आज का पंचांग, जानिए कब है शुभ मुहूर्त और राहुकाल

आज बेहद खास केतु का अश्विनी नक्षत्र है साथ ही मानस योग भी है. इसके अलावा आज शुभ मुहूर्त की बात करें तो आज रवियायी जय योग भी है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jan 22, 2021, 07:01 AM IST
  • पौष मास में अष्टमी और भरणी जब योग होता है तो शुभ योग बनता है
  • गुरुवार भगवान विष्णु का दिन, करें उनकी पूजा
आज का पंचांग, जानिए  कब है शुभ मुहूर्त और राहुकाल

नई दिल्लीः गुरुवार का दिन भगवान विष्णु का दिन होता है, इसलिए यह किसी भी कार्य के लिए सबसे शुभ दिन होता है. आज गुरुवार 21 जनवरी को अगर कोई काम आप शुरू करना चाहते हैं तो यह जान लें कि वह शुभ होगा. आज  मानस योग भी है तो के दिन मनोकामना पूर्ति के योग बन रहे हैं. अगर आज की तारीख में आप कोई शुभ शुरुआत करने जा रहे हैं तो समय और अनुकूल परिस्थितियों पर भी ध्यान दीजिए. कैसा है आज का पंचांग जानिए आचार्य विक्रमादित्य से.

आज का पंचांग

आज गुरुवार (Thursday) का दिन और पौष शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि है. आज जयंती अष्टमी है. निर्णय अमृत के अनुसार पौष मास में अष्टमी और भरणी जब योग होता है तो ये शुभ योग बनता है और ऐसे में किये गए पुण्य का कोटि गुना फल होता है अगर आज के नक्षत्र की बात करें तो आज बेहद खास केतु का अश्विनी नक्षत्र है साथ ही मानस योग भी है.

इसके अलावा आज शुभ मुहूर्त की बात करें तो आज रवियायी जय योग सर्वार्थ सिद्ध योग 7:15 से 9:54 तक शुभ मुहूर्त रहेगा. इस शुभ मुहूर्त में कोई भी काम करना शुभ फलदायक होता है. आज का राहुकाल दोपहर 01:59 से दोपहर 03:20 तक रहेगा. इस दौरान आप कोई भी अच्छा कार्य करने से बचें.

क्या है सर्वार्थ सिद्ध योग

सर्वार्थ सिद्धि योग सभी शुभ कार्यों के शुभारंभ के लिए उपयुक्त समय होता है. सर्वार्थ सिद्धि योग एक निश्चित वार और निश्चित नक्षत्र के संयोग से बनता है. वार और नक्षत्र के ये संयोग हमेशा निर्धारित रहते हैं. यह योग शुभ कार्यों की शुरुआत के लिए विशेष फलदायी होता है और समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करता है, इसलिए शुभ कार्यों के लिए लोग इसकी प्रतीक्षा भी करते हैं.

ऐसे बनता है सर्वार्थ सिद्ध योग

रविवार- अश्विनी, हस्त, पुष्य, मूल, उत्तरा फाल्गुनी, उत्तराषाढ़ा, उत्तरा भाद्रपद
सोमवार- श्रवण, रोहिणी, मृगशिरा, पुष्य, अनुराधा
मंगलवार- अश्विनी, उत्तरा भाद्रपद, कृतिका, अश्लेषा
बुधवार- रोहिणी, अनुराधा, हस्त, कृतिका, मृगशिरा
गुरुवार- रेवती, अनुराधा, अश्विनी, पुनर्वसु, पुष्य
शुक्रवार- रेवती, अनुराधा, अश्विनी, पुनर्वसु, श्रवण
शनिवार- श्रवण, रोहिणी, स्वाति

इसे भी पढ़ें- Haridwar Mahakumbh 2021: जानिए वह कथा जो कुंभ के आयोजन का आधार बनी

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़