इस दिन इतिहास रचने से चूक गया था अफगानिस्तान, रहाणे की कप्तानी और धवन के धमाके कर दिया था पस्त

अफगानिस्तान के जुझारू खिलाड़ियों ने अपने जुनून और मेहनत के दम पर केवल एक दशक में ही न केवल टेस्ट का दर्जा हासिल कर लिया बल्कि बड़े बड़े देशों को शिकस्त भी दी है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jun 15, 2021, 08:33 AM IST
  • शिखर धवन ने खेली थी आतिशी पारी
  • रहाणे थे इस मैच के कप्तान
इस दिन इतिहास रचने से चूक गया था अफगानिस्तान, रहाणे की कप्तानी और धवन के धमाके कर दिया था पस्त

नई दिल्ली: विश्व क्रिकेट में जिस गति से अफगानिस्तान की क्रिकेट ने विकास किया है उस गति से भारत, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका में भी क्रिकेट विकसित नहीं हुआ. अफगानिस्तान के जुझारू खिलाड़ियों ने अपने जुनून और मेहनत के दम पर केवल एक दशक में ही न केवल टेस्ट का दर्जा हासिल कर लिया बल्कि बड़े बड़े देशों को शिकस्त भी दी है.

भारत के खिलाफ खेला था पहला टेस्ट

अफगानिस्तान ने क्रिकेट करियर का पहला टेस्ट मैच भारत के खिलाफ खेला. 14 जून 2018 से बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में शुरू हुए इस टेस्ट में अफगानिस्तान कुछ खास कमाल नहीं दिखा सका और महज दो दिन में अफगानी टीम टेस्ट हार गई. अब तक अफगानिस्तान ने कुल 6 टेस्ट मैच खेले हैं और उसमें 3 में जीत व 3 में हार झेलनी पड़ी है.

ये भी पढ़ेंः अब तक तय नहीं हो सका है टी20 वर्ल्डकप का आयोजन स्थल, चिंता में ICC

भारत ने टॉस जीतकर की पहले बल्लेबाजी

आपको बता दें कि भारत के कप्तान अजिंक्य रहाणे ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया. भारत की ओर से मुरली विजय और शिखर धवन ने शानदार शुरुआत दी. विजय ने 105 और धवन ने 107 रन बनाए. हार्दिक पांड्या ने भी 7 रनों की पारी खेली थी. भारत ने पहली पारी में 474 रन बनाए. राहुल ने 54, पुजारा ने 35 रहाणे ने 10 और दिनेश कार्तिक ने 4 बनाये.अफगानिस्तान की ओर से अहमदजाई ने 3, राशिद खान ने 2, वफादार ने 2 विकेट झटके थे.

जवाब में अफगानिस्तान की टीम पर पहला टेस्ट खेलने का दबाव था. एम चिन्नास्वामी की धीमी पिच पर अश्विन और जडेजा के आगे पूरा अफगानी बैटिंग क्रम ध्वस्त हो गया. पहली पारी में अफगानिस्तान 109 और दूसरी पारी में 103 रन पर सिमट गई. अफगानिस्तान इस तरह फॉलोवान भी नहीं बचा सका और पारी व 262 रन से मैच हार गया.

ये भी पढ़ेंः WTC फाइनल विजेता पर होगी करोड़ों की बारिश, ICC ने किया ऐलान

रहाणे की दरियादिली ने जीत लिया था दुनिया का दिल

कप्तान अजिंक्य रहाणे ने महान दिल दिखाते हुए ऐतिहासिक मुकाबले में जब विजयी कप्तान के रुप में ट्रॉफी उठाई तो उन्होंने सबसे पहले अफगानिस्तान के खिलाड़ियों को आमंत्रित किया और उनके साथ जीत का जश्न मनाया. भले अफगानिस्तान पहली बार टेस्ट मैच हार गया हो लेकिन उसके खिलाड़ियों का उन्होंने जबरदस्त प्रोत्साहन किया.शिखर धवन को इस मैच में मैन ऑफ द मैच का अवार्ड मिला था. जीवन के पहले टेस्ट मैच में अफगानिस्तान की टीम दोनों पारियों में कुल मिलाकर 66 ओवर भी नहीं खेल सकी. इस मैच की दोनों पारियों में कुल मिलाकर अश्विन ने 5 और रविंद्र जडेजा ने 6 विकेट झटके थे.

अजिंक्य रहाणे थे इस मैच में कप्तान

विराट कोहली की अनुपस्थिति में अजिंक्य रहाणे ने अफगानिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच में कप्तानी की थी. भारत के लिए ये पहला मौका था जब जब किसी खिलाड़ी ने टेस्ट मैच में लंच से पहले ही शतक पूरा कर लिया हो. शिखर धवन ने लंच से पहले ही शतक पूरा करके दुनिया में अनोखा इतिहास रच दिया. वैसे दिन के पहले सत्र में सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड वीरेंद्र सहवाग के नाम था.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़