CM योगी ने MSME के लिए खोला खजाना, बांटा 10 करोड़ रुपये से अधिक का लोन

राज्य सरकार की ओर से बताया गया कि CM ने यहां अपने सरकारी आवास पर 3,54,825 एमएसएमई इकाइयों को 10,390 करोड़ रुपये के ऋण एवं ‘एक जनपद, एक उत्पाद’ के अन्तर्गत 5,000 प्रशिक्षार्थियों को ‘टूल किट’ ऑनलाइन वितरित किए. 

CM योगी ने MSME के लिए खोला खजाना, बांटा 10 करोड़ रुपये से अधिक का लोन

लखनऊः उत्तर प्रदेश को विकास की राह पर दौड़ाने के लिए प्रदेश सरकार कई योजनाओं का लागू कर क्रियान्वयन कर रही है. उद्योगों की ओर भी ध्यान देकर भारी उद्योगों को भी बढ़ावा दिया जा रहा है. इसके लिए सीएम योगी आदित्यनाथ के सरकारी आवास पर MSME इकाइयों को ऋण दिया गया. खुद मुख्यमंत्री ने ‘एक जनपद, एक उत्पाद’ योजना के तहत 5000 प्रशिक्षार्थियों को टूलकिट ऑनलाइन वितरित किए. 

5,000 प्रशिक्षार्थियों को ‘टूल किट’वितरित
जानकारी के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को ऑनलाइन ऋण मेले के तहत साढ़े तीन लाख से ज्यादा कुटीर, लघु एवं मंझोले उद्योगों (एमएसएमई) को करीब 10 करोड़ रुपये की धनराशि बतौर कर्ज वितरित की.

राज्य सरकार की ओर से बताया गया कि CM ने यहां अपने सरकारी आवास पर 3,54,825 एमएसएमई इकाइयों को 10,390 करोड़ रुपये के ऋण एवं ‘एक जनपद, एक उत्पाद’ के अन्तर्गत 5,000 प्रशिक्षार्थियों को ‘टूल किट’ ऑनलाइन वितरित किए. 

 9,074 करोड़ रुपये का ऋण वितरित
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि ऑनलाइन लोन मेले के माध्यम से आज MSME क्षेत्र की इकाइयों को ऋण वितरित किया जा रहा है. इसके पूर्व भी कोरोना काल में विभिन्न चरणों के तहत एमएसएमई इकाइयों के लिए ऑनलाइन ऋण वितरित किया जा चुका है. उन्होंने कहा कि आज MSME क्षेत्र की 3 लाख 24 हजार 911 नई इकाइयों को कुल 9,074 करोड़ रुपये का ऋण वितरित किया जा रहा है. 

प्रदेश की एमएसएमई इकाइयों को मिल रहा है लाभ
मुख्यमंत्री ने कहा कि MSME सेक्टर को आगे बढ़ाकर तथा इसके माध्यम से उद्यमियों, व्यवसायियों और युवाओं को उन्नति का बेहतर माहौल देकर प्रदेश की सम्भावनाओं को वास्तविक धरातल पर उतारने में सफलता मिलेगी. आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत ऋण वितरण से प्रदेश की एमएसएमई इकाइयों को लाभ मिल रहा है.

यह स्थानीय स्तर पर आम नागरिकों को स्वावलम्बी बनाने तथा प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना को साकार करने का एक सशक्त माध्यम है. 

ऋण की सुविधा उपलब्ध कराने के दिए निर्देश
CM ने कहा कि नई MSME इकाइयों की स्थापना तथा विस्तार के लिए पुरानी इकाइयों को पूंजी उपलब्ध कराने में यह लोन मेला एक संजीवनी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी तक सम्पन्न लोन मेलों के माध्यम से MSME क्षेत्र को व्यापक स्तर पर ऋण सुविधा प्रदान की गयी है. इससे लगभग 25 लाख रोजगार सृजित हुए हैं. CM योगी ने वर्तमान वित्तीय वर्ष 2020-21 में 20 लाख MSME इकाइयों को बैंकों से जोड़ते हुए ऋण की सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं. 

यह भी पढ़िएः योगी के 'मिशन Film City' से उद्धव सेना के सीने पर सांप लोट गया

देश और दुनिया की हर एक खबर अलग नजरिए के साथ और लाइव टीवी होगा आपकी मुट्ठी में. डाउनलोड करिए ज़ी हिंदुस्तान ऐप. जो आपको हर हलचल से खबरदार रखेगा...

नीचे के लिंक्स पर क्लिक करके डाउनलोड करें-
Android Link -