अब पहले ही जान सकेंगे किसकी होगी कोरोना से मौत, इस जांच से चलेगा पता

यूनिवर्सिट डी मॉन्ट्रियल के नेतृत्व में एक टीम ने एक सांख्यिकीय मॉडल विकसित किया, जो संक्रमित रोगियों की पहचान करने के लिए सार्स-सीओवी-2 के ब्लड बायोमार्कर का उपयोग करता है, जिन्हें कोरोना से मरने का सबसे ज्यादा खतरा है.  

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 27, 2021, 03:47 PM IST
  • मरने के जोखिम वाले संक्रमितों की हो सकेगी पहचान
  • 279 संक्रमितों के नमूनों पर किया गया शोध

ट्रेंडिंग तस्वीरें

अब पहले ही जान सकेंगे किसकी होगी कोरोना से मौत, इस जांच से चलेगा पता

नई दिल्ली: लोगों के खून में सार्स-सीओवी-2 के आनुवंशिक मटेरियल वायरल आरएनए की मात्रा एक विश्वसनीय इंडीकेटर है, जिससे यह पता लगाया जा सकता है कि अब कोरोना से किस संक्रमित की मौत होगी. ये जानकारी शोधकर्ताओं ने साझा की है.

मरने के जोखिम वाले संक्रमितों की हो सकेगी पहचान

कोरोनावायरस के प्रबंधन में प्रगति के बावजूद डॉक्टरों को बीमारी से मरने के जोखिम वाले संक्रमितों की पहचान करना मुश्किल हो गया है और इसलिए उन्हें नए उपचार की पेशकश करने में सक्षम होना चाहिए.

यूनिवर्सिट डी मॉन्ट्रियल के नेतृत्व में एक टीम ने एक सांख्यिकीय मॉडल विकसित किया, जो संक्रमित रोगियों की पहचान करने के लिए सार्स-सीओवी-2 के ब्लड बायोमार्कर का उपयोग करता है, जिन्हें कोरोना से मरने का सबसे ज्यादा खतरा है.

279 संक्रमितों के नमूनों पर किया गया शोध

यूनिवर्सिट डी मॉन्ट्रियल के नेतृत्व वाली टीम ने कोरोना के लिए अस्पताल में भर्ती होने के दौरान 279 संक्रमितों से इक्ठ्ठे किए गए खून के नमूनों का उपयोग किया.

यह खोज साइंस एडवांसेज जर्नल में प्रकाशित हुई है.

मेडिकल प्रोफेसर डॉ डैनियल कॉफमैन ने कहा, हमारे अध्ययन से हम यह निर्धारित करने में सक्षम हैं कि लक्षणों की शुरूआत के बाद 60 दिनों में कौन से बायोमार्कर की मौत हो सकती है.

टीम ने वायरल आरएनए की मात्रा और वायरस को लक्षित करने वाले एंटीबॉडी के स्तर को भी मापा. लक्षणों की शुरूआत के 11 दिन बाद नमूने इकट्ठे किए गए और उसके बाद कम से कम 60 दिनों तक मरीजों की निगरानी की गई.

इसकी प्रभावशीलता की पुष्टि करने के लिए, कॉफमैन और ब्रुनेट-रत्नसिंघम ने महामारी की पहली लहर के दौरान और फिर दूसरी और तीसरी लहर के दौरान संक्रमितों के दो स्वतंत्र समूहों पर मॉडल का परीक्षण किया.

यह भी पढ़िए: Omicron Variant: दक्षिण अफ्रीका में मिले नए वेरिएंट से अमेरिका भी भयभीत, प्रतिबंध लगाने की तैयारी

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़