Tokyo Olympic 2021: सिंधू का सपना टूटा, कमलप्रीत ने बढ़ाई आस, 9वें दिन जानिये कैसा रहा भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन

भारत को दिन का सबसे बड़ा झटका सिंधू की हार से लगा जिन्हें स्वर्ण पदक का प्रबल दावेदार माना जा रहा था. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jul 31, 2021, 08:43 PM IST
  • महिला हॉकी टीम क्वार्टरफाइनल में पहुंची
  • कमलप्रीत पर टिकी निगाहें
Tokyo Olympic 2021: सिंधू का सपना टूटा, कमलप्रीत ने बढ़ाई आस, 9वें दिन जानिये कैसा रहा भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन

नई दिल्ली: भारत के लिये ओलंपिक खेलों का 9वां दिन निराशजनक साबित हुआ. जिन पीवी सिंधू से गोल्ड मेडल की सबसे ज्यादा उम्मीद थी वे सेमीफाइनल मुकाबले में दुनिया की नंबर 1 खिलाड़ी से हार गईं.

मुक्केबाजी में पदक के प्रबल दावेदार अमित पंघाल पहले दौर से आगे नहीं बढ़ पाये लेकिन चक्का फेंक की महिला एथलीट कमलप्रीत कौर ने फाइनल में जगह बनाकर शनिवार को भारतीय खेमे में कुछ आशा की किरण जगायी. 

महिला हॉकी टीम क्वार्टरफाइनल में पहुंची 

भारतीय महिला हॉकी टीम ने वंदना कटारिया की हैट्रिक से दक्षिण अफ्रीका को 4-3 से हराकर 41 वर्षों में पहली बार क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया. निशानेबाजी और तीरंदाजी में भारतीयों के निशाने सटीक नहीं लगे तो गोल्फ में किसी चमत्कार के दम पर ही अनिर्बान लाहिड़ी ‘पोडियम’ तक पहुंच पाएंगे. 

भारत के नाम पर अभी एक रजत पदक दर्ज है और वह पदक तालिका में 57वें स्थान पर है. 

पहले दो सेट में मिली सिंधू को हार 

भारत को दिन का सबसे बड़ा झटका सिंधू की हार से लगा जिन्हें स्वर्ण पदक का प्रबल दावेदार माना जा रहा था. रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंधू ने चीनी ताइपै की विश्व की नंबर एक खिलाड़ी ताइ जु यिंग को पहले गेम में कड़ी चुनौती पेश की लेकिन आखिर में उन्हें 40 मिनट तक चले मैच में 18-21, 12-21 से हार का सामना करना पड़ा.

सिंधू के पास अब ओलंपिक में दो व्यक्तिगत पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनने का मौका है. वह रविवार को कांस्य पदक के लिये चीन की ही बिंग जियाओ से भिड़ेगी जिन्हें हमवतन चेन यू फेई ने पहले सेमीफाइनल में 21-16, 13-21, 21-12 से हराया था.

भारतीय मुक्केबाजी के लिये शनिवार का दिन निराशाजनक रहा. दुनिया के नंबर एक मुक्केबाज अमित पंघाल (52 किग्रा) के बाद पूजा रानी (75 किग्रा) भी अपनी प्रतिद्वंद्वी से हारकर बाहर हो गये. भारत की पदक उम्मीद मुक्केबाज पंघाल प्री क्वार्टर फाइनल में सुबह रियो ओलंपिक के रजत पदक विजेता कोलंबिया के युबेरजेन मार्तिनेज से 1-4 से हार गये. शीर्ष वरीयता प्राप्त पंघाल का यह पहला ओलंपिक था और उन्हें पहले दौर में बाई मिली थी.

शाम के सत्र में पूजा क्वार्टरफाइनल में सर्वसम्मत फैसले में चीन की लि कियान से 0-5 से हार गयीं. कियान पूर्व विश्व चैम्पियन और रियो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता हैं. वह पूरे मुकाबले के दौरान रानी पर हावी रहीं. 

कमलप्रीत पर टिकी निगाहें

एथलेटिक्स में हालांकि देश को कुछ अच्छी खबर मिली. कमलप्रीत ने महिलाओं के चक्का फेंक क्वालीफिकेशन दौर में दूसरे स्थान पर रहकर फाइनल में जगह बना ली लेकिन अनुभवी सीमा पूनिया चूक गईं . कमलप्रीत ने अपने तीसरे प्रयास में 64 मीटर का थ्रो फेंका जो क्वालीफिकेशन मार्क भी था. क्वालीफिकेशन में शीर्ष रहने वाली अमेरिका की वालारी आलमैन के अलावा वह 64 मीटर या अधिक का थ्रो फेंकने वाली अकेली खिलाड़ी रहीं. इस स्पर्धा का फाइनल दो अगस्त को होगा. 

