close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इस रिपोर्ट के बाद सहम उठा हर भारतीय!

 आपके पैसों पर जालसाज नजर गड़ाए बैठें हैं, इस खबर के बाद हर भारतीय सहम उठा है. दरअसल 13 लाख लोगों के डेबिट और क्रेडिट कार्ड की जानकारी लीक हो गई है. जिसमें 98 फीसदी भारतीय शामिल हैं.

इस रिपोर्ट के बाद सहम उठा हर भारतीय!

नई दिल्ली: आपके अपने पैसों पर सेंधमारी करने के लिए हैकर्स नजर गड़ाए बैठे हैं. तकरीबन 13 लाख भारतीयों के डेबिट और क्रेडिट कार्ड की जानकारी लीक हो गई है. और जोकर स्टैश नाम की वेबसाइट में इन कार्ड की डिटेल ऑनलाइन बेची जा रही है. माना जा रहा है कि हैकर्स ने कार्ड यूजर के एटीएम मशीन या पॉइंट ऑफ सेल मशीन का इस्तेमाल करते वक्त कार्ड पर लगी मैग्नेटिक पट्टी से डेटा चुराया है.

आपके पैसों पर किसी की नजर है!

सिंगापुर की साइबर डेटा एनालिसिस करने वाली संस्था ग्रुप आईबी के अनुसार, हैकर्स की वेबसाइट जोकर स्टैश पर 13 लाख बैंक कार्ड की जानकारी बेची जा रही है. इनमें से 98 फीसदी कार्ड डिटेल भारत से है. सितंबर 2019 तक भारत में डेबिट और क्रेडिट कार्ड मिलाकर 9.72 करोड़ कार्ड प्रयोग में हैं.

हैकर्स की ओर से बेचे जाने वाले डेटा में ट्रैक 1 और ट्रैक 2 दोनों डेटा शामिल हैं. जिन्हें केवल ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के लिए या फिर कार्ड क्लोनिंग के लिए इस्तेमाल किया जाता है. ग्रुप आईबी के रिसर्चर को जांच में पता चला कि एक कार्ड के डेटा को 100 डॉलर में बेचा जा रहा है. ग्रुप आईबी ने इसकी जानकारी संबंधित अधिकारी को दे दी है. ग्रुप आईबी ने किसी बैंक के नाम का खुलासा नहीं किया है, लेकिन कहा जा रहा है कि 18 फीसदी कार्ड एक ही बैंक के हैं. साइबर एक्सपर्ट इसे साल की सबसे बड़ी हैकिंग मान रहे हैं.

डेटा लीक से सहमे भारतीय

यूरोप और उत्तरी अमेरिका के दूसरे देशों में बैंकों और पेमेंट वेंडरों को एक कानून के तहत लॉ इंफोर्समेंट, रेग्युलेटर और ग्राहकों को डेटा ब्रीच होने के 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट करना जरूरी होता है. जबकि भारत में ग्राहकों को अकाउंट और कार्ड की जानकारी लीक होने की खबर बहुत बाद में मिलता है. इतने बड़े पैमाने पर डेबिट और क्रेडिट कार्ड का डेटा लीक होने से भारतीय सहमे हुए हैं. लेकिन साइबर एक्सपर्ट का कहना है कि ग्राहकों को इससे डरने की जरुरत नहीं है.

नीचे पढ़ें: एक्सपर्ट की सलाह

पैसे को सुरक्षित रखने का जिम्मा बैंकों का है. कार्ड दुरुपयोग में ग्राहक की गलती नहीं है, तो भरपाई बैंक को करनी होगी.

लेकिन साथ ही एक्सपर्ट ग्राहकों को सतर्क रहने की सलाह भी दे रहे हैं. एक्सपर्ट की सलाह है कि शॉपिंग करने से पहले वेबसाइट के रिव्यूज जरूर देखें

वेबसाइट से हमेशा ब्रैंडेड प्रोडक्ट ही खरीदें, जो भी प्रोडक्ट खरीदना है उसकी जानकारी जरूर जुटा लें.

प्रोडक्ट के बिल को संभाल कर रखें, इसके साथ ही पेमेंट के लिए कैश ऑन डिलिवरी का ऑप्शन चुनें. अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड की जानकारी किसी के साथ शेयर न करें.

इसके अलावा कुछ गाइडलाइंस हैं, जो अक्सर बैंक आपको मैसेज या कॉल के जरिये बताते हैं. किसी भी डेबिट या क्रेडिट कार्ड को किसी एटीएम में यूज करने से पहले उस एटीएम की ठीक से जांच कर लें. चेक कर लें कि कहीं कोई डिवाइस अटैच तो नहीं है. सुनसान जगह के एटीएम या फिर ऐसा एटीएम जिसे देख कर आपको शक हो रहा हो. तो वहां से ट्रांजेक्शन न करें. आपके अपने पैसे तभी सुरक्षित रहेंगे जब आप पूरी तरह मुशतैद और सतर्क रहेंगे.