• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,01,497 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,07615: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,00,303 जबकि अबतक 5,815 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने 4155 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 57+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुँचाया गया
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री ने #AatmaNirbharBharat के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए 3 योजनाओं की शुरुआत की
  • #AatmaNirbharBharat के लिए #MakeInIndia को प्रोत्साहित करने के लिए DPIIT ने पब्लिक प्रोक्योरमेंट ऑर्डर, 2017 में संशोधन किया
  • एंटी-कोविड ​​ड्रग मॉलेक्यूल के फास्ट-ट्रैक विकास के लिए SERDB-DST ने IIT (BHU) वाराणसी में अनुसंधान के लिए सहयोग को मंजूरी दी
  • ट्राइफेड कोविड ​​-19 के कारण संकट में पड़े आदिवासी कारीगरों को हरसंभव सहायता प्रदान करेगी
  • पीएसए और डीएसटी ने संयुक्त रूप से राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति 2020 के निर्माण की प्रक्रिया की शुरुआत की
  • कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने विभिन्न बागवानी फसलों के लिए 2019-20 का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी किए हैं
  • कोविड के लक्षण विकसित होने पर, घबराएं नहीं, तुरंत 1075 पर कॉल करें #IndiaFightsCorona #BreakTheStigma

महावीर जयंतीः जानिए, कैसे वर्धमान से महावीर स्वामी बना एक राजपुत्र, कहलाया जिनेंद्र

जैन धर्म की मान्यताओं के अनुसार स्वामी महावीर का जन्म बिहार के कुंडिनपुर के राज परिवार में हुआ था. बचपन में इन्हें वर्धमान नाम से पुकारा जाता था. बचपन से ही उनका झुकाव आध्यात्म की ओर था. हम उम्र किशोरों के साथ खेलते-खेलते अचानक ही वह ध्यान अवस्था में चले जाते थे.

महावीर जयंतीः जानिए, कैसे वर्धमान से महावीर स्वामी बना एक राजपुत्र, कहलाया जिनेंद्र

नई दिल्लीः सनातन धर्म की परंपरा का जब विस्तार होता है तो इससे अलग कई मत और पंथ सामने आते हैं. जब-जब धर्म के वास्तविक और सच्चे स्वरूप को समझना कठिन होने लगा और मानव समाज इन्हें भूलने लगा तो इसकी मूल शिक्षाओं को फिर से जन-जन के बीच लाने के लिए कई महापुरुष और सिद्धपुरुष सामने आए. 

इस परंपरा में अक्सर ब्राह्मण या साधु समाज के लोगों का नाम सामने आया, लेकिन वीर भूमि भारत में क्षत्रिय कुल से निकले दो राजकुमार अमर हैं. इन्होंने क्षमादान में सच्ची वीरता देखी, युद्ध जीतने में ही बल्कि प्राणियों का हृदय जीतना सबसे कठिन माना और हर किसी के कष्ट को सच्ची प्रजासेवा समझा. महात्मा बुद्ध और महावीर स्वामी यही दो जगविजेता हैं, जिनकी मानवता की सेवा की शिक्षाएं अमर हैं. महावीर जयंती के मौके पर जैन धर्म के तीर्थंकर महावीर स्वामी की बात-

जैन धर्म का प्रमुख पर्व है महावीर जयंती
जैन धर्म का सबसे प्रमुख पर्व महावीर जयंती धूम-धाम से मनाया जाता है. महावीर जयंती का पर्व स्वामी महावीर के जन्मदिन चैत्र शुक्ल त्रयोदशी में मनाया जाता है. इस बार यह तिथि सोमवार को है. स्वामी महावीर जैन धर्म के 24 वें तीर्थकार थे.

जैन धर्म के अनुयायी जैन मंदिरों में जाकर जिन यानी विजेता की अर्चना व उनका अभिषेक करते हैं. उनकी शिक्षाओं का प्रसार करते हैं. लोगों को हिंसा त्यागने और अहिंसा को अपनाने की शिक्षा याद दिलाते हैं. 

बिहार से है महावीर स्वामी का नाता
जैन धर्म की मान्यताओं के अनुसार स्वामी महावीर का जन्म बिहार के कुंडिनपुर के राज परिवार में हुआ था. बचपन में इन्हें वर्धमान नाम से पुकारा जाता था. बचपन से ही उनका झुकाव आध्यात्म की ओर था. हम उम्र किशोरों के साथ खेलते-खेलते अचानक ही वह ध्यान अवस्था में चले जाते थे.

एक बार वह ऐसी ही एक वृक्ष के नीचे बैठ गए. एक सर्प आया और उन पर रेंगते हुए चला गया, लेकिन वर्धमान विचलित नहीं हुए. यह देखकर साथी बालक सहम गए और माता-पिता भी आश्चर्य से भर गए. राजगुरू ने तभी भविष्यवाणी की, यह बालक आगे जगत प्रकाशक बनेगा. महावीर 30 साल के थे जब उन्होंने घर छोड़ दिया और दीक्षा लेने चले गए थे. इसी तरह उन्होंने एक नगर में मानव जाति के शत्रु बने नाग को अहिंसा का पाठ पढ़ाया, जिससे वह विषधर स्वर्ग का अधिकारी बना. 

यह हैं स्वामी महावीर के सिद्धांत
दीक्षा लेने के बाद महावीर ने 12 साल तक तपस्या की. कहा जाता है कि भगवान महावीर के दर्शन के लिए भक्तों को उनके सिद्धांतों का पालन करना जरूरी होता है. स्वामी महावीर स्वामी सबसे बड़ा सिद्धांत अहिंसा है. अहिंसा के साथ, सत्य, अचौर्य, बह्मचर्य और अपरिग्रह के पांच व्रतों का पालन करना आवश्यक होता है.

कामनापूर्ति के साथ मोहजनित कामनाओं का नाश करती है कामदा एकादशी

हर मनुष्य बन सकता है जितेंद्रिय
उनका मानना था कि किसी से मांग कर, प्रार्थना करके या हाथ जोड़कर धर्म नहीं पाया जा सकता है. महावीर मानते थे कि धर्म कोई वस्तु नहीं जो मांगने से मिलेगी इसे खुद धारण करना होता है. धर्म जीतने से मिलता है, जिसके लिए संघर्ष बेहद जरूरी है. महावीर भक्ति में नहीं ज्ञान और कर्म में भरोसा रखते थे.

स्वामी महावीर के अनुयायी ऐसा मानते हैं कि आत्मा की दुष्प्रभावों को अगर निकाल दे तो किसी को जीतने में अधिक कठिनाई नहीं आएगी. सबसे पहले खुद को महान बनाए जिसके लिए अंतर्मन के दुष्प्रभावों से जीतना बहुत जरूरी है.

रामनवमी विशेषः जानिए क्या कहते हैं जन-जन के राम, क्या है रामकथा का संदेश