close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सितंबर महीने में 'रिकॉर्ड तोड़' बारिश! टूटेगा 102 सालों का रिकॉर्ड?

सीएम नीतीश कुमार ने सभी जिलों के डीएम के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए बैठक की. मुख्यमंत्री ने लोगों से हौसला रखने की अपील की है.

सितंबर महीने में 'रिकॉर्ड तोड़' बारिश! टूटेगा 102 सालों का रिकॉर्ड?

नई दिल्ली: हिंदुस्तान में आफत की बारिश और बाढ़ का जो कहर शुरु हुआ वो सितंबर खत्म होते-होते भी इंसानों के लिए काल साबित हो रहा है. मॉनसून की मार के आगे हर कोई बेबस और लाचार है. दूसरे राज्यों में तो बारिश तबाही मचाकर लौट गई. लेकिन यूपी और बिहार में अभी भी बर्बादी की बारिश ने लोगों को खौफजदा कर रखा है.

जिंदगी के साथ-साथ सरकार से उम्मीदें, सैलाब में बही जा रही हैं. इंसान हो या फिर बेजुबान हर कोई जलबंधक बना है. वैसे तो सितंबर के आखिर तक मॉनसून टाटा-बाय-बाय बोलकर चला जाता है. लोग दीवाली की तैयारियों में जुट जाते हैं. लेकिन पूरे 59 साल बाद मॉनसून जाते-जाते भी डरा रहा है

बिहार की राजधानी पटना का राजेंद्र नगर बेहद निचला इलाका है. जहां के हालात बेहद भयावह हो चुके हैं. ग्राउंड फ्लोर पूरी तरह से डूब चुका है. इसके अलावा राजेंद्र नगर के लोगों को निकालने के लिए NDRF की कई टीमें लगाई गईं. इस इलाके में इतना अधिक पानी इकट्ठा हो गया है कि इसका लेवल लोगों के गर्दन तक पहुंच गया है. पानी लेवल थोड़ और बढ़ा तो इन लोगों की जलसमाधि तय है.

1975 में पटना में जो बाढ़ आई थी ठीक वैसा ही नजारा राजेंद्रनगर में दिखाई दे रहा है. राजेंद्र नगर और पाटलिपुत्र कॉलोनी जैसे निचले इलाकों में बाढ़ आ गई है. उधर, सीएम नीतीश कुमार ने सभी जिलों के डीएम के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए बैठक की. मुख्यमंत्री ने लोगों से हौसला रखने की अपील की है,

बिहार के सीएम नीतीश कुमार का कहना है कि 'ये तो मौसम की चीज है, सूखा की स्थिति के बाद अब सीधे अचानक ऐसी स्थिति आ गई, लेकिन हम लोगों को पूरे तौर पर जो भी पीड़ित लोग हैं, उनकी हर संभव सहायता और जो भी अधिक से अधिक जो भी मुमकिन है सहायता वो प्रशासन की तरफ से, सरकार की तरफ से की जा रही है'. लेकिन लोगों को तो थोड़ा सा मन को और हौसला को बुलंद रखना होगा. ये तो किसी के हाथ में नहीं है.'

आपको बता दें, मॉनसून की बारिश से देशभर में इस साल सितंबर का महीना 102 सालों में सबसे ज्यादा भिगाने वाला महीना बनने जा रहा है.

  • साल 1917 में 285.6 मिलीमीटर रिकॉर्ड बारिश हुई थी. 
  • सितंबर 1983 में 255.8 मिलीमीटर बारिश हुई.
  • इस साल सितंबर में औसत बारिश 247.1 मिलीमीटर हुई 

ये आंकड़ा सामान्य से 48 फीसदी ज्यादा है. जिस तरह की बारिश हो रही है उससे लगता है अगर इस बार 1983 का भी रिकॉर्ड टूट जाएगा.

मॉनसून की वापसी में देरी के बीच देश के अलग-अलग राज्यों में बारिश का कहर जारी है. पिछले चार दिनों में बारिश ने 120 से ज्यादा लोगों की जान ले ली, जिनमें सबसे ज्यादा 100 लोगों की मौतें सिर्फ अकेले उत्तर प्रदेश में हुईं. जबकि बारिश के चलते बिहार में अब तक 27 लोगों की मौत हो चुकी है.

मौसम विभाग ने अगले एक-दो दिनों में भारी बारिश को लेकर बिहार के 14 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है. मौसम विभाग के मुताबिक बिहार में पिछले 24 घंटे में 52 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है. मौसम विभाग के मुताबिक अगले 48 घंटों के दौरान बिहार में बारिश आफत बनकर बरसती रहेगी.