CISF में होने जा रही हैं बंपर भर्तियां, रिटायर्ड कर्मी भी कर सकते हैं आवेदन

CISF में 1.8 लाख जवानों की संख्या बढ़ाकर 3 लाख किया जाएगा. खास बात यह है कि इस भर्ती के लिए सेना व अर्धसैनिक पदों से रिटायर्ड कर्मी भी कर सकेंगे आवेदन.

CISF में होने जा रही हैं बंपर भर्तियां, रिटायर्ड कर्मी भी कर सकते हैं आवेदन

नई दिल्ली: देश में पहली बार CISF  में अनुबंध पर भर्तियां की जाने वाली है. गृह मंत्रालय ने CISF  को कॉमर्शियल फोर्स बनाने की दिशा में काम करना शुरू कर दिया है. CISF अफसरों ने मई 2019 को सरकार से मांग की थी कि उनकी संख्या को बढ़ाई जाए और इसके लिए गृह मंत्रालय को प्रस्ताव भी भेजा था.

जवानों की मांग पर विचार करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने 23 सितंबर को एक बैठक बुलाई थी. वर्तमान में CISF  जवानों की कुल संख्या 1.8 लाख है लेकिन मीटिंग में CISF  की संख्या को 1.8 लाख से 3 लाख किए जाने का फैसला लिया गया. इसके लिए केंद्र सरकार और CISF  विभाग के लोग काम में लग चुके हैं.

केंद्रीय गृह मंत्रालय की अध्यक्षता में हुए बैठक में की तैनाती अनुबंध के आधार पर की जाएगी. सेना व अर्धसैनिकों से रिटायर्ड कर्मी भी इसके लिए आवेदन कर सकते हैं. यह देश में पहली बार होगा जब CISF में कॉन्ट्रैक्ट आधारित भर्तियां हो रही हैं. भर्तियों की प्रक्रिया 3:2 पर आधारित होगी यानी कि CISF  बल में तीन स्थायी जवान होंगे तो दो कॉन्ट्रैक्ट पर आधारित जवान तैनात रहेंगे. 

8 नवंबर को गृह मंत्रालय के जरिए जारी किए गए दिशा निर्देशों का पालन करते हुए एडीशनल सेक्रेटरी(पुलिस) और CISF  के स्पेशल DG(हेडक्वार्टर) के बीच बैठक की गई. इसके बाद काम को आगे बढ़ाने की रणनीति पर विचार किया गया. उसके बाद 15 नवंबर को गृह मंत्री अमित शाह के साथ CISF  DG की मीटिंग हुई. इस मीटिंग के बाद CISF DG  ने अपने सभी अफसरों, बल के स्पेशल DG, ADG और सेक्टर IG को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कॉल के जरिए प्रस्तावना को आगे बढ़ाते हुए 22 नवंबर तक रिपोर्ट पेश करने को कहा है. इसमें यह भी कहा गया है कि CISF के अधिकारी निजी क्षेत्र की बड़ी कंपनियों या कारखानों में जाकर यह निरीक्षण करेंगे कि वहां CISF की तैनाती की जा सकती है या नहीं.