close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कश्मीरी और खालिस्तानी आतंकियों का गठबंधन! ISI ने KKRF नाम से बनाया नया आतंकी गुट

हर जंग में, हर मोड़ पर, हर मंच पर, हर मोर्चे पर बार-बार भारत के हाथों मात खाता पाकिस्तान रोज-रोज नई साजिशें रच रहा है. उसकी हर साजिश बुरी तरह से नाकाम होती है, उसका हर प्लान फेल होता है लेकिन फिर से वो एक नए षडयंत्र की पृष्ठभूमि बनाने लगता है.

कश्मीरी और खालिस्तानी आतंकियों का गठबंधन! ISI ने KKRF नाम से बनाया नया आतंकी गुट

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर को मोदी सरकार ने जब से आर्टिकल 370 की अकड़न से आजाद किया है तब से इमरान हुकूमत, पाक फौज और वहां की खुफिया एजेंसी ISI की नींद हराम हुई पड़ी है. यूनाइटेंड नेशन्स से लेकर दुनिया के हर मंच पर कश्मीर को लेकर पाकिस्तान का प्रपंच काम नहीं आया तो उसने फिर से आतंक-परस्ती का रास्ता अख्तियार करने की ठान ली है.

आतंकिस्तान पाकिस्तान की ने रची नई साजिश  

इसके लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI ने K-2 प्लान तैयार किया है. K-2 का मतलब कश्मीर और खालिस्तान

जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद एक्सपोर्ट करते रहे पाकिस्तान ने इस K-2 प्लान के जरिए अब पंजाब में खालिस्तान के नाम पर फिर से आतंकवाद की फसल को लहलाने की साजिश रची है. पाकिस्तान ने भारत में नए सिरे से आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने के लिए K-2 फॉर्मूला बनाया है

कश्मीरी आतंकियों और खालिस्तानी आतंकियों को एक साथ लाने के लिए और भारत में गड़बड़ी फैलाने के मकसद से पाकिस्तान ने K-2 फॉर्मूले के तहत एक नया गुट बनाया है जिसका नाम रखा गया है- KASHMIR KHALISTAN REFERENDUM FRONT यानी KKRF.

कश्मीर-खालिस्तान को लेकर बनाया K-2 प्लान

कश्मीर में दहशत फैलाने वाले आतंकियों के हाथ मजबूत करने के लिए खालिस्तानी आतंकियों का सहारा पाकिस्तान ले रहा है. जिस पंजाब से अरसे पहले खालिस्तान की आवाज और खालिस्तानी आतंकियों का खात्मा हो चुका है वहां फिर से दहशतगर्दी के लिए पाकिस्तान ने K-2 का प्लान और KKRF का शिगूफा छोड़ा है. दहशतगर्दी की इस मुहिम के तहत ISI ने कश्मीरी और खालिस्तानी आतंकियों के बीच कई राउंड की बैठकें भी करवाई है ताकि साजिश को अंजाम दिया जा सके.

पंजाब से भागकर खालिस्तानी आतंकियों का एक गुट पाकिस्तान में सांसें ले रहा है. कुछ दूसरे देशों में भी गिने-चुने खालिस्तानी आतंकी बचे हुए हैं. इमरान हुकूमत ने ये साजिश रची है कि पाकिस्तान के अलावा ब्रिटेन, कनाडा, अमेरिका जैसे देशों में जो खालिस्तानी आतंकी हैं, उन्हें एक साथ जोड़ा जाए और इस नापाक काम में पाकिस्तान के दूतावास भी इन खालिस्तानी ग्रुप की मदद कर रहे हैं.

करतारपुर में अगले महीने होने वाले गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के कार्यक्रम के मौके पर खालिस्तानी आतंकियों को जुटाने में पाकिस्तान जी-जान से जुटा हुआ है. कुछ देशों में जो गिने-चुने खालिस्तानी समर्थक हैं, उन्हें इमरान सरकार पाकिस्तान आने का न्यौता दे रही है. इन खालिस्तानी आतंकियों की आवभगत के लिए पाकिस्तान सरकार ने पूरी तैयारी भी कर रखी है.

खालिस्तानी आतंकियों को एकजुट कर रहा पाक 

KKRF के बहाने ISI खालिस्तानी समर्थकों की मदद से पंजाब में युवकों को आतंकी संगठनों में भर्ती करने की साजिश भी रच रही है. पिछले महीने ही पंजाब में सीमा पार से ड्रोन के जरिए हथियार और दूसरे सामान भी गिराए गए थे. ड्रोन के जरिए पंजाब में एके-47 राइफल, पिस्टल से लेकर हैंड ग्रेनेड, सैटेलाइट फोन भी भेजे गए थे. इसे भी पाकिस्तान के K-2 प्लान से जोड़कर देखा जा रहा है.

भले ही पाकिस्तान ने खालिस्तानी आतंकवादियों को उकसा कर पंजाब में नए सिरे से दहशतगर्दी को हवा देने की साजिश रची हो लेकिन वो ये जान ले कि उसकी हर करतूत का जवाब देने के लिए भारत की तरफ से भरपूर तैयारियां की गई हैं. गृह मंत्रालय ने पाकिस्तान के प्लान से निपटने के लिए पंजाब में ज्वाइंट काउंटर ऑपरेशन सेंटर तैयार किया है जिसमें एनआईए, रॉ, आईबी जैसी एजेंसियों के साथ-साथ पंजाब पुलिस और टेरर काउंटर टीम को शामिल किया गया है.

जंग से लेकर प्रोपगैंडा तक में जिस तरह से पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को भारत बार-बार पटखनी देता रहा है, उसी तरह से इस बार ISI के K-2 प्लान को पीटने के लिए भारत पूरी तरह से तैयार है. मतलब साफ है कि पाकिस्तान का कोई भी भारत-विरोधी मंसूबा कामयाब नहीं हो पाएगा और उसकी हर साजिश को मुंहतोड़ जवाब मिलेगा.