• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 3,19,840 और अबतक कुल केस- 9,36,181: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 5,92,032 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 24,309 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 63.02% से बेहतर होकर 63.23% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 20,572 मरीज ठीक हुए
  • दुनिया भर के अन्य देशों की तुलना में भारत में प्रति दस लाख की जनसंख्या पर सबसे कम मामले और सबसे कम मौतें हुई हैं
  • कोरोना के कुल मामलों में 86% मामले दस राज्यों से हैं
  • देश में 2 स्वदेशी टीकों को इस महीने मानव परीक्षण का प्रारंभिक चरण शुरू करने की मंजूरी मिली
  • WHO द्वारा दिए गए व्यापक परीक्षण मार्गदर्शन के अनुसार 22 राज्य प्रति दिन कोविड-19 के 140 सैंपल प्रति 10 लाख टेस्टिंग कर रहे हैं
  • IIT दिल्ली द्वारा विकसित दुनिया की सबसे किफायती प्रोब फ्री RT-PCR आधारित कोविड-19 डायग्नोस्टिक किट आज लॉन्च की जाएगी
  • वंदे भारत मिशन: 650K से अधिक भारतीय स्वदेश लौटे और 80K से अधिक विदेश की यात्रा पर गए
  • कोविड मुक्त यात्रा सुनिश्चित करने के लिए भारतीय रेलवे पहला 'पोस्ट कोविड कोच' चलाने के लिए तैयार है

क्या सवा चार लाख कोरोना बम अमेरिका पहुंचे थे?

अगर यह कॉन्सपिरेसी थ्योरी सच है तो इसमें कोई शक नहीं की चीन ने अमेरिका को आसमान से गिरा कर सीधे कब्र तक पहुंचाने की तैयारी कर ली थी..

क्या सवा चार लाख कोरोना बम अमेरिका पहुंचे थे?

नई दिल्ली: अमेरिका के लिहाज से इससे बड़ी चौंकाने की खबर उसके इतिहास में पहले कभी सुनी नहीं गई होगी. चीन से सवा चार लाख कोरोना बम सीधे अमेरिका पहुंचे थे - अगर ये खबर सच है तो अमेरिका को नेस्तोनाबूद करने की इससे बड़ी साजिश न कभी पहले हुई न भविष्य में कभी हो सकती है. न भूतो न भविष्यति !!!

सीधी उड़ान ली थी इन चीनियों ने

बहुत बड़ी जानकारी सामने आई है जो अमरीकी मीडिया के माध्यम से ही दुनिया तक पहुंची है. इस खबर के अनुसार कोरोना वायरस के कहर को लेकर जब चीन का खुलासा दुनिया के सामने आया था उसके ही कुछ दिनों के भीतर लगभग चार लाख तीस हज़ार  लोग चीन से सीधी फ्लाइट लेकर अमेरिका पहुंचे थे. न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित इस समाचार के अनुसार इन लोगों में अधिकांश ऐसे थे जिन्होंने कोरोना सिटी वुहान से सीधे अमेरिका की यात्रा की थी.

यात्रा प्रतिबंध से पहले ही सवा हज़ार फ्लाइट्स लीं

ऐसा लगता है कि षड्यंत्रकर्ताओं को अनुमान रहा होगा कि अमेरिका जल्द ही यात्रा-प्रतिबंध लगा देगा. इसलिए  राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के यात्रा प्रतिबंध लगाने के पूर्व ही चीन से करीब 1,300 सीधी उड़ानें अमेरिका पहुंची. अमेरिका के 17 राज्यों में उतरीं इस तरह की डायरेक्ट फ्लाइट्स से लाखों चीनी अमरीका पहुंचे थे.

कहा गया कि निमोनिया जैसी बीमारी है

इस समाचार की पड़ताल से ऐसा भी लगता है कि षड्यंत्रकर्ताओं ने तैयारी पूरी रखी थी. एक दम से चीन से आने वाली सीधी उड़ानों के माधयम से लाखों चीनियों का अमेरिका पहुंचना अमेरिका को चौंकन्ना कर सकता था इसलिए बहाना भी ढूंढा गया और अमेरिका को बताया गया कि कहा गया कि निमोनिया जैसी बीमारी चीन में फैली है. इस तरह लाखों चीनियों के अमेरिका में सीधे उड़ आने पर किसी को संदेह नहीं हुआ -न अमरीका में संक्रमण फैलने का, न ही संक्रमण फैलाने की किसी साजिश का.  

चालीस हज़ार चीनी तो प्रतिबंध के बाद भी आये

हैरानी की बात ये भी है कि इन चार लाख तीस हज़ार चीनियों में वो लोग भी शामिल हैं जो अमेरिका द्वारा यात्रा प्रतिबंध लगने के बाद भी अगले दो माह तक अमेरिका आये. अफ़सोस की बात ये भी सामने आई कि अमेरिका में इन चीनियों पर किसी तरह का कोई संदेह नहीं था इसलिए  हवाईअड्डों पर और चीन से आ रहे यात्रियों की जांच प्रक्रिया भी सख्त नहीं थी.

इसे भी पढ़ें: कोरोना को लेकर ब्रिटेन को भी चीन पर है संदेह

इसे भी पढ़ें: आशाओं के दीप से जगमग देश, जानिए वैदिक काल से लेकर आज तक क्या है इसका महत्व