close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

थाली से गायब हुई प्याज! कीमतें छू रही हैं आसमान

आम आदमी की खाली में से प्याज से बने पकवान गायब हो चुके हैं. हर कोई इस इंतजार में है, कि लगातार बढ़ रही कीमतों पर लगाम लगे और कब पहले की तरह वो प्याज खाने के काबिल हो पाए.

थाली से गायब हुई प्याज! कीमतें छू रही हैं आसमान

नई दिल्ली: प्याज एक बार फिर से आम जनता के आंसू निकाल रही. प्याज की बढ़ती कीमतों ने थाली का स्वाद बिगाड़ दिया है. दरअसल, देश में एक बार फिर प्याज के दाम 80 रुपए के पार पहुंच गए हैं. एक महीने में दूसरी बार फिर से प्याज के दाम आसमान छू रहे हैं. हालात ये हैं कि खुदरा बाजार में लोग 100 रुपए प्रति किलो प्याज खरीद रहे हैं.

आसमान पर प्याज की कीमत

पिछले एक हफ्ते में प्याज के दाम 40 फीसदी तक बढ़ गये हैं. अलग-अलग शहरों में प्याज के दाम 80 रुपये तक पहुंच गया है. 

  • दिल्ली के खुदरा बाजार में प्याज 80 रुपये बिक रहा है
  • चंडीगढ़ में भी प्याज 80 रुपये मिल रहा है
  • मुंबई में प्याज 70 रुपये बिक रहा है
  • कोलकाता में भी प्याज का दाम 70 तक पहुंच गया है
  • वहीं चेन्नई में प्याज 50 रुपये मिल रहा है

प्याज के बढ़ते दाम ने आमलोगों का जायका खराब कर दिया है. हरी सब्जियों और टमाटर के दाम तो पहले से आसमान छू रहे थे. अब प्याज के बढ़े दाम ने लोगों का बजट खराब कर दिया है.

सरकार का दावा, लेकिन कितना सच्चा?

सरकार का दावा है कि अगले कुछ दिनों में प्याज के दाम में नरमी आ जाएगी. लेकिन दुकानदारों का मानना है कि प्याज की सप्लाई कम होने के कारण अगले एक महीने तक प्याज के दाम कम नहीं होने वाले हैं. फसल की नई खेप आने के बाद ही लोगों को इससे राहत मिलेगी. खुदरा व्यापारीयों का ये भी आरोप है कि बड़े व्यापारी प्याज की जमाखोरी कर रहे हैं. जिसकी वजह से मंडी में प्याज महंगा आ रहा है. सरकार को ऐसे व्यापारियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए.

देशभर में भी प्याज की कीमत आसमान छू रही है. जो महिलाएं पहले एक बार में 2-3 किलो प्याज खरीदती थी. वो पाव-दो पाव प्याज ही खरीद पा रही हैं. घर का किचन संभालने वाली महिलाओं की मांग है कि सब्जियों के दाम बोर्ड पर लिखे होने चाहिए.

इसे भी पढ़ें: किसान तो यूं ही बदनाम है साहब, दिल्ली में प्रदूषण की असली वजह कुछ और ही है

 

क्या है वजह?

आमतौर पर 1 नवंबर तक सर्दियों की फसल मंडियों में पहुंच जाती है. लेकिन इस बार ऐसा नहीं हो पा रहा है. क्योंकि देश के कई इलाकों में बारिश के कारण फसल बर्बाद हो गई. अब इस महीने के अंत तक नई फसल मंडी तक पहुंचेगी. और उससे पहले आम जनता को महंगाई से कोई राहत नहीं मिलने वाली.

इसे भी पढ़ें: कृषि क्रांति- विदेश से लौटे इंजीनियर की अनोखी पहल

प्याज की कीमत बढ़ने को लेकर सरकार भी अलर्ट हो गई है. खाद्य और आपूर्ति मंत्रालय में मंगलवार को मीटिंग हुई. जिसमें प्याज की सप्लाई बढ़ाने और बाहर से आने वाली प्याज को मार्केट में जल्द से जल्द लाने पर विचार हुआ. साथ ही जमाखोरों के खिलाफ कार्रवाई के भी निर्देश दिये गये. लेकिन प्याज की बढ़ती कीमतों पर लगाम कब लगेगा और आम आदमी भी प्याज खाने के लिए कब पहले जैसे दिन वापस ला पाएगा. इस सवाल के जवाब का हर किसी को इंतजार है.