क्या चीन में वापस आएगी महामारी?

अचानक कुछ ऐसा हुआ कोरोना कंट्री में एक डर की लहर फिर से आई. बड़ी तबाही के दौर के बाद अब जब सब कुछ ठीक हो गया दिख रहा है तो ऐसा होना बहुत डरा देता है, न केवल चीन को बल्कि दुनिया को भी..

क्या चीन में वापस आएगी महामारी?

नई दिल्ली: चीन ने अपने कोरोना हॉस्पिटल भी सभी बंद कर दिए, अपने सभी हाइवेज़ भी फिर से खोल दिए और हिन्द महासागर में फिर से अपनी शैतानी दारोगाई का चेहरा ले कर अंडर वाटर ड्रोन पहरेदारी शुरू कर दी है. ये सारी हरकतें बता रही हैं कि चीन कोरोना के दर्द से उबार चुका है. लेकिन ऐसे में जब चीन में कोरोना वायरस के 78 नए मामले सामने आये तो लोगों में डर फिर उभर कर आ गया है - क्या, महामारी के दोबारा आने की आशंका है?

आये नए कोरोना के मामले

हाल ही में सामने आये कोरोना के मामलों ने चीन प्रशासन को चौंका दिया है. हलांकि ये बहुत ज्यादा मामले नहीं है कुछ 78 ऐसे नए संक्रमण देखे गए हैं लेकिन चीन जब इस बीमारी से उबर कर वापस अपने काम-धंधों की दूकान जमाने के मूड में है तो इन नए संक्रमणों ने उसकी हृदयगति बढ़ा दी है. वैसे डरने की ज़्यादा बात नहीं है क्योंकि वायरस से संक्रमण के ये सभी 78 मामले मामले व‍िदेश से आए लोगों में पाए गए हैं.

सात और कोरोना मौतें

डरने की बात चीन सरकार के लिहाज से इसलिए भी थी क्योंकि सात और मौतें अभी अचानक कोरोना संक्रमण के कारण चीन में हुई हैं. इनके अलावा सभी 78 नए मामले विदेशों से संक्रमण लेकर आए लोगों में पाए गए हैं. चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने मीडिया को बताया कि कोविड-19 हुई 7 नई मौतों के बाद कोरोना-मृतकों की संख्या 3,277 हो गई है. अब इन मामलों के बाद अचानक ही चीन में महामारी के दोबारा आने का खतरा महसूस किया जा रहा है.

कोरोना के अंतिम आंकड़े सकारात्मक हैं

कोरोना कंट्री के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के माध्यम से प्राप्त जानकारी के अनुसार चीनी मुख्यभूमि पर 23 मार्च तक लगभग इक्यासी हजार लोग संक्रमित थे. इन्हीं लोगों में से संक्रमण के कारण मरने वाले सवा तीन हज़ार के लगभग लोग थे. फ़िलहाल पौने पांच हज़ार लोग अभी भी अपना इलाज करा रहे हैं और करीब तिहत्तर हज़ार लोग ठीक हो कर अपने घर जा चुके हैं.

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ युद्ध में नवरात्रि पर देशवासियों से PM मोदी के 9 आग्रह

इसे भी पढ़ें: हाथ जोड़कर निवेदन, डॉक्टरों, मीडियाकर्मियों और सफाईवालों के बारे में सोचिएः पीएम मोदी