ओवर एक्सरसाइज से हार्ट अटैक के खतरे को कम करेगा ये आविष्कार, जानिए कैसे

नई दिल्लीः आईआईटी गांधी नगर (IIT Gandhinagar) के रिसचर्स ने एक ऐसा आविष्कार किया है, जो अधिक व्यायाम (Over Exercise) के कारण होने वाले हार्ट अटैक (Heart Attack) के खतरे के प्रति सजग करेगा.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 28, 2021, 01:34 PM IST
  • आईआईटी गांधीनगर के रिसर्चर्स ने किया आविष्कार
  • चलने की समस्या से परेशान लोगों को भी होगा फायदा

ट्रेंडिंग तस्वीरें

ओवर एक्सरसाइज से हार्ट अटैक के खतरे को कम करेगा ये आविष्कार, जानिए कैसे

नई दिल्लीः आईआईटी गांधी नगर (IIT Gandhinagar) के रिसचर्स ने एक ऐसा आविष्कार किया है, जो अधिक व्यायाम (Over Exercise) के कारण होने वाले हार्ट अटैक (Heart Attack) के खतरे के प्रति सजग करेगा. उन्होंने ओवर एक्सरसाइज से हार्ट अटैक के खतरे को कम करने के लिए कार्डियक-सेंसिटिव आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस-सक्षम वर्चुअल रियलिटी-आधारित ट्रेडमिल व्यायाम प्लेटफॉर्म का आविष्कार किया है.

दरअसल, हाल ही के दिनों में कुछ फिल्म कलाकारों एवं अन्य बड़ी हस्तियों की अचानक मृत्यु की खबरें सामने आई थीं. स्वस्थ और कम उम्र होने के बावजूद ये मौतें हार्ट अटैक से हुईं. विशेषज्ञों का कहना है कि इसका एक बड़ा कारण अति व्यायाम है.

अति व्यायाम के जोखिम को रोकेगा
इस इनोवेशन से हृदय की सहनशक्ति, गति संतुलन और चलने के पैटर्न में सुधार हो सकता है, जिससे अति-व्यायाम के जोखिम को रोका जा सकता है. साथ ही यह इनोवेशन एक अनुकूली, प्रगतिशील और इमर्सिव व्यायाम अनुभव प्रदान करता है. यह जिम और ट्रेडमिल उपयोगकतार्ओं के साथ-साथ ऐसे रोगियों के लिए बहुत उपयोगी है, जिन्हें चलने में समस्या है.

आईआईटी गांधीनगर के शोधकर्ताओं ने इस आविष्कार के लिए एक भारतीय पेटेंट भी दायर किया है.

इन्होंने मिलकर किया आविष्कार
आईआईटी गांधीनगर के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर उत्तमा लाहिरी के नेतृत्व में शोधकतार्ओं की एक टीम ने वर्चुअल रियलिटी आधारित ट्रेडमिल व्यायाम प्लेटफॉर्म पीट्रेड एक्स का आविष्कार किया है. यह आविष्कार आईआईटी गांधी नगर के पूर्व पीएचडी छात्र डॉ. धवल सोलंकी के पीएचडी शोध का हिस्सा था. 

इसमें उनके साथ आईआईटी के डिजाइन एंड इनोवेशन सेंटर के सहायक टीचिंग प्रोफेसर मानसी कनेतकर, औद्योगिक डिजाइनर श्री नीरवकुमार पटेल, और जूनियर रिसर्च फेलो श्री आनंद चौहान भी जुड़े थे.

व्यायाम पैरामीटर सेट करने में मदद करती है मशीन
दरअसल, यह मशीन व्यक्ति के कार्डियक लोड की निगरानी में और उपयोगकर्ता को कोई अनुचित तनाव या नुकसान पहुंचाए बिना कार्डियक सहनशक्ति में सुधार के लिए व्यायाम पैरामीटर सेट मदद में करती है. यह एक फिजियोलॉजी-सेंसिटिव सिस्टम के रूप में काम करती है, जिसका व्यवहार उपयोगकर्ता के शारीरिक मापदंडों और आराम के स्तर पर निर्भर करती है. 

संपूर्ण प्रणाली व्यक्ति के शारीरिक व्यवहार को महसूस करती है और उसके व्यायाम के चुनौती स्तर को तय करती है. चुनौती का स्तर अलग-अलग तरीके का हो सकता है. जैसे ट्रेडमिल की गति में बदलाव, ऊंचाई आदि.

ऑडियो-विजुअल फीडबैक देता है यह ट्रेडमिल
यह ट्रेडमिल पर व्यक्ति के प्रदर्शन के आधार पर ऑडियो-विजुअल फीडबैक देता है और ट्रेडमिल की गति, ऊर्जा खपत, धड़कन की गति आदि जैसी अन्य जानकारी भी दिखाता है. यह प्लेटफॉर्म व्यक्ति को उसके शरीर की सीमा के अनुसार एक मध्यम व्यायाम प्रणाली का पालन करने में मदद करता है, जिससे अधिक व्यायाम के कारण चोटों या मृत्यु के जोखिम को कम किया जा सकता है. 

यह भी पढ़िएः 1 December New Rules: अगले महीने से बदल जाएंगे ये पांच नियम, आपकी जेब पर पड़ेगा भारी असर

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़