शिवसेना का एनडीए की बैठक से किनारा, अब संसद में विपक्ष में बैठेंगे पार्टी के सांसद

सोमवार से शुरू हो रहे सत्र में शिवसेना सांसद संजय राउत और अनिल देसाई विपक्ष की बेंचों पर बैठेंगे. माना जा रहा है कि शिवसेना के 18 लोकसभा सांसद भी विपक्षी खेमे में ही दिखाई देंगे. वे अभी तक सत्ता पक्ष की सीटों पर दिखाई देते रहे हैं. यह तस्वीर साफ है कि अब शिवसेना एनडीए में नहीं है. रविवार को होने वाली एनडीए की संसदीय दल की बैठक होने वाली है. इसमें जाने से शिवसेना ने इनकार कर दिया है. 

शिवसेना का एनडीए की बैठक से किनारा, अब संसद में विपक्ष में बैठेंगे पार्टी के सांसद

नई दिल्लीः महाराष्ट्र में अभी सरकार बनने की सहमति को लेकर अंतिम मुहर नहीं लगी है. सीएम कुर्सी पर कौन बैठेगा अभी यह भी ठीक-ठीक नहीं सामने आया है, लेकिन शिवसेना ने खुद ही एक बनी-बनाई कुर्सी छोड़ दी है. महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर भाजपा से मतभेद और विवाद के बाद शिवसेना अब संसद में विपक्षी खेमे में बैठेगी. संसद का शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है. इसके अलावा यह भी साफ है कि शिवसेना अब एनडीए का हिस्सा नही है. यानी कि रविवार को होने वाली एनडीए की बैठक में भी शिवसेना नहीं शामिल हो रही है. 

महाराष्ट्र में सीएम कौन, अभी इस पर चुप्पी
राज्यसभा से जुड़े सूत्रों ने बताया है कि सोमवार से शुरू हो रहे सत्र में शिवसेना सांसद संजय राउत और अनिल देसाई विपक्ष की बेंचों पर बैठेंगे. माना जा रहा है कि शिवसेना के 18 लोकसभा सांसद भी विपक्षी खेमे में ही दिखाई देंगे. वे अभी तक सत्ता पक्ष की सीटों पर दिखाई देते रहे हैं. संजय राउत ने भी कहा कि हमें पता चला है कि संसद में बैठने की व्यवस्था बदली है. महाराष्ट्र में शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने की कोशिश में पुरजोर तरीके से लगी हुई है. इस मामले में भी राउत ने कहा कि राज्य में निश्चित ही शिवसेना के नेतृत्व में सरकार चलेगी. लेकिन उन्होंने उद्धव ठाकरे के सीएम बनने को लेकर कुछ नहीं कहा है. 

एनडीए से भी अलग हुई शिवसेना
शिवसेना या बीजेपी की ओर से गठबंधन तोड़ने का औपचारिक ऐलान अभी नहीं हुआ है, लेकिन मौजूदा दौर में क्रमबद्ध तरीके से जो घटनाएं हुईं हैं, उनसे यह तस्वीर साफ है कि अब शिवसेना एनडीए में नहीं है. रविवार को एनडीए की संसदीय दल की बैठक होने वाली है. इसमें जाने से शिवसेना ने इनकार कर दिया है. रविवार को ही शिवसेना के संस्थापक बालासाहेब ठाकरे की पुण्यतिथि भी है.

करीब तीन दशकों से भाजपा की साझीदार रही शिवसेना ने महाराष्ट्र में सीएम पद को लेकर विवाद के बाद अपनी राह अलग कर ली है. शिवसेना के एक अन्य सांसद ने कहा कि जब एनडीए के सदस्य बैठक कर रहे होंगे, उस समय पार्टी रविवार को बाल ठाकरे को श्रद्धांजलि देगी, ऐसे में हम कैसे उस बैठक में शामिल हो पाएंगे? 

'हमारे पास 119 विधायकों का समर्थन, बनाएंगे सरकार'