close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ईरान और सऊदी दौरे के पीछे क्या है इमरान का मकसद? जानिए Pak का झूठ

पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों के साथ पाक के वजीर-ए-आजम इमरान खान ईरान और सऊदी अरब का दौरा करने वाले हैं, लेकिन इसके पीछे का असल मकसद क्या है इसका खुलासा नहीं किया गया है. दरअसल वो मध्य एशिया की कूटनीति में पाकिस्तान की भूमिका सुरक्षित रखना चाहते हैं.

ईरान और सऊदी दौरे के पीछे क्या है इमरान का मकसद? जानिए Pak का झूठ
पाकिस्तानी पीएम इमरान खान (File Photo)

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान शनिवार को ईरान और सऊदी अरब का दौरा करेंगे. इमरान खान के इस दौरे का मकसद मध्य एशिया में बढ़ते तनाव को कम करना है. पिछले महीने सऊदी अरब के तेल सुविधा वाले क्षेत्र में मिसाइल हमले के बाद तेहरान और रियाद में तनाव बढ़ गया था. सूत्रों के अनुसार, पाकिस्तानी पीएम पहले तेहरान जाएंगे, जहां वह ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से मुलाकात करेंगे. इसके बाद वह रियाद जाएंगे, जहां वह सऊदी अरब के शीर्ष नेताओं से मिलेंगे.

यात्रा का असली मकसद नहीं बताया

इमरान खान की इस यात्रा के दौरान उनके साथ पाकिस्तानी सेना के वरिष्ठ अधिकारी भी जाएंगे. यही नहीं इमरान खान की इस यात्रा पर इस्लामाबाद ने चुप्पी साध रखी है. पाकिस्तान के विदेश मामलों के प्रवक्ता मोहम्मद फैजल ने कहा कि इस यात्रा के बाद ही जरूरी जानकारी मीडिया से साझा करेंगे.

इमरान ने अमेरिकी राष्ट्रपति के जरिए झूठ बोला

पिछले महीने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से इतर इमरान खान ने कहा था कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उनसे कहा है कि वह ईरान से बात करें और मध्य एशिया में जारी तनाव को कम करें. हालांकि इसके उलट डोनाल्ड ट्रंप का कहना था कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ही उनसे संपर्क किया था और कुछ भी तय नहीं हुआ था.

मिसाइल हमले के बाद विवाद बढ़ा

तेहरान और रियाद के बीच विवाद उस समय बढ़ गया था, जब पिछले महीने सऊदी अरब के तेल सुविधा वाले क्षेत्र पर मिसाइल से हमला हुआ था. इसके बाद सऊदी अरब और अमेरिका दोनों ने ईरान पर ड्रोन हमले करने का आरोप लगाया था. हालांकि तेहरान ने हमले में किसी भी प्रकार का हाथ होने से इंकार किया था.

इसे भी पढ़ें: अब इस घटना के बाद ईरान कहीं बौखला न जाए

सऊदी अरब को ईरान के बढ़ते प्रभाव का डर

इस्लामाबाद पॉलिसी इंस्टीट्यूट द्वारा आयोजित कांफ्रेंस में मीडिएशन एंड पर्शियन गल्फ : इनिशिएटिव्स, स्ट्रेटेजीज एंड ऑब्सटेकल्स विषय पर बोलते हुए विदेश सचिव ऐजाज चौधरी ने कहा कि इस तरह की मुद्दों को सुलझाने में पाकिस्तान में महत्वपूर्ण क्षमता है, लेकिन इसमें कई तरह की समस्याएं हैं. खासकर किस पर भरोसा किया जाए. यह बड़ा सवाल है. सऊदी अरब को ईरान के मध्य एशिया में बढ़ते प्रभाव का डर है.