अफगानिस्तान में भारी घमासान, फौज के हमले में 100 से ज्यादा आतंकियों की मौत

पड़ोसी देश अफगानिस्तान में फिर से अशांति की खबर है. यहां सरकारी फौजों के हमले में 100 से ज्यादा आतंकियों को मार गिराया गया है. जबकि 5 आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया है. 

अफगानिस्तान में भारी घमासान, फौज के हमले में 100 से ज्यादा आतंकियों की मौत

काबुल: अफगानिस्तान में पिछले 24 घंटों में अफगान फौज ने तालिबानी आतंकवादियों के छक्के छुड़ाने के लिए उनके खिलाफ अभियान चला रखा है. 

भारी संख्या में मारे गए आतंकवादी
अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने खबर दी है कि वहां के 15 अलग अलग क्षेत्रों में 18 ऑपरेशन चलाए गए. जिसमें 109 आतंकियों की मौत होने की खबर है. 45 आतंकवादी घायल हुए हैं, जबकि 5 आतंकियों को गिरफ्तार किया गया है. 

अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने ट्विट करके इस बात की खबर दी है. हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि मारे गए आतंकवादी एक ही गुट के हैं या अलग अलग गुटों से संबंध रखते हैं. 

आतंकवादियों के खिलाफ अफगानिस्तान के गजनी, सोर घमई, आघा जिले के लोगार, लघमान, बलख जिलों में अभियान चलाए जा रहे हैं. 

तालिबान ने की थी हमले की शुरुआत
अफगानिस्तान की फौज ने आतंकवादियों के खिलाफ इसलिए संघर्ष छेड़ रखा है, क्योंकि कल ही तालिबानी आतंकवादियों ने एक अमेरिकी काफिले पर हमला कर दिया था. जिसमें एक अमेरिकी सैनिक की मौत हो गई थी. इस हमले में कई लोग घायल भी हुए थे. तालिबान के प्रवक्ता ने अमेरिकी काफिले पर हुए इस हमले की जिम्मेदारी ली है. 

मीडिया को भेजे संदेश में तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने स्वीकार किया कि उसके हमलावरों ने रविवार को देर रात कुंदुज के चार दर्रा जिले में एक अमेरिकी वाहन को उड़ा दिया. 

 

इससे पहले, सितंबर में काबुल में तालिबान के हमले में एक अमेरिकी सैनिक की मौत हो गई थी. इसके पहले तालिबान ने ही  काबुल के उत्तर में बगराम हवाईअड्डे पर बम से हमला भी किया था. इस साल अफगानिस्तान में संघर्ष के दौरान कम से कम 20 अमेरिकी सैनिक मारे जा चुके हैं. 

अफगानिस्तान में छिड़े ताजा संघर्ष के पीछे यही कारण है. अमेरिकी फौजियों पर हमले के कारण ही अफगान फौजों ने आतंवादियों के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है.