फूल पत्तियों के कचरे से फैलाई जा रही है खुशबू

जम्मू के मंदिरों में चढ़ाई गई फूल पत्तियां अब कूड़े का हिस्सा नहीं  बनेंगी. नगर निगम ने इसके सदुपयोग का अच्छा रास्ता निकाला है. 

फूल पत्तियों के कचरे से फैलाई जा रही है खुशबू

जम्मू: जम्मू के मंदिर में चढ़ाए जाने वाली फूल पत्तियां पिछले कुछ समय पहले जम्मू नगर निगम के लिए समस्या बनती जा रही थी. जिसके बाद मंदिरों में चढ़ाए फूलों को इकठ्ठा करके जैविक खाद बनाने की परियोजना शुरु की गई थी. लेकिन अब एक कदम आगे बढ़ते हुए इन फूलों से अगरबत्तियां बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई है. 

कचरा बनता था प्रदूषण का कारण
जम्मू नगर निगम ने काफी सराहनीय कदम उठाया है. पहले जहां मंदिरों में चढ़ाए फूल या तो कचरे के डिब्बे में डाल दिए साथ जाते या फिर इन्हें नदी नालों में बहाया जाता था. जिसकी वजह से इनके निपटान में समस्या आती थी. पानी में बहाए जाने पर पानी में प्रदूषण फैलता था. लेकिन अब जम्मू नगर निगम की तरफ से जम्मू के सभी मंदिरों से फूल इकठ्ठे कर लिये जाते हैं. जिसके बाद इन्हें स्वरोजगार इकाईयों को सौंप दिया जाताहै. जो कि इनसे अगरबत्तियां बनाते हैं. 

सोशल मीडिया और खेती के मेल से कुछ इस तरह हर महीने कमा सकते हैं लाखों रुपए

कई महिलाओं को मिला रोजगार 
जम्मू नगर निगम की इस पहल से 25 महिलाओं को रोजगार मिला है. ये महिलाएं इन फूलों को सुखाकर चुरा बनाकर और खुशबू मिलाकर अगरबत्तियां बनाने का काम करती हैं. 

ये काम जम्मू में दो जगहों पर चल रहा है. नगर निगम ने इस काम को अंजाम देने के लिए बकायदा इन महिलाओं को ट्रेनिंग भी दी है. इन सभी को निगम की तरफ से अगरबत्ती बनाने के लिए मशीनें और जरुरत का बाकी सामान उपलब्ध कराया गया है. 

कश्मीर घाटी का ये कदम किसानों को दे रहा है जल संरक्षण का संदेश 

मार्केंटिंग का जिम्मा भी निगम ने उठाया
बेकार फूल पत्तियों से महिलाओं से अगरबत्ती बनाने के बाद नगर निगम उन्हें यूं नहीं छोड़ देता, बल्कि उनके बनाए गए उत्पाद को बेचने का इंतजाम भी करता है. इन अगरबत्तियों को निगम द्वारा स्थापित दुकानों पर बेच भी जाता है. जिसकी आय का कुछ हिस्सा इन महिलाओं को दिया जाता है. 

किसानों को राहत देने वाली है ये खबर, जरुर पढ़ें

बडे़ पैमाने पर ये काम फैलाने की योजना
यह काम कर रही महिलाओ का कहना है कि उन्हें एक है लगता है कि अब पूजा के फूलों का निरादर नही होता है और उनके द्वारा बनाई अगरबत्ती अब लोगों के घरों में खुशबू फैला रही है.  

वही इस प्रोजेक्ट के नोडल अफसर डॉ. ज़फ़र इक़बाल का कहना है कि जहां आज काफी छोटे पैमाने पर यह काम शुरू किया गया है.  कोशिश की जा रही है कि इस काम को बढ़ाया जा सके जिससे और भी रोज़गार उत्पन्न ही सके. 

इसके लिए नगर निगम द्वारा बने माल की खपत के लिए हर मोहल्ले में आउटलेट भी खोले जाने की तैयारी में है. 

बच्चों को मोबाइल से बचाना है तो ये तरीका आजमााएं