. जिस नियम के अंतर्गत ऑफिस में भाई या भैया बोलना मना कर दिया गया है. दरअसल ऑफिस में भाई-भैया बोले जाने पर कर्मचारी अपने सीनियर और जूनियर के साथ सही तरीके से व्यवहार नहीं करते हैं. विभाग का मानना है जूनियर कर्मचारियों के द्वारा अपने सीनियर को भाई बोले जाने पर वह बात करते समय या व्यवहार में अनुशासन को नहीं लाते हैं. सीनियर और जूनियर कर्मचारियों के बीच में एक दायरा होता है जिसे ऑफिस के माहौल को बनाए रखने के लिए बहुत जरूरी है.

मुस्लिम होने के बाद भी करते हैं रामायण पाठ, जाने फारूख रामायणी को.

16 नवंबर से ओडिशा के एनिमल हसबैंड्री व वेटिनरी डिपार्टमेंट के ऑफिस में भाई या भैया बोलने पर रोक लगा दी गई है ताकि ऑफिस में शिष्टाचार का पालन हो सके. यह ओडिशा सरकार के 1959 में बनाई गई नियम हैं और ऑफिस में अनुशासन का पालन न करना इस नियम का उल्लंघन माना जाता है. विभाग ने स्पष्ट कर दिया है कि इस नियम की अवहेलना करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी और नियम लागू होने के बाद से कर्मचारियों पर नजर रखी जा रही है.

विशाखापट्टनम पुलिस ने लॉन्च किया रोबोट, क्लिक कर पढ़े पूरी खबर.

विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ऑफिस में शिष्टाचार को बनाए रखने के लिए जूनियर अपने सीनियर को सर कह कर बुलाएंगे. नियम के पालन न करने वालों को पहले तो नोटिस दिया जाएगा लेकिन उसके बाद भी अगर कर्मचारी नियम का उल्लंघन करते पाए गए तो कार्रवाई की जाएगी. कार्रवाई के रूप में कर्मचारियों के प्रमोशन और इंक्रीमेंट पर असर पड़ेगा. 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़