ट्रंप ने कहा - अता माजी सटक ली

यूएस नेवी ईरानी लड़ाकू जहाज़ों को मार गिराने को तैयार नजरी आरही है. देश में कोरोना की मुसीबत से घिरे अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान को लेकर जीरो टालरेन्स का आदेश दिया और यूएस नेवी से कहा कि अगर अमरीकी समुद्र सीमा में ईरानी जहाज ज्यादा तीन पांच करें तो सीधे मार गिराओ ..

ट्रंप ने कहा - अता माजी सटक ली

नई दिल्ली: बात आज की नहीं है, बात पुरानी है. ईरान से मिडिल ईस्ट में वैसे भी अमेरिका खुश नहीं है. अब पिछले हफ्ते जो हुआ उसको देख कर डोनाल्ड ट्रंप ने कहा अता माजी सटक ली. कोरोना ने तो ईरान को पहले घेरा था और अमेरिका बाद में पहुंचा था लेकिन इस कोरोना काल में भी पिछले सप्ताह ईरानी लड़ाकू जहाजों ने अमेरिकी नौसैनिकों को घेर लिया था जो राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को नागवार गुजरा. अब उन्होंने यूएस नेवी को खुली छूट दे दी है कि अगर वे जरा भी तंग करें तो सीधे ऐक्शन लें और ईरानी जहाजों को शूट कर दें.

हफ्ते भर पहले हुई थी भड़काने वाली घटना

अगर अब डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी नौसेना को आदेश दिया है तो यह सीधे उस गुस्से की प्रतिक्रिया है जो पिछले हफ्ते अमरीकी राष्ट्रपति के चेहरे पर देखने को मिला था. हफ्ते भर पहले ही ईरान के नौ लड़ाकू जहाजों ने फारस की खाड़ी में अमेरिकी नौसैनिकों को घेर लिया था. हालांकि मामला बढ़ा नहीं और छुटपुट झड़प के बाद शांति हो गई थी किन्तु अमेरिका नहीं भूला कि ये जहाज ईरान के रेवॉल्यूशनरी गार्ड के थे जिनको अमेरिका ने पहले ही आतंकी करार दिया है.

ट्रंप ने ट्वीट करके दी जानकारी

ट्रंप ने अमरीकी मीडिया को  ट्वीट करके ये जानकारी दी. राष्ट्रपति ने अपनी ट्वीट में लिखा कि  'मैंने यूएस  नेवी को निर्देश दे दिया है कि यदि समुद्र में हमारे जहाजों को कोई भी परेशान करने की हिमाकत करता है तो सोचविचार न करें और सभी ईरानी गनबोट को शूट कर नेस्तोनाबूद कर दें'

खतरनाक और भड़काने वाली ईरानी कार्रवाई कहा

पिछले हफ्ते की घटना को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खतरनाक और भड़काने वाला करार दिया था. लेकिन अब राष्ट्रपति किसी तरह की नरमी बरतने के मूड में नहीं हैं और उन्होंने यूएस नेवी को निर्देश दिया है कि अगर ईरानी युद्धपोत अमरीकी जहाजों को जरा भी तंग करें तो उनको सीधे शूट कर दिया जाए.

इसे भी पढ़ें: किम के बाद कौन? क्या तय है तानाशाह का वारिस?

इसे भी पढ़ें: चीन के खिलाफ ट्रम्प ने दिया ये बड़ा बयान

इसे भी पढ़ें: गरीब देश का बड़ा दिल, इजिप्ट ने अमेरिका सहित तीन देशों को भेजी मदद