close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्रिंस चार्ल्स भारत में मनाएंगे अपना 71वां जन्मदिन

ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स 13-14 नवंबर को वे भारत में दो दिवसीय दौरे पर होंगे, वह अपना 71वां जन्मदिन यहीं मनाएंगे. 

प्रिंस चार्ल्स भारत में मनाएंगे अपना 71वां जन्मदिन
भारत आएंगे प्रिंस चार्ल्स

नई दिल्ली: अभी हाल ही में प्रिंस विलियम और केट मिडिलटन अपने पांच दिवसीय पाकिस्तान दौरे पर थे. अब उनके पिता प्रिंस चार्ल्स ने भारत भ्रमण की योजना बनाई है. प्रिंस चार्ल्स के कार्यालय अधीक्षक ने सोमवार को देर रात जानकारी दी कि वे 13-14 नवंबर को वे भारत में दो दिवसीय दौरे पर होंगे. इस दौरान प्रिंस चार्ल्स भारत सरकार से जलवायु परिवर्तन, सस्टेनेबल मार्केट, सोशल फाइनेंस जैसे तमाम विषयों पर चर्चा-परिचर्चा करते नजर आएंगे और भारत-ब्रिटेन संबंधों की गांठ को और मजबूत करते दिखेंगे.

दो साल में भारत की दूसरी यात्रा 
प्रिंस चार्ल्स की भारत में यह दसवीं यात्रा होगी. देखा जाए तो हाल के 2 वर्षों में यह दूसरी यात्रा होगी. ANI से मिली जानकारी के मुताबिक "वेल्स के प्रिंस" 13-14 नवंबर को अपने रॉयल हाइनेस ऑटम्न टूर के मौके पर भारत पधारेंगे. इस दौरान प्रिंस चार्ल्स 14 नवंबर को भारत में ही अपना 71वां जन्मदिन मनाएंगे. उनके इस पूरे प्लान की जानकारी प्रिंस चार्ल्स के ऑफिस से ट्वीट के माध्यम से मिली. 

कॉमनवेल्थ का हिस्सा है भारत
पिछली बार प्रिंस चार्ल्स 2017 में आए थे. उस वक्त वे एशिया के 10 दिवसीय दौरे पर थे, जिसमें मलेशिया, सिंगापुर और ब्रुनेई के बाद उनका भारत आगमन हुआ था. उस यात्रा में प्रिंस चार्ल्स के साथ उनकी पत्नी कॉर्नवॉल की प्रिंसेज कैमिला भी थीं. मालूम हो कि भारत कॉमनवेल्थ समूह का एक भाग है जिसका प्रमुख ब्रिटेन के राजघराने हैं. दरअसल, कॉमनवेल्थ में ब्रिटेन के पुराने औपनिवेशिक देश शामिल हैं. इसमें मौजूद सभी राष्ट्र राजनीतिक और समाजिक रूप से भले स्वतंत्र हों पर नैतिक रूप से इन्होंने ब्रिटेन की अध्यक्षता स्वीकार की है. फिलहाल महारानी एलिजाबेथ द्वितीय इसकी प्रमुख हैं और प्रिंस चार्ल्स इसके उत्तराधिकारी.

वेल्स के प्रिंस का भारत आगमन ऐसे समय में हो रहा है जब अयोध्या राम मंदिर को लेकर कुछ अहम सुनवाई होने को है और कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद से घाटी में शांति स्थापित करने की कोशिशें लगातार जारी हैं. इसके अलावा पर्यावरण संरक्षण को लेकर भी भारत सरकार ने कई सार्थक कदम उठाएं हैं जिसपर प्रिंस चार्ल्स के आगमन पर चर्चा हो सकती है. हालांकि, अभी तक भारत सरकार की ओर से इस दौरे से संबंधित किसी भी जानकारी की आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है.