T20 World Cup 2007: पाकिस्तान को धूल चटा आज ही भारत ने रचा था इतिहास, दुनिया रह गई थी दंग

भारतीय क्रिकेट में आज यानी 24 सितंबर का दिन ही फाइनल में पाकिस्तान को हराकर भारत ने 5 रन से टी20 विश्वकप की पहली ट्रॉफी उठाई थी.

Written by - Adarsh Dixit | Last Updated : Sep 24, 2021, 03:19 PM IST
  • भारतीय क्रिकेट में 24 सितंबर का दिन हमेशा याद किया जाएगा
  • एमएस धोनी की कप्तानी में पहली बार टी20 चैंपियन बना था भारत
T20 World Cup 2007: पाकिस्तान को धूल चटा आज ही भारत ने रचा था इतिहास, दुनिया रह गई थी दंग

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट में 24 सितंबर का दिन हमेशा याद किया जाएगा. इस दिन भारत ने न केवल 24 साल बाद किसी ICC वर्ल्डकप पर कब्जा किया था बल्कि इस दिन भारतीय क्रिकेट को धोनी के रूप में महान कप्तान भी मिला था.

महेंद्र सिंह धोनी पहली बार 2007 के टी20 विश्वकप में ही भारतीय टीम के कप्तान बने थे. 24 सितंबर के दिन फाइनल में पाकिस्तान को हराकर भारत ने 5 रन से जीत दर्ज की थी और टी20 विश्वकप की पहली ट्रॉफी उठाई थी.

14 साल पहले युवा भारत ने रचा था इतिहास

भारतीय क्रिकेट टीम ने आज ही के दिन 14 साल पहले दक्षिण अफ्रीका में आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप की ट्रॉफी उठाई थी. साल 2007 में पहली बार टी-20 विश्व कप खेला गया था और महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी में युवा भारतीय टीम ने फाइनल में पाकिस्तान को 5 रन से हराकर खिताब अपने नाम किया था.

इसी जीत ने भारत में इंडियन प्रीमियर लीग की नींव रखी और भारत में दुनिया की सबसे रोमांचक प्रतियोगिता की शुरुआत इसके ठीक 6 महीने बाद हुई. 2008 के अप्रैल महीने में पहला आईपीएल मुकाबले RCB और KKR के बीच खेला गया था.  

भारत में हुई धोनी युग की शुरुआत

टी20 विश्वकप 2007 की खिताबी जीत के बाद से ही भारतीय क्रिकेट में धोनी युग की शुरुआत हुई थी. इस टूर्नामेंट में सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ जैसे टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ियों ने भाग नहीं लिया था.

इरफान पठान, गौतम गंभीर, यूसुफ पठान, रॉबिन उथप्पा, रोहित शर्मा, जोगिंदर शर्मा जैसे युवाओं से सजी भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसी दिग्गज टीमों को हराकर खिताब पर कब्जा किया था.

अहम बात ये है कि इस साल भी टी20 विश्वकप होना है और एमएस धोनी इसमें भारतीय टीम के मेंटर होंगे.

फाइनल में दिखी थी जबरदस्त जंग

भारत और पाकिस्तान के बीच 2007 के टी20 विश्वकप में जबरदस्त जंग देखी गई थी. पाकिस्तान को आखिरी ओवर में जीत के लिए 13 रनों की दरकार थी. क्रीज पर मिस्बाह उल हक और मोहम्मद आसिफ मौजूद थे लेकिन गेंदबाज जोगिंदर शर्मा ने मिस्बाह को आउट कर मैच को पाकिस्तान से छीन लिया था.

एक गेंद ने रच दिया इतिहास

मिस्बाह ने जोगिंदर की दूसरी गेंद पर छक्का जड़ दिया. अब 4 गेंद पर सिर्फ 6 रन चाहिए थे. मिस्बाह को जोगिंदर ने अगली गेंद पैरों पर फेंकी और उन्होंने छक्का मारने के लिए उस गेंद को हवा में डीप थर्डमैन पर उठा दिया. एस श्रीसंत ने आसान कैच लपककर भारत को विश्व चैंपियन बना दिया.

टीम इंडिया की बल्लेबाजी में गौतम गंभीर सबसे बड़े स्कोरर रहे थे. उन्होंने 75 रन बनाए थे.  इसके बाद रोहित शर्मा टीम के दूसरे बड़े स्कोरर रहे. उनके बल्ले से 30 रन निकले थे. भारत ने 20 ओवरों में 157 रन बनाए थे. इरफान पठान ने शानदार गेंदबाजी की थी और उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया था.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़