नादान उम्र का बड़ा कारनामा, बर्फ में फंसे बच्चों ने ऐसा क्या किया कि मिल रही है तारीफ

अमेरिका के अलास्का में आए एक बर्फीले तूफान में फंसे तीन बच्चों ने कवर कर दो साल के बच्चे की जान बचा ली. बच्चे अलास्का के ग्रामीण भाग में पश्चिमी तट पर एक डंपिंग ग्राउंड के पास से जा रहे थे. अचानक तेज बर्फीला तूफान आया और चारों बच्चे उसमें समा गए.  

नादान उम्र का बड़ा कारनामा, बर्फ में फंसे बच्चों ने ऐसा क्या किया कि मिल रही है तारीफ

नई दिल्लीः कहते हैं कि अगर सूझबूझ से काम लिया जाए तो बड़े-बड़े से तूफान, नादान उम्र के आगे छोटे पड़ जाते हैं. उनका कुछ भी नहीं बिगाड़ पाते हैं. यह बात बिल्कुल शब्दशः साबित हुई है अमेरिका के अलास्का में. यहां एक बर्फीले तूफान में चार बच्चे फंस गए. इसमें सबसे छोटा बच्चा 2 साल का था. बाकी बड़े बच्चों ने हिम्मत और सूझ-बूझ से काम करके अपनी तो जान बचाई है, उस बच्चे को भी कुछ नहीं होने दिया. चारों ने हिम्मत और समझदारी से तूफान में एक-दूसरे का साथ नहीं छोड़ा है और करीब 24 घंटे तक भारी बर्फ के बीच फंसे रहे. 

बर्फीले तूफान में फंस गए थे
अमेरिका के अलास्का में आए एक बर्फीले तूफान में फंसे तीन बच्चों ने कवर कर दो साल के बच्चे की जान बचा ली. रेस्क्यू टीम के चीफ ब्रायन साइमन ने बताया कि क्रिस्टोफर जॉनसन (14), फ्रैंक जॉनसन (8), एतान केमिली (7) और ट्रे केमिली (2 साल) अलास्का के ग्रामीण भाग में पश्चिमी तट पर एक डंपिंग ग्राउंड के पास से जा रहे थे. अचानक तेज बर्फीला तूफान आया और चारों बच्चे उसमें समा गए. इन्हें खोजने के लिए हेलिकॉप्टर भी भेजे गए, लेकिन दृश्यता की कमी और तूफान के रफ्तार की वजह से वे लौट आए.

एक-दूसरे से लिपटे बच्चे किसी बंडल की तरह लग रहे थे
ब्रायन ने बताया कि हमने 24 घंटे के बाद फिर से रेस्क्यू और सर्च अभियान चलाया. चारों को नुनाम इक्वा गांव के बाहर लगभग 20 मील की दूरी पर खोज लिया गया. रेस्क्यू टीम को ब्लैक रिवर के किनारे बर्फ के ढेर में हलचल महसूस हुई. पहले तो लगा कि कम विजिबिलिटी के कारण हलचल भ्रम हो सकती है, फिर जांच करने का फैसला लिया गया.

टीम को खुद पर विश्वास नहीं हो रहा था. बर्फ के ढेर में गड्‌ढा बना हुआ था, जिसमें तीन बच्चे एक-दूसरे से बुरी तरह लिपटे पड़े थे और एक बच्चा इन तीन बच्चों के घेरे में आंखें बंद किए पड़ा था. एक नजर में वे चारों एक बंडल की तरह दिख रहे थे. रेस्क्यू टीम ने फौरन उन्हें बाहर निकाला और वैन में बैठाया. अभी सभी का इलाज चल रहा है. 

तो क्या अंतरिक्ष से दूसरे ग्रह के लोग हमें भेज रहे हैं संदेश?

नहीं छोड़ा एक-दूसरे का साथ
सभी लोग इन बच्चों की तारीफ कर रहे हैं. बच्चों ने मीडिया को बताया कि वे तूफान से साथ घिसटते हुए चले जा रहे थे, लेकिन उन्होंने एक-दूसरे का हाथ नहीं छोड़ा. बच्चों ने बर्फ के थपेड़ों से बचने के लिए रूई की तरह जमा बर्फ के ढेर में गड्‌ढा किया और उसमें बैठ गए. तेज सर्दी के कारण इन बच्चों पर हाइपोथर्मिया का असर है. इसलिए इन्हें डॉक्टर्स की निगरानी में रखा गया है. 

एक ऐसा मजार जहां प्यार करने वालों की हर मुराद होती है पूरी