कोरोना से बचने के लिए दुनिया से भीख मांग रहे इमरान खान नियाजी

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कोरोना वायरस के बढ़ते असर को देखते हुए दुनिया के अमीर देशों से मदद करने की अपील की है. इमरान ने अपने देश की सुरक्षा से साफ-साफ हाथ खड़े कर दिए हैं. पाक प्रधानमंत्री ने कहा है कि बड़े देशों को पाकिस्तान को लोन देना चाहिए और आर्थिक मदद देनी चाहिए ताकि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा सके. इमरान ने पाकिस्तान की खस्ता हालत की बात खुद स्वीकार की है.      

कोरोना से बचने के लिए दुनिया से भीख मांग रहे इमरान खान नियाजी

नई दिल्लीः कोरोना के कहर ने पाकिस्तान के आंसू निकाल दिए हैं और पाक पीएम इमरान खान नियाजी को रोने पर मजबूर कर  दिया है. हालात यह हैं कि पाकिस्तान में कोरोना वायरस तेजी से फैलता जा रहा है और वहां संक्रमिक लोगों की संख्या भी तेजी से बढ़ी है. रोकथाम के लिए जागरूकता न होने के कारण और पाकिस्तान सरकार की लापरवाही का नतीजा वहां की आवाम को भुगतना पड़ रहा है. मंगलवार को वहां कोरोना के चलते एक मौत भी हो गई. पाकिस्तान में पॉजिटिव केसों की संख्या 190 के पार चली गई है.

दुनिया के सामने गिड़गिड़ाने की नौबत
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कोरोना वायरस के बढ़ते असर को देखते हुए दुनिया के अमीर देशों से मदद करने की अपील की है. इमरान ने अपने देश की सुरक्षा से साफ-साफ हाथ खड़े कर दिए हैं.

 

पाक प्रधानमंत्री ने कहा है कि बड़े देशों को पाकिस्तान को लोन देना चाहिए और आर्थिक मदद देनी चाहिए ताकि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा सके. इमरान ने पाकिस्तान की खस्ता हालत की बात खुद स्वीकार की है.

आवाम को करेंगे संबोधित
एक इंटरव्यू में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस की वजह से गरीब देशों की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा. अगर यहां पर हालात बिगड़ते हैं तो मेडिकल व्यवस्था ये नहीं संभाल पाएगी. ऐसा सिर्फ पाकिस्तान ही नहीं बल्कि भारत में भी होगा. इमरान खान मंगलवार शाम को पाकिस्तानी आवाम को भी संबोधित करेंगे. इमरान खान ने कहा कि यही कारण है कि बड़े देशों को छोटे देशों की मदद करनी चाहिए और आर्थिक मदद देनी चाहिए. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने ईरान का उदाहरण दिया और कहा कि ईरान पर प्रतिबंध लगे हुए हैं, इस वजह से वहां पर मौतें हो रही हैं.

हिन्दुस्तान में कोरोना से 'कर्फ्यू'! जानिए, देश में कौन से स्टेज पर है महामारी

सार्क बैठक में भेज दिया जूनियर मंत्री
एक तरफ अब इमरान खान दुनिया से मदद मांग रहे हैं, तो वहीं बीते दिनों जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के मसले पर सार्क देशों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बुलाई थी. इसमें इमरान खुद नहीं आए और अपने एक जूनियर मंत्री को भेज दिया. वहां भी मंत्री ने इस मसले के दौरान जम्मू-कश्मीर का ही बेसुरा राग अलापने की कोशिश की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस पहल की सार्क के अन्य देशों ने खुलकर तारीफ की थी और कोरोना वायरस के खिलाफ एक साथ लड़ाई लड़ने की बात कही थी.

कोरोना के कहर के बीच मौत को जीने का अंदाज सिखा रहा देश

अपने देश के छात्रों को मरने के लिए छोड़ दिया था
चीन में जब कोरोना का शुरुआती दौर था तो पाकिस्तान ने अपने छात्रों को वहीं मरने के लिए छोड़ दिया था. जबकि सारी दुनिया के देश उन्हें एयरलिफ्ट कराकर ले आए थे. इस लेकर छात्रों ने चीन से वीडियो बनाकर अपलोड भी किया था और पाकिस्तान को भारत से सीख लेने की सलाह दी थी.

 

Pakistani student in Wuhan shows how Indian students are being evacuated by their govt. While Pakistanis are left there to die by the govt of Pakistan: pic.twitter.com/86LthXG593

इस वीडियो को पत्रकार नायला इनायत ने ट्वीट करके शेयर किया था.