close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कलयुग के श्रवण कुमार: मां को स्कूटर से ही कराये तीर्थ, तय किया 48 हजार किलोमीटर का सफर

मैसूर के एक बेटे ने ऐसा कर दिखाया जो हर किसी के लिए एक मिसाल बन चुका है. आज हम बात कर रहे हैं कलयुग के श्रवण कुमार की.

 कलयुग के श्रवण कुमार: मां को स्कूटर से ही कराये तीर्थ, तय किया 48 हजार किलोमीटर का सफर

मैसूर: यहां के दक्षिणमूर्ति कृष्णा कुमार ने कुछ ऐसा किया कि  अब दुनिया इन्हें श्रवण कुमार कह रही है.दक्षिणमूर्ति अब तक 18 से ज्यादा राज्यों में अपनी मां को घुमा चुके हैं और स्कूटर से ही लगभग 48,100 किलोमीटर की दूरी तय कर चुके हैं. दक्षिणमूर्ति 16 जनवरी 2018 से मातृ सेवा संकल्प यात्रा पर हैं. 

इनका सफर तब शुरु हुआ जब दक्षिणामूर्ति की मां ने इनसे हंपी जाने की अपनी इच्छा जाहिर की. दक्षिणामूर्ति ने बताया कि उनकी मां कभी अपने गांव से बाहर घूमने नहीं गई, लेकिन जब उनकी मां ने हंपी जाने की बात कहीं तो उन्होंने निश्चय किया कि वह अब अपनी मां के लिए ही जीएंगे. उन्होंने बताया कि उनके पिता की बहुत जल्दी मृत्यु हो गई थी. उसके बाद उनकी मां ने ही घर संभाला.

उसके बाद दक्षिणामूर्ति भी जॉब के लिए घर से बाहर निकल गए. लेकिन मां की इच्छाओं को पूरा करने के लिए बेंगलुरू में कर रहे बैंक की जॉब तक छोड़ दी.अपने पिता से गिफ्ट में मिली 20 साल पुराने स्कूटर चेतक से ही अपनी मां को तीर्थ यात्रा करवा चुके हैं. यह सुनने में किसी खूबसूरत कहानी से कम नहीं है. लेकिन इस कहानी को हकीकत में एक बेटे ने बदल दिया.  

उनके इस काम को देख कर उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने ट्वीट किया-

यह एक खूबसूरत कहानी है.  यह कहानी न सिर्फ मां से प्रेम के लिए है बल्कि देश प्रेम की भी है. ट्विटर पर कृष्णा कुमार की कहानी साझा करने के लिए नंदी फाउंडेशन के सीईओ मनोज कुमार से उन्होंने कहा कि अगर आप उनसे संपर्क साध सकें तो मैं व्यक्तिगत रूप से उन्हें महिंद्रा की केयूवी 100 एनएक्सटी कार तोहफे में देना चाहता हूं ताकि वह अपनी मां के साथ अगली यात्रा कार में कर सके.