close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'हाउडी मोदी' में दिखा मोदी-ट्रंप का दम, PM बोले- 'अबकी बार, ट्रंप सरकार'

इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया है. ट्रंप ने कहा कि इस्लामिक आतंकवाद से भारत-अमेरिका मिलकर लड़ेंगे. वहीं पीएम मोदी ने साफ किया कि अब आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई की जरूरत है.

'हाउडी मोदी' में दिखा मोदी-ट्रंप का दम, PM बोले- 'अबकी बार, ट्रंप सरकार'

नई दिल्ली: अमेरिका के ह्यूस्टन में 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में दुनिया ने मोदी-ट्रंप की नई दोस्ती देखी. पीएम मोदी ने ट्रंप को आतंकवाद का धूर विरोधी बताते हुए उनके लिए तालियां बजाई और कहा कि ये वो राष्ट्रपति हैं जो आतंकवाद को खत्म करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप की तारीफ करते हुए ये भी कहा कि ऐसे राष्ट्रपति को दोबारा निर्वाचित करना चाहिए. पीएम मोदी बोले, 'अबकी बार अमेरिका में ट्रंप सरकार होनी चाहिए.'

'इस्लामिक आतंकवाद की अब खैर नहीं'

ह्यूस्टन के NRG स्टेडियम से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया है. ट्रंप ने कहा कि इस्लामिक आतंकवाद से भारत-अमेरिका मिलकर लड़ेंगे. वहीं पीएम मोदी ने साफ किया कि अब आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई की जरूरत है.

हाउडी के कार्यक्रम में पीएम मोदी ने पाक का नाम लिए बगैर आतंकवाद पर साधा निशाना. मोदी ने कहा, 'भारत जो कर रहा है, उससे कुछ ऐसे लोगों को भी दिक्कत हो रही है. जिनसे खुद अपना देश संभल नहीं रहा है.' 

पीएम मोदी ने कहा कि अमेरिका में 9/11 हो या मुंबई में 26/11, उसके साजिशकर्ता कहां पाए जाते हैं? अब समय आ गया है, आतंकवाद के खिलाफ और उसे बढ़ावा देने वालों के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़नी है.

कार्यक्रम में पीएम मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप ने 50 हजार भारतीय अमेरिकी समुदाय को संबोधित किया. इस दौरान भारतीयों का जोश देखते ही बन रहा था. पीएम मोदी ने ह्यूस्टन में पूछे गए सवाल हाउडी मोदी का जवाब अलग ही अंदाज में दिया. मोदी ने कहा कि इसका मतलब है, भारत में सब अच्छा है.

अमेरिका के ह्यूस्टन में ट्रंप ने अपने संबोधन के दौरान विदेशी निवेश पर भी अपनी बात रखी. उन्होनें कहा कि अमेरिका न केवल भारत से निवेश का स्वागत करता है, बल्कि भारत में निवेश और रोज़गार के मौके भी पैदा कर रहा है.