• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 3,01,609 और अबतक कुल केस- 8,78,254: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 5,53,471 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 23,174 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 62.92% से बेहतर होकर 63.01% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 18,850 मरीज ठीक हुए
  • कोविड-19 से ठीक होने वाले मामलों की संख्या, सक्रिय मामलों से 2,51,862 से ज्यादा, रिकवरी दर 63.01% पर पहुंची
  • देश भर में कोविड-19 की कुल 1194 प्रयोगशालाएं हो गई है. बीते 24 घंटे में 2.8 लाख से अधिक नमूनों की जांच की गई
  • मामलों की जल्द से जल्द से पहचान, सही समय पर निदान जैसे उपायों से देश में कोविड की वजह से मृत्यु दर सबसे न्यूनतम 2.66% है
  • भारतीय रेलवे ने पहली बार देश की सीमाओं से परे आंध्र प्रदेश से बांग्लादेश तक विशेष पार्सल ट्रेन लोड कर भेजा है
  • तराशे और पॉलिश किए गए हीरे के पुनः आयात के लिए 3 माह की छूट प्रदान की है, जिन्हें प्रमाणन और ग्रेडिंग के लिए विदेश भेजा जाता है
  • कोविड-19 से संबंधित मदद, सलाह और उपायों के लिए 24x7 टोल-फ्री राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करें
  • कोविड मरीजों के साथ दुर्व्यवहार न करें, एक सुरक्षित शारीरिक दूरी बनाए रखें

कमलनाथ के मंत्री ने महिला को धक्के मार कर निकाला बाहर

जिस कांग्रेस पार्टी की कमान खुद एक महिला संभाल रही हैं. जिस कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा महिलाओं की बात करती हैं. उस कांग्रेस पार्टी की सरकार के एक मंत्री ने महिला को धक्के मारकर उसके साथ बदसलूकी है. मामला कमलनाथ सरकार से जुड़ा है.

कमलनाथ के मंत्री ने महिला को धक्के मार कर निकाला बाहर

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के मंत्री जी ने सरेआम, खुलेआम एक नारी के साथ बदसलूकी की है. एक तरफ जहां पूरे देश में नारी शक्ति की आवाज बुलंद हो रही है. वहीं एमपी के रीवा में कांग्रेस के मंत्री नारी का अपमान कर रहे हैं. 

जरा देखिए, कमलनाथ के मंत्री की 'करतूत'

  • कमलनाथ के मंत्री की बदसलूकी
  • मंत्री ने महिला का अपमान किया
  • मंत्री का महिला को धक्का
  • महिला को धक्का देकर निकाला

ये मध्य प्रदेश के ग्रामीण विकास मंत्री कमलेश्वर पटेल का वीडियो है. रीवा में मंत्री एक महिला को धक्का देकर बाहर का रास्ता दिखा रहे हैं. तस्वीरों में उपर आपने देखा कि रोती-बिलखती महिला को धक्के देकर निकाला जा रहा है. महिला, मंत्री के गिड़गिड़ाती रही, अपील करती रही. लेकिन मंत्री ने उसकी फरियाद नहीं सुनी और उसे बाहर निकाल दिया.

सुनवाई की गुहार लगाई तो मिली 'ठोकर'

दरअसल, मंत्री कमलेश्वर पटेल प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के लिए पहुंचे थे. इस दौरान वहां महिला नगर निगम की कर्मचारी अपनी फरियाद लेकर पहुंच गई. महिला का आरोप है कि नगर निगम के उपायुक्त अरुण मिश्रा ने उसकी ड्यूटी अपने घर पर लगा दी है. साथ ही उसकी तनख्वाह भी रोक दी गई. वीडियो में सुना गया कि संभाग आयुक्त से शिकायत के बाद भी महिला एक महीने से परेशान घूम रही है, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही.

तस्वीरें सामने आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार को घेरा है. एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्विटर पर लिखा है कि 'कांग्रेस के नेता सत्ता के नशे में चूर हैं. इन्हें जिन नागरिकों की समस्याओं के समाधान के लिए चुना गया है, अब उनके आंसू भी दिखाई देना बंद हो गये हैं. गरीबों के ये आंसू इन्हें ले डूबेंगे'

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ के 'रास्ते का कांटा' अब जा सकता है राज्यसभा

इससे पहले कमलनाथ के मंत्री पीसी शर्मा ने पार्टी के ही एक किसान नेता को अपने कमरे से बाहर निकलवा दिया था.

इसे भी पढ़ें: भाजपा ने फिर छेड़ा कमलनाथ सरकार के बदलने का राग