'राफेल डील पहले के मुकाबले 2.86 फीसदी सस्ता'

राफेल पर कैग की रिपोर्ट के बाद सियासत फिर से उफान पर है. रिपोर्ट में कहा गया है कि यूपीए की तुलना में एनडीए सरकार का राफेल सौदा ना केवल 2.86 फीसदी सस्ता है बल्कि उस वक्त इससे सस्ती बिड उपलब्ध नहीं थी. कैग रिपोर्ट के मुताबिक अगर 126 राफेल विमानों से 36 राफेल लड़ाकू विमानों की तुलना करें तो भारत को करीब 17.08 फीसदी की बचत हुई है. कैग रिपोर्ट में ये भी गया है कि इंडियन एयरफोर्स, एयर स्टाफ क्लालिटेटिव रिक्वॉयरमेंट को सही ढंग से वेंडर्स के सामने नहीं रख पाई और इस वजह से वेंडर ASQR के पैमाने पर खरे नहीं उतर पाए. इसी कारण से खरीद प्रक्रिया में देरी हुई. हालंकि कैग ने रक्षा मंत्रालय के उस तर्क को खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि 2016 में 36 राफेल विमानों की डील 2007 के प्रस्ताव की तुलना में 9 प्रतिशत सस्ती थी.

  • Zee Media Bureau
  • Feb 13, 2019, 11:33 PM IST

राफेल पर कैग की रिपोर्ट के बाद सियासत फिर से उफान पर है. रिपोर्ट में कहा गया है कि यूपीए की तुलना में एनडीए सरकार का राफेल सौदा ना केवल 2.86 फीसदी सस्ता है बल्कि उस वक्त इससे सस्ती बिड उपलब्ध नहीं थी. कैग रिपोर्ट के मुताबिक अगर 126 राफेल विमानों से 36 राफेल लड़ाकू विमानों की तुलना करें तो भारत को करीब 17.08 फीसदी की बचत हुई है. कैग रिपोर्ट में ये भी गया है कि इंडियन एयरफोर्स, एयर स्टाफ क्लालिटेटिव रिक्वॉयरमेंट को सही ढंग से वेंडर्स के सामने नहीं रख पाई और इस वजह से वेंडर ASQR के पैमाने पर खरे नहीं उतर पाए. इसी कारण से खरीद प्रक्रिया में देरी हुई. हालंकि कैग ने रक्षा मंत्रालय के उस तर्क को खारिज कर दिया है जिसमें कहा गया था कि 2016 में 36 राफेल विमानों की डील 2007 के प्रस्ताव की तुलना में 9 प्रतिशत सस्ती थी.

ट्रेंडिंग विडोज़