राम नगरी में इस बार गायों को कुछ इस तरह ठंड से बचाया जाएगा

अयोध्या की गायों को ठंड से बचाने के लिए नगर निगम ने एक योजना बनाई है. जिसके तहत नगर निगम द्वारा संचालित गोशालाओं में गायों को जूट का कोट पहनाने की तैयारी की जा रही है. 

राम नगरी में इस बार गायों को कुछ इस तरह ठंड से बचाया जाएगा

अयोध्या: अयोध्या नगर निगम ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गौ रक्षा अभियान को आगे बढ़ाने का फैसला किया है. अयोध्या नगर निगम द्वारा संचालित गौशाला में गौवंशो को जूट कोट पहनाने की व्यवस्था की जा रही है. गौवंश को ठंड से बचाने के लिए नगर निगम ने विशेष जूट कोट पहनाने का एक बड़ा फैसला लिया है. 

अयोध्या में बनेगी भगवान राम की सबसे ऊंची प्रतिमा, पूरी खबर यहां पढ़ें

यही नहीं नगर निगम द्वारा संचालित गौशाला में आधुनिक अलाव सिस्टम को भी लगाने का फैसला लिया गया है. साथ ही गौशाला में गोवंश को ठंड से बचाने के लिए जुट के पर्दे लगाए जाने की भी व्यवस्था नगर निगम करने जा रहा है. नगर निगम महापौर ऋषिकेश उपाध्याय का कहना है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गोवंश की सुरक्षा की जो योजना रही है उसमें शीतलहर से बचने के लिए गौवंशो को जूट के कोट पहनाए जाने की आवश्यक है और यह काम नगर निगम ने शुरू कर दिया है. 

इस कार्य के लिए बाकायदा जूट के विशेष कोट बनवाए जा रहे हैं. इसके लिए आर्डर भी दे दिए गए हैं. जल्द ही गौशाला में रह रहे गौवंशो को विशेष तरीके के जूट कोट को पहनाकर ठंड से सुरक्षा की जाएगी. 

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के साथ पर्यटकों की सुरक्षा की भी जबरदस्त तैयारी

 अयोध्या नगर निगम के नगर आयुक्त नीरज शुक्ला का कहना है कि अयोध्या जिले की बेहसिंगपुर की गौशाला में 1300 गोवंश की देखरेख व सुरक्षा के नगर निगम कर रहा है.  नगरनिगम इस गौशाला को मॉडर्न गौशाला बनाने की योजना पर काम शुरू कर दिया है. जिसके लिए शासन ने 8.5 करोड़ का बजट आवंटित कर दिया है. 

 बैसिंगपुर गांव की गोशाला में 900 बैल व 300 गाय व उनके बछड़े रहते है. जिसमे बैल के लिए फोम युक्त रंगीन कोट बनवाये जा रहे है. वही गाय के लिए जूट के विशेष कोट बनाये गए है साथ ही छोटे बछड़े व बछिया के लिए छोटे जूट के कोट बनवाये गए है. जल्द ही यह कोट गोवंशो को पहनाया जाएगा. 

अयोध्या में राम भक्त पहलवानों की कहानी, यहां देखें

 साथ ही गौशाला में एक विशेष तरह का अलाव यंत्र भी बनवाया गया है. जिसमे चारो तरफ जाली लगी हुई है. उसमें चालीस किलो लकड़ी जलाई जाएगी जो 6 से 7 घंटे तक जलेगी.  इसमें पिछले वर्ष की अपेक्षा कम लकड़ी प्रयोग में आएगी खर्च भी बचेगा. इसके अलावा लकड़ी के जलने से उठने वाले वायु प्रदूषण को 60 प्रतिशत कम करेगा.