एक और बड़ा टिक-टॉक झटका चीन को

एक और देश ने भारत की नीति का समर्थन किया और अब उसने फैसला कर लिया है कि वह भी बैन करेगा TikTok और उसके साथ ही बाकी चाइनीज ऐप्स भी..  

एक और बड़ा टिक-टॉक झटका चीन को

नई दिल्ली.  ये देश है जापान. एक सिद्धांतवादी शांतिप्रिय देश जो भारत का विश्वस्त मित्र है. भारत की भांति ही अब जापान भी चाइनीज डिवेलपर्स की ओर से तैयार किए गए ऐप्स पर बैन लगाने की दिशा में विचार किया है और बहुत जल्दी जापान से भी बाहर हो जाएंगे चीन के टिक-टॉक और बाकी ऐप्स.

 

 

जापान से आई रिपोर्ट 

जापान से प्राप्त हालिया रिपोर्ट बता रही है कि अब चीन के ऐप्स का भविष्य जापान में भी अंधकारमय हो गया है. इस नई रिपोर्ट से पता चलता है कि जापान में अगले कुछ महीनों में ऐसा हो सकता है. जापान के लॉ-मेकर्स का एक समूह देश के यूजर्स के डेटा की सुरक्षा की दिशा में यह बड़ा कदम उठाने जा रहा है और चाइनीज़ ऐप्स को बैन करने का एक प्रस्ताव आगामी एक दो महीनों में संसद के सामने रख सकता है. 

कई देश यही सोच रहे हैं

भारत ने जून के आखिरी सप्ताह में 59 चाइनीज ऐप्स पर बैन लगा कर जो शुरुआत की थी, दुनिया के देश न सिर्फ उसे समर्थन दे रहे हैं बल्कि अपने देश में भी उसे कार्यान्वित करने की योजना बना रहे हैं. अमेरिका में भी कुछ ऐसी ही प्लानिंग चल रही है. अमेरिका के साथ ही ताइवान, जापान और कई बड़े यूरोपियन देशों में इस पर विचार हो रहा है और हर देश चीन में डेटा स्टोर होने को आधार मानते हुए इस दिशा में कदम उठाने की सोच रहा है. 

यूज़र्स का डेटा है चिंता की वजह 

जापान और अन्य देशों में न केवल टिक-टॉक को बैन करने के बारे में सोचा जा रहा है बल्कि सभी चाइनीज़ ऐप्स को लेकर भी यही कदम उठाने के बारे में विचार हो रहा है. हर देश के लिए चिंता का विषय केवल यही है कि उनके यूज़र्स का डेटा चीन में स्टोर किया जा रहा है जिसका अनुचित लाभ ले कर देश के राष्ट्रीय हितों को चीन चोट पहुंचा सकता है. और आने वाले दिनों में ये बात दुनिया के हर देश को सोचनी पड़ जायेगी और फिर एक दिन दुनिया के हर देश में चीनी ऐप्स हो जाएंगे प्रतिबंधित.

ये भी पढ़ें. दक्षिण एशिया का इज़राइल है भारत