आरोग्य सेतु ऐप को लेकर सरकार का बड़ा ऐलान, कमी ढूंढने वाले को 1 लाख का इनाम

कोरोना वायरस से जुड़े खबरों से लेकर कोरोना को ट्रैक करने के लिए भारत सरकार ने आरोग्य सेतु एप लॉन्च किया था. इस ऐप को आपार सफलता मिली लेकिन कई लोग इस ऐप पर सवाल उठाते रहे और इसे असुरक्षित बताया. जिसे ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने देशवासियों से अपील की है कि जिसे भी इस एप में किसी प्रकार की कमी लग रही है वह इसे बताकर इसका सॉल्युशन दें. ऐसा करने वाले इंसान को सरकार की तरफ से 1 लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 29, 2020, 03:12 PM IST
    • 1 लाख से लेकर 3 लाख तक पा सकते हैं इनाम
    • ऐप में मौजूद कमी को बताकर, बन सकते हैं लखपति
    आरोग्य सेतु ऐप को लेकर सरकार का बड़ा ऐलान,  कमी ढूंढने वाले को 1 लाख का इनाम

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से जुड़ी अपडेट और इसे ट्रैक करने को लेकर भारत सरकार ने आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) को डेवल्प किया है. इस ऐप को कुछ ही समय में बड़ी सफलता प्राप्त हुई और इसने एक रिकॉर्ड सेट कर दिया.

1 जून से इन स्थानों पर रुकेंगी ट्रेन, पढ़िए पूरी लिस्ट.

लेकिन इस ऐप को लेकर सरकार को कई दफा विपक्षी व अन्य लोग सवालों के घेरे में घेरते नजर आएं. कुछ लोगों ने ऐप में बग बताया तो कुछ न डेटा लीक होने की खबर बताई. पर भारत सरकार की तरफ से इसे सुरक्षित बताया गया और साथ ही यह भी बोला गया कि ऐप में कोई कमी है तो यह सरकार को बताया जाए ताकि उसमें सुधार किया जा सके.  

इसी को देखते हुए अब सरकार ने यहां तक ऐलान कर दिया है कि जो भी व्यक्ति Aarogya Setu ऐप में कमी का पता लगाएगा और उसका सॉल्युशन बताएगा उसे इनाम के रूप में 1 लाख की राशि दी जाएगी. इसके तहत 3 लाख रुपए तक का इनाम जीतने का मौका मिल रहा है. जिन भी लोगों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा उनको सरकार की ओर से सर्टिफिकेट मिलेगा. यह प्रोग्राम 27 मई से 26 जून तक चलेगा. बता दें कि सरकार की ओर से शुरू किए गए इस कम्पटीशन का मकसद देशभर के सेक्योरिटी रिसर्चर्स और डेवलपर के साथ मिलकर ऐप की सुरक्षा में सुधार लाना और उसे बढ़ाना है.

भीषण गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद, इन जगहों पर हो सकती है हल्की बारिश.

बता दें इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले लोगों को ऐप का ओपन सोर्स रिसर्च कम्युनिटी के लिए उपलब्ध करवाना  होगा. जिसके तहत यूजर्स और रिसर्च करने वाले लोग ऐप की प्राइवेसी और सुरक्षा को प्रभावित करने वाली कमी को देखकर जानकारी दे सकता हैं. इसके लिए सिक्योरिटी रिसर्चर्स द्वारा कोई भी सिक्योरिटी या प्राइवेसी से जुड़ी किसी प्रकार की कमी पाए जाने पर उसे as-bugbounty@nic.in पर सूचित करना होगा. और  Security Vulnerability Report की सब्सेक्ट लाइन के साथ भेजना होगा.

जिसके बाद आरोग्य सेतु ऐप की टीम आपके द्वारा निकाली गई गलती को वेरीफाई करेगी और फिर इसको ठीक करेगी. सोर्स कोड में किसी तरह के सुधार के बारे में भी as-bugbounty@nic.in पर Code Improvement सब्जेक्ट लाइन के साथ भेजा जा सकता है. इसके लिए आपको कमी व गड़बड़ी की डिटेल जिसमें स्क्रीनशॉट या पीओसी की वीडियो रिपोर्ट करनी होगी.  

सरकार की तरफ से आरोग्य सेतु ऐप के एंड्रॉयड वर्जन का सोर्स कोड शेयर किया गया है. जिसके साथ यह जानकारी दी गई  है कि  करीब 98 फीसदी यूजर्स एंड्रॉयड ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं. और बहुत जल्द ही सरकार  IOS और KaiOS वर्जन का सोर्स कोड भी शेयर करेगी. 

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़