कोरोना: WHO को अमेरिका ने दिया झटका, आधिकारिक रूप से तोड़ लिए सभी रिश्ते

चीन के साथ मिलकर विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO ने कोरोना वायरस पूरी दुनिया में फैलाया. इसकी वजह से आज समूची दुनिया में कोरोना से चीत्कार और हाहाकार मचा हुआ है.  

कोरोना: WHO को अमेरिका ने दिया झटका, आधिकारिक रूप से तोड़ लिए सभी रिश्ते

नई दिल्ली: चीन की चालबाजी और चीन के धोखेबाजी ने कोविड 19 को पूरी दुनिया में फैला दिया. चीन के इस महापाप के लिए अमेरिका WHO को भी उतना ही बड़ा दोषी मानता है जितना चीन को. चीन के झूठ को छिपाकर WHO ने उससे भी बड़ा अपराध किया है. इसी वजह से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप विश्व स्वास्थ्य संगठन पर आगबबूला हैं. उन्होंने अब WHO से हर प्रकार का सम्बंध खत्म करने का आधिकारिक ऐलान कर दिया है.

WHO से पूरी तरह अलग हुआ अमेरिका

आपको बता दें कि अमेरिकी सांसद बॉब मेनेंडेज ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है कि आधिकारिक रूप से अब अमेरिका और WHO में कोई संबंध नहीं होगा.  उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति कार्यालय से यह जानकारी मिली है कि अमेरिका कोरोना महामारी के बीच डब्ल्यूएचओ से आधिकारिक तौर पर अलग हो गया है. उन्होंने ट्रम्प प्रशासन की आलोचना करते हुए कहा कि महामारी के बीच ट्रंप का यह निर्णय अमेरिका को अलग-थलग कर देगा.

क्लिक करें- संयुक्त राष्ट्र में आतंकी मुल्क पाकिस्तान को भारत ने लगाई जमकर लताड़

WHO पूरी तरह चीन की कठपुतली- अमेरिका

डोनाल्ड ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ पर आरोप लगाते हुए कहा था कि संगठन पूरी तरह से चीन के नियंत्रण में है और अमेरिका इससे अपना नाता तोड़ रहा हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ पर कोरोना वायरस के रोकथाम को लेकर सही जानकारी नहीं देने का भी आरोप लगाया था.

WHO से नाता तोड़ने के लिए सरकार कार्रवाई जारी

आपको बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप सरकार ने WHO से अपनी सदस्यता वापस लेने से संबंधित पत्र भेज दिया है. 6 जुलाई, 2021 के बाद अमेरिका WHO का सदस्य नहीं रह जाएगा. 1984 में तय नियमों के तहत किसी भी सदस्यता वापस लेने के साल भर बाद ही देश को WHO से निकाला जाता है. 

क्लिक करें- Corona Update in India: कुल केस 7 लाख 42 हजार के पार, रिकवरी रेट 61.53% के पार

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अप्रैल में डब्लूएचओ को दिए जाने वाली अपनी सहायता राशि पर रोक लगा दी थी और कहा था कि WHO अगर 30 दिनों के भीतर कोई सुधार नहीं करता है तो अमेरिका हमेशा के लिए डब्ल्यूएचओ को दिए जाने वाली सहायता राशि पर रोक लगा देगा. उन्होंने यही किया और अब इस तथाकथिक चीनी मानसिकता वाले संगठन से सभी रिश्ते खत्म कर लिए.