• पूरी दुनिया में कोरोना से 1201964 लोग प्रभावित, अब तक 64727 लोगों की मौत हुई,246638 लोग रोगमुक्त हुए
  • भारत में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 3530, इसमें से 89 लोगों की मौत हुई, 213 इलाज के बाद ठीक हुए
  • महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा 490 मरीज, 24 लोगों की मौत हुई, 42 लोग ठीक हुए
  • तमिलनाडु में कोरोना से 411 लोग प्रभावित, 2 की मौत, 6 लोग ठीक हुए
  • केरल में अब तक 295 लोगों को हुआ कोरोना, 2 की मौत हो चुकी है, 41 इलाज के बाद ठीक हुए
  • दिल्ली में कोरोना के 445 मरीज, 6 की मौत, 15 लोग ठीक हुए, मध्य प्रदेश में कोरोना से 155 लोग संक्रमित, 9 लोगों की मौत
  • यूपी में कोरोना के 174 मरीज, 19 लोग ठीक हुए, 2 लोगों की मौत
  • राजस्थान में कोरोना के 200 मरीज, 21 लोग इलाज के बाद ठीक हुए, अभी तक एक भी मौत नहीं
  • तेलंगाना में कोरोना के 158 मरीज, 7 लोगों की मौत, मात्र 1 ही इलाज के बाद ठीक हुआ
  • कर्नाटक में कोरोना के 128 मरीज और आंध्र प्रदेश में 161 लोगों में कोरोना वायरस का असर

आतंक के खिलाफ श्रीलंका का कदम, लगाएगा बुर्के पर बैन

ये एक बड़ी खबर है और अच्छी भी. बड़ी खबर इस लिहाज से कि आतंक के खिलाफ वैश्विक युद्ध में सीधे-सीधे श्रीलंका भी फ्रांस, जर्मनी, नार्वे, चीन, अमेरिका, भारत और म्यांमार की कतार में खड़ा हो गया है. खबर अच्छी इसलिए है कि आतंक पीड़ित दुनिया उसके खात्मे की कोशिशों में एक कदम और आगे बढ़ी है..  

आतंक के खिलाफ श्रीलंका का कदम, लगाएगा बुर्के पर बैन

 

नई दिल्ली. बड़ा जिगर चाहिए बड़ा कदम उठाने के लिए. श्रीलंका ने भी छप्पन इंच का सीना दिखाया है  बुर्के पर बैन लगाने के फैसले के साथ. खुल कर बुर्के के पीछे और छुप कर मदरसों के भीतर आतंक अपने साजिशाना इरादों को दुनिया भर में अंजाम देता आया है. श्रीलंका की संसदीय समिति ने बुर्के पर बैन सबंधी यह प्रस्ताव संसद में पेश कर दिया है. 

 

तत्काल लगाएंगे बुर्के पर प्रतिबंध 

बुर्के पर तत्काल प्रतिबंध लगाने संबंधी प्रस्ताव का मसविदा  श्रीलंका की एक संसदीय समिति ने तैयार किया है और अविलम्ब बुर्के पर तत्काल की मांग के साथ इसे संसद की पटल पर प्रस्तुत भी कर दिया है. अगर ऐसा हो सका तो श्रीलंका का आतंक के खिलाफ यह कदम दुनिया के कई देशों के लिए प्रेरणा का का कार्य करेगा. 

धार्मिक राजनीतिक दल भी होंगे प्रतिबंधित 

श्रीलंका की इस संसदीय संती ने बुर्के पर तत्काल प्रतिबंध लगाने संबंधी प्रस्ताव के साथ ही एक और अहम प्रस्ताव संसद में पेश किया है जिसके अंतर्गत इसी समिति ने जातीय और धार्मिक आधार पर बने राजनीतिक दलों के पंजीकरण को भी निलंबित करने की भी मांग की है.

 

ईस्टर पर हुए आतंकी हमलों का हवाला दिया 

पिछले साल श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर आतंकवादी हमला हुआ था जिसमें 250 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी. इन दोनों प्रस्तावों को संसद में प्रस्तुत करने वाली श्रीलंका की राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित समिति ने ईस्टर के आतंकी हमलों का हवाला देते हुए ये दोनों मांग की हैं. समिति ने कहा कि पुलिस के पास यह अधिकार होना चाहिए कि वह सार्वजनिक स्थानों पर किसी व्यक्ति को पहचानने के लिए उसे चेहरा दिखाने के लिये कह सके और बुर्का ऐसा नहीं करने देता.

ये भी पढ़ें. अफगानिस्तान में हिंसा रोकेगा तालिबान-अमरीका संघर्ष विराम