• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,69,789 और अबतक कुल केस- 7,67,296: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,76,378 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 21,129 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 61.53% से बेहतर होकर 62.08% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 19,547 मरीज ठीक हुए
  • कोविड-19 की राष्ट्रीय रिकवरी दर 62.08% पर पहुंची; सक्रिय मामलों की तुलना में ठीक होने वाले लगभग 2 लाख ज्यादा
  • देश में प्रयोगशालाओं की कुल संख्या 1,119 हुई. पिछले 24 घंटे में 2.6 लाख से ज्यादा नमूनों की जांच की गई
  • भारतीय नौसेना का ऑपरेशन समुद्र सेतु पूरा हुआ, इसके तहत 3,992 भारतीय नागरिकों को सफलतापूर्वक स्वदेश लाया गया
  • 30 जून तक 62,870 करोड़ रुपये की क्रेडिट सीमा के साथ 70.32 लाख किसान क्रेडिट कार्ड स्वीकृत किए गए हैं
  • उत्तर प्रदेश में वर्ष 2020-21 में 1.02 करोड़ घरों में नल कनेक्शन देने की योजना है
  • आपकी सुरक्षा आपके हाथों में है, बिना मास्क/फेस कवर पहने घर से बाहर न निकलें
  • कोविड-19 से संबंधित मदद, सलाह और उपायों के लिए 24x7 टोल-फ्री राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करें

अमेरिका अब चीन को नहीं निर्यात करेगा रक्षा तकनीक और उपकरण

अमेरिका ने चीन को अत्याधुनिक रक्षा उपकरणों और तकनीकों के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है. यह फैसला तब लिया गया है कि जब चीन ने हॉन्‍ग कॉन्‍ग को लेकर राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून लाए जाने की घोषणा की है  

अमेरिका अब चीन को नहीं निर्यात करेगा रक्षा तकनीक और उपकरण

नई दिल्लीः चारों तरफ बुरी नीयत से हाथ-पैर फैलाने वाला चीन अब बुरी तरह चारों तरफ से घिर रहा है. चीन की विस्तारवादी नीति की निंदा तो होती ही है. अब उसके साथ अलग-अलग देश व्यापारिक संबंध भी तोड़ रहे हैं. भारत ने कई चीनी ऐप को बैन करने का ऐलान कर दिया है तो वहीं अब अमेरिका भी रक्षा उपकरणों की तकनीक पर प्रतिबंध लगा रहा है. 

मंगलवार को की घोषणा
जानकारी के मुताबिक अमेरिका ने चीन को अत्याधुनिक रक्षा उपकरणों और तकनीकों के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है. यह फैसला तब लिया गया है कि जब चीन ने हॉन्‍ग कॉन्‍ग को लेकर राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून लाए जाने की घोषणा की है. मंगलवार को अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने इन प्रतिबंधों की घोषणा की है. 

अमेरिकी विदेश मंत्री ने किया ट्वीट
पोम्पियो ने इस बार में ट्वीट भी किया है. उन्होंने लिखा कि आज अमेरिका हॉन्‍ग कॉन्‍ग को रक्षा उपकरण और दोहरे इस्‍तेमाल में आने वाली संवेदनशील तकनीकों के निर्यात पर बैन लगाने जा रहा है. अगर बीजिंग हॉन्‍ग कॉन्‍ग को एक देश, एक प्रणाली समझता है तो हमें भी निश्चित रूप से समझना होगा.

चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी ने हॉन्‍ग कॉन्‍ग की स्‍वतंत्रता को खत्‍म करने का फैसला लिया है, उसके बाद ट्रंप प्रशासन को भी हॉन्‍ग कॉन्‍ग को लेकर अपनी नीतियों के समझने-परखने की जरूरत है.

चीन के 'पाप का घड़ा' फूटने ही वाला है, देखिए 6 अहम सबूत

भारत सरकार ने TikTok समेत चीन के 59 मोबाइल Apps को किया बैन, यहां देखें पूरी लिस्ट