• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 5,95,501 और अबतक कुल केस- 19,64,537: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 13,28,337 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 40,699 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.15% से बेहतर होकर 67.62% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 51,706 मरीज ठीक हुए
  • गोवा MyGov के जनभागीदारी मंच में शामिल हुआ. सरकार के साथ अपनी राय, विचार और सुझाव साझा करने के लिए नागरिक रजिस्टर करें
  • कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दिल्ली पुलिस की मदद करने के लिए 'कोरोना क्लीनर' का विकास
  • IIT दिल्ली के स्नातकों ने यूवी विकिरण का उपयोग करके 'कोरोना क्लीनर' का विकास किया
  • 74वें स्वंतत्रता दिवस का जश्न सेना, नौसेना और भारतीय वायु सेना के बैंड की संगीतमय प्रस्तुति के साथ मनाया जा रहा है
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना चरण-1 : अप्रैल 2020 से जून 2020
  • राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों ने एनएफएसए लाभार्थियों के बीच अप्रैल-जून 2020 की अवधि के लिए आवंटित खाद्यान्न का 93.5% वितरित किय
  • भारतीय रेलवे द्वारा अयोध्या स्टेशन को राम मंदिर के मॉडल के तर्ज विकसित किया जाएगा

विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए बने नए नियम, यहां पढ़कर समझ लीजिए

मंत्रालय ने पूर्व में जारी दिशा निर्देशों में बदलाव किया है.  इसके अनुसार, सभी यात्रियों को ऑनलाइन पोर्टल पर एक शपथ-पत्र देना होगा कि वे अनिवार्य रूप से 14 दिन के क्वारंटाइन में रहेंगे. इनमें से 7 दिन के संस्थागत क्वारंटाइन का उन्हें भुगतान करना होगा और बाकी 7 दिन गृह पृथक-वास के दौरान अपने स्वास्थ्य की स्वयं निगरानी करनी होगी. 

विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए बने नए नियम, यहां पढ़कर समझ लीजिए

नई दिल्लीः कोरोना संकट को देखते हुए अभी भी यात्रा व परिवहन सामान्य नहीं किया गया है. खासतौर पर विदेश व अंतरराष्ट्रीय परिवहन को लेकर और अधिक सावधानी बरती जा रही है. ऐसे में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने विदेशों से आने वाले लोगों के लिए रविवार को संशोधित दिशा-निर्देश जारी किए, जो कि 8 अगस्त से प्रभावी होंगे. 

7 दिन का संस्थागत क्वारंटाइन
जानकारी के मुताबिक, मंत्रालय ने पूर्व में जारी दिशा निर्देशों में बदलाव किया है.  इसके अनुसार, सभी यात्रियों को ऑनलाइन पोर्टल पर एक शपथ-पत्र देना होगा कि वे अनिवार्य रूप से 14 दिन के क्वारंटाइन में रहेंगे.

इनमें से 7 दिन के संस्थागत क्वारंटाइन का उन्हें भुगतान करना होगा और बाकी 7 दिन गृह पृथक-वास के दौरान अपने स्वास्थ्य की स्वयं निगरानी करनी होगी. 

पोर्टल पर लिया गया निर्णय अंतिम होगा
मंत्रालय ने कहा कि केवल विशेष मामलों जैसे कि गर्भावस्था, परिवार में मृत्यु, गंभीर बीमारी और 10 साल अथवा उससे कम उम्र के बच्चों वाले अभिभावकों को 14 दिनों के गृह पृथक-वास की अनुमति दी जा सकती है. अगर यात्री ऐसी छूट प्राप्त करना चाहते हैं तो उन्हें पहुंचने से कम से कम 72 घंटे पहले ऑनलाइन पोर्टल पर आवेदन करना होगा. सरकार पोर्टल पर जो निर्णय लेगी वही अंतिम होगा. 

ऐसे मिल सकती है संस्थागत क्वारंटाइन में छूट
यदि कोई यात्रा संस्थागत क्वारंटाइन में छूट चाहता है तो वह यात्री यहां पहुचंने पर आरटी-पीसीआर परीक्षण में संक्रमण नहीं होने की पुष्टि वाली रिपोर्ट जमा करे. ऐसा करके वह संस्थागत क्वारंटाइन से छूट की मांग कर सकता है.

यह परीक्षण यात्रा शुरू करने से पहले 96 घंटों के भीतर किया गया होना चाहिए. 

केद्रीय गृहमंत्री अमित शाह कोरोना संक्रमित, ट्वीट करके बताया

योगी सरकार की कैबिनेट मंत्री कमल वरुण का कोरोना संक्रमण से निधन