सीमा पूनिया ने किया निराश

दोनों पूल में 31 खिलाड़ियों में से 64 मीटर का मार्क पार करने वाले या शीर्ष 12 ने क्वालीफाई किया. सीमा पूनिया पूल ए में 60 . 57 के थ्रो के साथ छठे स्थान पर और कुल 16वें स्थान पर रही. सीमा का पहला प्रयास अवैध रहा. दूसरे प्रयास में उन्होंने 60 . 57 और तीसरे में 58 . 93 मीटर का थ्रो फेंका. पुरुषों की लंबी कूद में श्रीशंकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने में नाकाम रहे और ओवरऑल 25वें स्थान पर रहते हुए फाइनल की दौड़ से बाहर हो गये.

श्रीशंकर ने अपने पहले प्रयास में 7.69 मीटर की छलांग लगायी लेकिन वह दूसरे और तीसरे प्रयास में इससे बेहतर नहीं कर सके. महिला हॉकी में वंदना ने ऐतिहासिक प्रदर्शन किया. उन्होंने हैट्रिक बनायी जिसके दम पर भारत ने ‘करो या मरो’ के मुकाबले में निचली रैंकिंग वाली दक्षिण अफ्रीका टीम को 4 . 3 से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया.

वंदना ने चौथे, 17वें और 49वें मिनट में गोल किये. वह ओलंपिक के इतिहास में हैट्रिक लगाने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई . नेहा गोयल ने 32वें मिनट में एक गोल दागा. दक्षिण अफ्रीका के लिये टेरिन ग्लस्बी (15वां), कप्तान एरिन हंटर (30वां) और मेरिजेन मराइस (39वां मिनट) ने गोल दागे. 

क्वार्टरफाइनल में ऑस्ट्रेलिया से भिड़ंत 

भारत ने ग्रुप चरण में पहले तीन मैच हारने के बाद आखिरी दो मैचों में जीत दर्ज की. शाम को ब्रिटेन की आयरलैंड पर 2-0 जीत से भारत की अंतिम आठ में जगह पक्की हुई. भारत क्वार्टर फाइनल में आस्ट्रेलिया से भिड़ेगा. तीरंदाजी में भारत की आखिरी उम्मीद अतनु दास पुरूषों के व्यक्तिगत वर्ग के प्री क्वार्टर फाइनल में जापान के ताकाहारू फुरूकावा से 4 . 6 से हार गए. दास पांचवें सेट में एक बार भी 10 स्कोर नहीं कर सके. दुनिया की नंबर एक तीरंदाज दीपिका कुमारी के क्वार्टर फाइनल में हारने के बाद भारत की उम्मीदें दास पर ही टिकी थी. 

ये भी पढ़ें- Tokyo Olympic 2021: कौन हैं कमलप्रीत कौर जो हैं टोक्यो में इतिहास रचने के बेहद करीब

निशानेबाजी में अंजुम मोदगिल और तेजस्विनी सावंत महिलाओं की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन स्पर्धा में क्रमश: 15वें और 33वें स्थान के साथ फाइनल्स में जगह बनाने में नाकाम रहीं. असाका निशानेबाजी परिसर में विश्व चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता अंजुम ने ‘54 इनर 10 (10 अंकों के 54 निशाने)’ के साथ 1167 अंक बनाये जबकि अनुभवी तेजस्विनी ने स्टैंडिंग, नीलिंग और प्रोन पोजीशन की तीन श्रृंखलाओं में 1154 अंक ही बना सकी.

गोल्फ में लाहिड़ी ने तीसरे दौर में तीन अंडर 68 का कार्ड खेला. उन्होंने सुबह अपना दूसरा दौर पूरा किया और एक ओवर 72 का स्कोर बनाया था. तीसरे दौर के बाद उनका कुल स्कोर छह अंडर 207 रहा. वह संयुक्त 28वें स्थान पर चल रहे हैं. वहीं एक अन्य भारतीय उद्यन माने ने 70 का कार्ड खेला जिससे वह दो ओवर 215 के कार्ड से संयुक्त 55वें स्थान पर चल रहे हैं.

पाल नौकायन (सेलिंग) में पुरुषों की स्किफ 49अर स्पर्धा में केसी गणपति और वरूण ठक्कर की जोड़ी तीन रेस में क्रमश: 16वें, नौवें और 14वें स्थान पर रही. भारतीय जोड़ी 154 अंकों के साथ 19 जोड़ियों में ओवरऑल 17वें स्थान पर है. पहली बार ओलंपिक खेलों में चुनौती पेश कर रहे भारतीय घुड़सवार फवाद मिर्जा इवेंटिंग स्पर्धा में ड्रेसेज दौर के पूरे होने के बाद तालिका में वह संयुक्त रूप से नौवें स्थान पर है. 

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

 

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़