ओली-जिनपिंग भाई भाई, चीन से आवाज़ आई

ओली को गोली दी है चीन ने. नेपाल में ओली की कुर्सी डांवाडोल है और अपरोक्ष रूप से यही स्थिति जिनपिंग की चीन में है. इसलिए अगर चीनी जिनपिंग नेपाली ओली को कहें कि हम साथ साथ हैं, तो हैरानी की बात नहीं..

 ओली-जिनपिंग भाई भाई, चीन से आवाज़ आई

नई दिल्ली.  मतलब की यारी है ये चीन की और उसके बाद धोखे का चेहरा भी चीन का ही है. नेपाल को शायद भारत का इतिहास नहीं पता जिसमें एक चैप्टर चीन के धोखे से लिखा गया है. अब जब ओली की लोकप्रियता की नेपाल में होली जल रही है शी जिनपिंग उनको सांत्वना दे रहे हैं - मिल कर करेंगे हम दोनों विकास !!

 

ओली को हिम्मत दी जिनपिंग ने 

चीन के राष्ट्रपति को जब ये पता चला कि नेपाल में अपनी ही पार्टी के विरोध में फंस गए हैं प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली तो उनको ताकत की गोली भेज दी है. जिनपिंग ने ओली को भेजे इम्युनिटी बूस्टर संदेश में कहा कि ओली घबराएं नहीं. चीन नेपाल के साथ अपने संबंधों को महत्वपूर्ण मानता है और इसके लिए वह नेपाल के साथ द्विपक्षीय संबंधों का विकास करना चाहता है. 

जिनपिंग के भक्त हैं ओली

ओली गर्व करते हैं कि वे भी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता हैं और देश के सर्वेसर्वा हैं जिस तरह से बीजिंग में बैठे चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग हैं. ओली की कोशिश रहती है कि वे अपने हर काम से जिनपिंग को खुश रख सकें. जिनपिंग ने भी बड़े बड़े नोटों की उधारी दे कर नेपाल के विकास के सपने दिखाए हुए हैं ओली को. माना जा रहा है कि जिनपिंग को खुश करने के लिए ही ओली ने भारत से दुश्मनी ली है. 

सेवा के बदले मेवा का चीनी वादा 

किसी भी दिन ओली की कुर्सी लुढ़क जाने का समाचार आ सकता है. ऐसे नेपाली माहौल में चीनी भौकाल भेजा है जिनपिंग ने. उन्होंने अपने सन्देश में कहा है कि चीन और नेपाल ने हमेशा ही एक-दूसरे का सम्मान किया है. जिनपिंग ने ये भी कहा कि चीन नेपाल के साथ (भारत विरोध के बाद) रिश्तों में में आई मजबूती को और बढ़ावा देना चाहते हैं. 

ये भी पढ़ें. हवा में टकराये दो जहाज़