कोलंबिया में प्रदर्शनों के दौरान 42 लोगों की मौत: मानवाधिकार एजेंसी

प्रदर्शनों के बुधवार को भी जारी रहने का अनुमान है. मानवाधिकार लोकपाल ने पांच मई को बताया था कि प्रदर्शन में 24 लोगों की मौत हुई है और 89 लोग लापता हैं.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 12, 2021, 01:09 PM IST
  • सरकार ने दो मई को अपनी 6.7 अरब डॉलर की कर योजना ली वापस
  • कोलंबिया में 28 अप्रैल को सरकार के खिलाफ प्रदर्शन शुरू हुए थे
कोलंबिया में प्रदर्शनों के दौरान 42 लोगों की मौत: मानवाधिकार एजेंसी

नई दिल्लीः कोलंबिया के मानवाधिकार लोकपाल ने मंगलवार को बताया कि देश में दो सप्ताह पहले शुरू हुए सरकार विरोधी प्रदर्शन में अभी तक 42 लोगों की मौत हो चुकी है. सरकारी एजेंसी ने बताया कि प्रदर्शन के दौरान 168 लोगों के लापता होने की खबर भी है.

प्रदर्शनों के बाद 89 लोग लापता 
प्रदर्शनों के बुधवार को भी जारी रहने का अनुमान है. मानवाधिकार लोकपाल ने पांच मई को बताया था कि प्रदर्शन में 24 लोगों की मौत हुई है और 89 लोग लापता हैं. 

लोकपाल द्वारा जारी किए गए नए आंकड़े ‘टेम्ब्लोर्स’ के आंकड़ों से मेल खाते हैं.‘टेम्ब्लोर्स’ एक गैर-सरकारी समूह है, जो पुलिस द्वारा की जाने वाली हिंसा पर नज़र रखता है.

यह भी पढ़िएः जानिए क्या है आयरन डोम, जो फिलस्तीनी रॉकेट से बचाता है इजरायल के लोगों की जान

एक पुलिसकर्मी की भी हत्या
‘टेम्ब्लोर्स’ ने मंगलवार को बताया था कि प्रदर्शन के दौरान पुलिसिया हिंसा में 40 लोगों की मौत हुई है और वहीं दंगे रोकने की कोशिश कर रहे एक पुलिसकर्मी की भी हत्या कर दी गई.
कोलंबिया की पुलिस पर प्रदर्शन एवं दंगे रोकने के लिए अत्यधिक बल का इस्तेमाल करने का लगातार आरोप लग रहा है.

सरकार द्वारा कथित तौर पर अपने घाटे को कम करने और स्वास्थ्य देखभाल तथा सामाजिक सेवाओं के लिए धन जुटाने के लिए करों में वृद्धि की कोशिश के बाद 28 अप्रैल को देश में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन शुरू हुए थे.

यह भी पढ़िएः अल-अक्सा मस्जिद प्रांगण क्यों है यहूदी, मुसलमानों और ईसाइयों के लिए अहम?

ये है प्रदर्शनकारियों की मांग
हालांकि, सरकार ने दो मई को अपनी 6.7 अरब डॉलर की कर योजना को वापस ले लिया था और इसके अगले ही दिन वित्त मंत्री ने भी इस्तीफा दे दिया था, लेकिन लोगों ने देशभर में फिर भी प्रदर्शन जारी रखा.

प्रदर्शनकारी अब पुलिस सेवा में सुधार, एक करोड़ लोगों के लिए एक बुनियादी आय योजना लागू करने और सार्वजनिक विश्वविद्यालयों में मुफ्त ‘ट्यूशन’ सेवा आदि जैसी मांगे पूरी की जाने पर जोर दे रहे हैं.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़