close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आतंकवाद पर नहीं सुधरा पाकिस्तान, अमेरिका ने फिर लगाई फटकार

आतंकवादियों के पालन  पोषण को अपनी राज्य नीति बना चुका पाकिस्तान सुधरने के लिए तैयार नहीं है. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक लश्करे तैयबा और जैश ए मोहम्मद के आतंकवादी अब भी पाकिस्तान की जमीन से काम कर रहे हैं.   

आतंकवाद पर नहीं सुधरा पाकिस्तान, अमेरिका ने फिर लगाई फटकार
पाकिस्तान से बेहद नाराज अमेरिका

नई दिल्ली: अमेरिकी विदेश मंत्रालय की एक रिपोर्ट में पाकिस्तान के आतंकवादी संगठनों को अब भी भारत के लिए बड़ा खतरा करार दिया गया है. शुक्रवार को जारी इस रिपोर्ट में कई अहम खुलासे किए गए हैं. 

भारत के लिए अमेरिका ने जताई चिंता 
शुक्रवार को अमेरिकी विदेश विभाग की तरफ से जारी कंट्री रिपोर्ट्स ऑन टेररिज्म-2018 में भारत की सुरक्षा को लेकर गंभीर चिंताएं जताई गई हैं. इसमें कहा गया है कि लश्करे तैयबा और जैश ए मोहम्मद जैसे आतंकवादी संगठन पाकिस्तान की जमीन से अभी भी काम कर रहे हैं. ये कुख्यात आतंकवादी संगठन धड़ल्ले से पाकिस्तान में फंड जमा कर रहे हैं और आतंकवादियों की भर्तियों में जुटे हुए हैं. 
मात्र इतना ही नहीं ये आतंकवादी संगठन अब भी पाकिस्तान में अपने ट्रेनिंग  कैंप  भी चला रहे हैं. इसे लेकर अमेरिका ने पाकिस्तान को कड़ी फटकार लगाई है. 

आतंकियों को रोकने में पाकिस्तान नाकाम
अमेरिकी रिपोर्ट में इस बात का खास  तौर पर जिक्र किया गया है कि पाकिस्तान में आतंकवादी संगठन राजनैतिक प्रक्रिया में शामिल होने की भी कोशिश कर रहे हैं. पाकिस्तान की सरकार ने जुलाई 2018 में हुए आम चुनाव में आतंकी संगठनों के प्रत्याशियों को चुनावी मैदान में  उतरने की इजाजत दी थी. जिसके फायदा उठाते हुए मुंबई हमले  के आरोपी हाफिज सईद की पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग ने चुनाव लड़ा था.

आतंकियों का आर्थिक नेटवर्क बरकरार
अमेरिका के रक्षा मंत्रालय की इस रिपोर्ट में बताया गया है कि कैसे पाकिस्तान एक राज्य के तौर पर आतंकियों के आर्थिक साम्राज्य पर रोकथाम करने में  असफल  रहा है. पाकिस्तान की सरकार मनी लॉन्ड्रिंग और और काउंटर टेररिज्म पर फाइनैंशियल ऐक्शन टास्क फोर्स  (FATF) के एक्शन प्लान को पूरी तरह से लागू नहीं कर पाया है. पाकिस्तान सरकार की इसी ढिलाई का फायदा उठाते हुए लश्करे तैयबा और और जैश ए मोहम्मद के आतंकवादी पाकिस्तान में खुलेआम पैसे जुटाकर पड़ोसी देश में आतंकवाद फैला रहे हैं. 
इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पाकिस्तान आतंकवादियों की वित्तीय गतिविधियों को आपराधिक तो मानता है. लेकिन इस पर  कार्रवाई करने से पीछे रह जाता है. खास बात ये है कि आतंकियों  के आर्थिक नेटवर्क को ध्वस्त नहीं  करने  की वजह से पाकिस्तान को  FATF जून में ही  ग्रे लिस्ट में डाल चुका है.