close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'साइलेंट किलर' से सहमी मुंबई! ये रिपोर्ट आपको भी हैरान कर देगी

डायबिटीज लाइफस्टाइल पर आधारित बीमारी है. खान-पान में लापरवाही से लेकर तनावपूर्ण जीवनशैली की वजह से लोगों को डायबिटीज की बीमारी हो रही है. अगर परिवार में पहले से किसी को डायबिटीज हो तो ये रोग होने का खतरा और बढ़ जाता है इसलिए डॉक्टर रेगुलर चेकअप पर जोर देते हैं.

'साइलेंट किलर' से सहमी मुंबई! ये रिपोर्ट आपको भी हैरान कर देगी

पूरे 24 घंटे एक्टिव रहने वाली मुंबई इन दिनों सहमी हुई है. हर कोई उस साइलेंट किलर से खौफ के साए में जीने को मजबूर है, जो बड़े पैमाने पर जिंदगी तबाह करने पर तुली हुई है. मेडिकल टर्म में डायबिटीज को साइलेंट किलर कहा जाता है. ये साइलेंट किलर मुंबई में दूसरी बीमारियों को पीछे छोड़ता जा रहा है. डायबिटीज मुंबई में लोगों की जान लेने में हार्ट अटैक और टीबी से भी बहुत आगे निकल गई है.

दरअसल, प्रजा फाउंडेशन नाम की एक संस्था ने मुंबई के सरकारी अस्पतालों के रिकॉर्ड को खंगाला जिसके बाद ये खुलासा हुआ कि मायानगरी में बीमारियों से होने वाली मौतों में सबसे ज्यादा तादाद डायबिटीज के मरीजों का है.

क्या कहती है प्रजा फाउंडेशन की रिपोर्ट?

  • साल 2017 में मुंबई में डायबिटीज से 9 हजार 525 लोगों की मौत हुई
  • दूसरे नंबर पर हार्ट अटैक है जिसने 2017 में मुंबई में 8 हजार 58 लोगों की जान ली
  • टीबी तीसरे नंबर पर है जिसने मुंबई में 2017 में 4 हजार 49 लोगों को मौत की नींद सुला दी

प्रजा फाउंडेशन की रिपोर्ट की बारीकी से पड़ताल करें तो हालात भयावह नजर आएंगे. रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई में हर घंटे कमोबेश एक व्यक्ति की मौत डायबिटीज की वजह से होती है. हर दिन 26 लोगों की जान मुंबई में इस साइलेंट किलर की वजह से हो रही है. हर महीने मुंबई में डायबिटीज 780 लोगों की जान ले रहा है.

प्रजा फाउंडेशन के उपाध्यक्ष बलवंत ईरान कहा कहना है, 'जब हमने रिपोर्ट निकाली तो हम ये देख रहे हैं कि साल 2017 में 9525 लोगों की मौत डायबिटीज से हुई. मुंबई में आज जो सबसे नंबर वन बीमारी दिखाई दे रही है, वो है डायबिटीज.'

डायबिटीज लाइफस्टाइल पर आधारित बीमारी है. खान-पान में लापरवाही से लेकर तनावपूर्ण जीवनशैली की वजह से लोगों को डायबिटीज की बीमारी हो रही है. अगर परिवार में पहले से किसी को डायबिटीज हो तो ये रोग होने का खतरा और बढ़ जाता है इसलिए डॉक्टर रेगुलर चेकअप पर जोर देते हैं.

डायबिटीज से बचाव के सुझाव

  • संतुलित भोजन बेहत जरूरी है
  • जंक फूड से भी दूरी बनाकर रखना आवश्यक है
  • मिठाई से लगाव भी कम करना होगा
  • रोजाना एक्सरसाइज भी करना चाहिए
  • तनाव लेने से बचना चाहिए
  • भरपूर नींद पर भी खासा ध्यान देना चाहिए

डायबिटीज की बीमारी से पूरी दुनिया में दहशत है. देश में इस वक्त करीब 8 करोड़ लोग डायबिटीजी से ग्रस्त हैं और ये तादाद रोजाना बढ़ती ही जा रही है. इसलिए ये जरूरी है कि खान-पान से लेकर जीवनशैली तक में सुधार लाया जाए.