close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सेना ने तोड़ दी आतंक की कमर, PAK की नापाक साजिश का 'खुलासा'

आईएसआई की इस खौफनाक साजिश का खुलासा पिछले दिनों पंजाब के तरन-तारन जिले में 4 खालिस्तानी आतंकवादियों की गिरफ्तारी के बाद हुआ. इन आतंकियों के पास से भारी मात्रा में AK-47 रायफल, पिस्टल, सैटलाइट फोन और हैंड ग्रेनेड समेत कई हथियार भी बरामद किए गए थे.

सेना ने तोड़ दी आतंक की कमर, PAK की नापाक साजिश का 'खुलासा'

नई दिल्ली: कश्मीर में पाकिस्तान परस्त आतंकवादियों की सेना ने कमर तोड़ दी है. एलओसी पर भी घुसपैठियों को धरदबोचने के लिए सेना और बीएसएफ चौबीस घंटे मुस्तैद है. यही वजह है कि अब पाकिस्तान कश्मीर में आतंक की आग को भड़काने के लिए पंजाब के रास्ते का इस्तेमाल कर रहा है. पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई अब पंजाब के रास्ते आतंकियों को हथियार पहुंचा रही है. और इसके लिए ड्रोन्स का सहारा लिया जा रहा है.

भारतीय खुफिया एजेंसियों की ताजा रिपोर्ट से ये खुलासा हुआ है कि जम्मू कश्मीर में पंजाब के रास्ते से आतंकियों तक हथियार पहुंचाए जा रहे है. सितंबर महीने में पंजाब सीमा में ड्रोन्स के जरिए 4 दिन में 8 बार हथियारों की खेप पहुंचाई गई है. ये हथियार पंजाब के तरनतारन जिले में पहुंचाए गए. इसके पीछे पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI की साज़िश है. जो कि खालिस्तान ज़िंदाबाद फोर्स के जरिए साज़िश रच रही है. जांच एजेंसियों के मुताबिक जिन हथियारों को पंजाब की सीमा में भेजा गया. उनका इस्तेमाल जम्मू-कश्मीर में बड़े आतंकी हमले के लिए किया जाना था.

पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया, 'अभी हम लोग साफ-साफ नहीं कह सकते कि कहां इस्तेमाल होने थे. इतना तो साफ है कि जो हथियार बाहर से आए वो अच्छे काम के लिए तो इस्तेमाल नहीं होने थे. सारा भारत हमारा है. वो यहां इस्तेमाल होते या कहीं दूसरे प्रदेश में इस्तेमाल होते.. तो ये सारी जांच की बात है. अभी हम जांच के प्राथमिक स्तर पर है. अभी इसमें एनआईए ने भी ज्वाइन कर लिया है वो भी हमारे साथ काम कर रहे है.'

हथियार समेत 4 आतंकी हुए थे गिरफ्तार

आईएसआई की इस खौफनाक साजिश का खुलासा पिछले दिनों पंजाब के तरन-तारन जिले में 4 खालिस्तानी आतंकवादियों की गिरफ्तारी के बाद हुआ. इन आतंकियों के पास से भारी मात्रा में AK-47 रायफल, पिस्टल, सैटलाइट फोन और हैंड ग्रेनेड समेत कई हथियार भी बरामद किए गए थे. जांच में पता चला कि इन हथियारों की सप्लाइ जीपीएस-फिटेड ड्रोन की मदद से सीमा पार से की गई. इस खुलासे के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से इस समस्या से जल्द निपटने की मांग की है.

एक ओर जहां पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई पंजाब के रास्ते कश्मीर में दहशतगर्दी का सामान इकट्ठा कर रही है तो वहीं दूसरी ओर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद जम्मू-कश्मीर समेत आस-पास के राज्यों में बड़े आतंकी हमले की साजिश रच रहा है. इंटेलीजेंस एजेंसियों ने एक अलर्ट जारी कर ये जानकारी दी है कि या है, जैश-ए-मोहम्मद के 8 से 10 आतंकी देश के बड़े एयरबेस पर आत्मघाती हमले कर सकते हैं. इस अलर्ट के बाद श्रीनगर, अवंतीपुरा, जम्मू, पठानकोट और हिंडन एयरबेस की सुरक्षा और बढ़ा दी गई है